Saturday, Mar 23, 2019

Exclusive Interview 2: आतंक के साए में पाक से बातचीत नहीं- राहुल गांधी

  • Updated on 3/7/2019

नई दिल्ली/अकु श्रीवास्तव व शेषमणि शुक्ल। कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी देश के सबसे बड़े चुनावी समर के लिए कमर कसकर पूरी तरह से तैयार हैं। अपने भाषणों में वह सीधे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और भारतीय जनता पार्टी को निशाना बना रहे हैं। भाजपा की केन्द्र सरकार में भ्रष्टाचार, राफेल घोटाला, आतंकवाद, जीएसटी, नोटबंदी, बेरोजगारी, किसानों की कर्ज माफी, कालाधन आदि मुद्दों को लेकर वह लगातार आक्रामक हैं।

भाजपा सरकार को पूरी तरह से फेल मानते हुए वह साफ कहते हैं कि कई बड़ी गलतियां इस सरकार में हुई हैं। उनकी सरकार आने के बाद वह यह सब ठीक करेंगे। नवोदय टाइम्स, पंजाब केसरी, जगबाणी, हिंद समाचार से राहुल गांधी ने हर विषय पर खुलकर बातचीत की और लोकसभा चुनावों को लेकर अपने पक्के इरादे जाहिर किए। प्रस्तुत है अकु श्रीवास्तव व शेषमणि शुक्ल से बातचीत के प्रमुख अंश:

इस इंटरव्यू का पहला पार्ट पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

कश्मीर समस्या का क्या समाधान है? 
जम्मू-कश्मीर में आतंकवाद को खत्म करने, शांति बहाली करने और आम जनता को देश की मुख्यधारा से जोडऩे के लिए हमने एक रणनीति के तहत कांग्रेसनीत यूपीए सरकार में काम किया था। डॉ. मनमोहन सिंह के नेतृत्व में एक पूरी टीम थी, जिसमें मैं भी शामिल था, चिदंबरम जी भी, जयराम जी भी और कई लोग थे।

2004 से 2014 तक अगर आप कश्मीर की स्थिति को देखें, तो हिंसा और आतंकवाद की वारदातों में लगातार गिरावट आई थी। हमने पंचायतीराज चुनाव करवाए, ताकि जमीनी प्रजातंत्र मजबूत हो। हम रतन टाटा के टाटा समूह समेत कई बड़े-बड़े उद्योग समूहों को जम्मू-कश्मीर लेकर गए, ताकि निजी क्षेत्र और स्वरोजगार के मौके बढ़ें। 2013-14 में जम्मू-कश्मीर में हिंसा इस देश का मुद्दा नहीं था, यही हमारी कामयाबी थी।

लेकिन आज कश्मीर की हालत किसी से छिपी नहीं है। 2014 में मोदी सरकार बनने के बाद, हमने अरुण जेटली को आगाह किया कि पीडीपी-बीजेपी गठबंधन ने उन्हें सत्ता में तो ला दिया, परंतु कश्मीर की शांति को पूरी तरह से चकनाचूर कर दिया। लेकिन उनका ख्याल था कि कश्मीर में कोई समस्या नहीं।

अगर समस्या नहीं, तो मोदी सरकार के 56 महीने में हमारे 500 के करीब जवान क्यों शहीद हो गए? पाकिस्तान से सीमा और एलओसी पर सीजफायर वायलेशन की घटनाएं यूपीए की तुलना में 632 से लगभग 10 गुना बढ़कर 5660 हो गईं। 

