Tuesday, Nov 29, 2022
-->
no-relief-found-in-child-pgi-girl-injured-in-dog-attack-returned-without-treatment

चाइल्ड पीजीआई में नहीं मिली राहत, बगैर इलाज के लौटी कुत्ते के हमले में जख्मी बच्ची  

  • Updated on 11/20/2022

नई दिल्ली/टीम डिजीटल। विजय नगर में बीते शनिवार शाम को एक वर्षीय बच्ची को कुत्तों ने नोच लिया था, जिससे बच्ची के चेहरे पर गहरे घाव हो गए। जिसके बाद उसे जिला एमएमजी अस्पताल से नोएडा के चाइल्ड पीजीआई रेफर किया गया था, लेकिन यहां उसे उपचार तक नहीं मिल सका। ना ही एंटी रेबीज इंजेक्शन लगाया गया। उपचार नहींं मिलनें पर परिजन बच्ची को वापस घर लेकर आ गए। यहां परिजनों ने प्राइवेट चिकित्सक से एंटी रेबीज इंजेक्शन लगवाया।

रविवार को दोबारा बच्ची को जिला एमएमजी अस्पताल में भर्ती कराया गया। यहां इमरजेंसी में उपचार चल रहा है। 
बता दें कि विजय नगर के बहरामपुर में सतपाल पत्नी हंसमुुखी व दो बच्चों संग यहां रह रहा है। शनिवार शाम को मां अपनी बच्ची संग घर के बाहर बैठी थी। बच्ची रिया पड़ोस के कुछ बच्चों के साथ खेलने लगी, इसी दौरान गली में ही घूमने वाला आवारा कुत्ता ने बच्ची रिया के चेहरे पर बुरी तरह से काट लिया।

बच्ची के चीखने की आवाज सुनकर उसकी मां ने बच्ची को कुत्ते से बचाया था। परिजन बच्ची को लेकर एमएमजी अस्पताल पहुंचे, जहां बच्ची को प्राथमिक उपचार और टिटनेस का इंजेक्शन देकर नोएडा चाइल्ड पीजीआई के लिए रेफर कर दिया। सतपाल के अनुसार नोएडा के अस्पताल में पहुंचने पर मौजूद महिला डॉक्टर ने कुत्ते काटे के बाद लगने वाला एंटी रेबीज इंजेक्शन नहीं होने और प्लास्टिक सर्जन होने से इनकार करते हुए उपचार करने से मना कर दिया। इस पर सतपाल ने बच्ची को जीटीबी या किसी और अस्पताल में रेफर किए जाने के लिए कहा, लेकिन अस्पताल प्रबंधन ने इससे भी इनकार कर दिया। इस पर दो घंटे बाद भी बच्ची को उपचार नहीं मिला सका।

जिसके बाद वह बच्ची को घर लेकर आ गए और विजय नगर में ही एक निजी डॉक्टर एंटी रेबीज इंजेक्शन लगवाया और कुछ दवाएं देकर घर भेज दिया। रविवार दोपहर में सतपाल बच्ची को दोबारा से एमएमजी अस्पताल की इमरजेंसी में पहुुुंचा। यहां प्रारंभिक उपचार शुरु कर दिया। चिकित्सकों के अनुसार बच्ची के चेहरे पर गहरे घाव है, टांके नहीं लग सकते। एमएमजी अस्पताल के सीएमएस डॉ. मनोज चतुर्वेदी ने बताया कि अस्पताल में प्लास्टिक सर्जन नहीं है। दिल्ली के जीटीबी और मेरठ के एलएलआरएम अस्पताल में संपर्क किया जा रहा है। वहां के प्लास्टिक सर्जन बच्ची को अपने यहां भेजने के लिए कहते हैं तो बच्ची को रेफर कर दिया जाएगा, हालांकि तब तक अस्पताल में भर्ती रखकर उपचार किया जाएगा।
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.