पुलवामा की घटना को किस तरह से देखते हैं?
पुलवामा में हमारे 40 जवान शहीद हुए। इस उग्रवादी घटना के लिए जहां पाकिस्तान प्रायोजित आतंकवादी जिम्मेदार हैं, तो दूसरी तरफ मोदी सरकार की भी राष्ट्रीय सुरक्षा और इंटेलिजेंस की विफलता इसके लिए जिम्मेदार है। सच यह है कि भाजपा की ढुलमुल नीतियों के चलते ही पाकिस्तान यह दुस्साहस कर पाया तथा जम्मू-कश्मीर में आतंकी घटनाएं इतनी बढ़ गईं। प्रधानमंत्री अपनी जिम्मेदारियों से नहीं बच सकते हैं। उन्हें इसका अहसास होना चाहिए।

AAP से समझौते पर बोले राहुल गांधी, कांग्रेस की दिल्ली इकाई नहीं चाहती गठबंधन

क्या पाकिस्तान से बातचीत शुरू करनी चाहिए?
आज की स्थिति में तो बिल्कुल नहीं। आतंक के साए में सार्थक बातचीत कैसे हो सकती है?

पंजाब में अमरिंदर सरकार को लेकर आप क्या सोचते हैं?
पंजाब में कैप्टन अमरिंदर सिंह के नेतृत्व में हमारी सरकार ने अच्छा काम किया है। हमारी उपलब्धियां कई हैं। मैं सिर्फ 3 बातों पर ध्यान केंद्रित करूंगा। अर्थव्यवस्था में सुधार हुआ है। राजकोषीय घाटा 2016-17 में 12.36 प्रतिशत से घटकर 2017-18 में 2.65 प्रतिशत हो गया है।

सकल राज्य घरेलू उत्पाद (2017-18) में 21 प्रतिशत की वृद्धि है। नशे के खिलाफ सरकार ने निर्णायक कदम उठाए हैं। 25,000 से अधिक लोग गिरफ्तार किए गए व 556 किलोग्राम से अधिक हेरोइन जब्त की गई है।

दवाओं के इस्तेमाल और पैडलर्स के खिलाफ हमने जीरो टॉलरेंस की नीति लागू की है। हमने छोटे और सीमांत किसानों (5 एकड़ तक) का 2 लाख या उससे कम तक का कृषि ऋण माफ किया है, जिससे कि 8.5 लाख किसानों को फायदा मिला है।

कांग्रेस महिलाओं को लेकर बात तो बहुत करती है, पर हक के सवाल पर आपका क्या कहना है?
हम महिला आरक्षण बिल को पारित करने के प्रति संकल्पबद्ध हैं। महिलाओं को हम नेतृत्व की पहली पंक्ति में देखना चाहते हैं। पंजाब में हमने पंचायतीराज संस्थाओं में महिलाओं को 50 प्रतिशत आरक्षण दिया है।  पार्टी में भी हम महिलाओं को उचित सम्मान दे रहे हैं और आगे भी देते रहेंगे।

#Rafale दस्तावेज की चोरी पर राहुल ने कहा-  नरेंद्र मोदी पर तो FIR होनी चाहिए

कांग्रेस आर्थिक फ्रंट पर मोदी सरकार को कैसे देखती है?
मोदीजी से ना व्यवस्था संभली है ना अर्थव्यवस्था। मोदी जी कहते थे कि 100 दिन में 80 लाख करोड़ कालाधन वापस लाएंगे। वह तो आया नहीं, उल्टा नीरव मोदी, मेहुल चोकसी समेत बैंकों के भगोड़े देश का 1 लाख करोड़ लेकर भाग गए। मोदी सरकार की नीतियों के चलते ही दो-दो रिजर्व बैंक के गवर्नर व मुख्य आर्थिक सलाहकार को इस्तीफा देना पड़ा। सच यह है कि पूरे देश में मंदी है, अर्थव्यवस्था को सरकार ने बर्बाद कर दिया है, परंतु प्रधानमंत्री जी इस बात को मानने को भी तैयार नहीं। 

विरोधी दलों की एकता को लेकर काफी प्रयास किए गए, लेकिन तालमेल का अभाव है। क्या करेंगे?
ऐसा सिर्फ संभव ही नहीं, यह वास्तविकता है। हम देशहित में मोदी जी को हराने जा रहे हैं। हमारे सुर-ताल सब साथ हैं और पक्के हैं। कई राज्यों में जैसे बिहार, झारखंड, तमिलनाडु, महाराष्ट्र में हमने गठबंधन कर लिया है। पूरा देश साथ आ रहा है। चिंता की कोई बात नहीं है।

एनआरसी और पीआरसी के मुद्दे पर कांग्रेस का क्या स्टैंड है?
पूर्व के लोगों की एक विशेष जीवन पद्धति, संस्कृति और परंपरा है, जैसे पंजाब के हमारे भाई-बहनों की भी। हम इस देश की विविधता का सम्मान करते हैं। नॉर्थ ईस्ट के लोग, जो सदियों से एक साथ मिलकर रहते आ रहे हैं, बीजेपी उनके अंदर दरार पैदा करना चाहती है और हम इसके खिलाफ हैं।

एनआरसी को एक गलत मंशा से लागू किया जा रहा है। हमारी मांग है कि एनआरसी के कारण किसी भी भारतवासी की नागरिकता को नहीं छीना जाना चाहिए।

आपके अक्सर मंदिर दर्शनों पर भाजपा सवाल उठाती रही है। सॉफ्ट हिंदुत्व क्या कांग्रेस की किसी रणनीति का हिस्सा है।
धर्म किसी व्यक्ति विशेष की बपौती नहीं। हिंदू धर्म का तो आधार ही उदारता है, करुणा है और सबको अपने आप में समेट लेने की भावना है।

मुझे मालूम है कि मेरे मंदिर जाकर पूजा करने से भाजपा को परेशानी होती है। वो विचलित हो जाते हैं। देखिए, मैं सार्वजनिक जीवन में हूं। मुझे जब कोई आस्था से धर्मस्थान पर बुलाता है, तो मैं खुशी से जाता हूं। अपनी मर्जी से जाता हूं। अब भाजपा को इससे डर लगता है तो वो भाजपा का मसला है। जहां भी जाना होगा मैं जाऊंगा।

राहुल बोले- राफेल मामले में अब पीएम मोदी पर केस चलाने के हैं पर्याप्त सबूत

क्या कर्ज माफी ही किसानों के उद्धार का एकमात्र रास्ता है?
कर्ज माफी पर मेरा तर्क बड़ा सरल है। अगर मोदी जी, जेटली जी 15 लोगों का 3.5 लाख करोड़ कर्ज माफ कर सकते हैं, तो फिर हिन्दुस्तान के विद्यार्थी, हिन्दुस्तान के किसान, हिन्दुस्तान के गरीब को राहत क्यों नहीं मिलनी चाहिए? किसान-मजदूर दिनभर देश का पेट भरने के लिए मेहनत करते हैं।

उन्होंने क्या गलती की है? उनका कर्ज क्यों माफ नहीं हो सकता? मेरा तर्क सबको एक नजर से न्याय देने का है। मैं मानता हूं कि अकेले कर्ज माफी से किसान-मजदूर का संपूर्ण कल्याण नहीं हो सकता। आपको नए तरीके से खेती को बढ़ाने के बारे सोचना पड़ेगा।

मेरी सोच है कि कृषि क्षेत्र भारत की सबसे बड़ी शक्ति है और सामरिक संपदा भी। भाजपा सरकार अपनी नीतियों के चलते एक तरह से कृषि क्षेत्र पर पाबंदियां लगा करके बंद करना चाहती है।

पिछले पांच सालों में हिन्दुस्तान की सरकार ने देश को क्या समर्थन दिया? क्या तकनीकी मदद दी? क्या खाद-बीज की कीमतें घटाईं? क्या उचित दाम मिला? सच यह है कि देश का किसान-मजदूर भाजपा सरकार में बुनियादी विश्वास खो चुका है। 

#Rafale: कांग्रेस ने फिर बोला हमला- PM के खिलाफ भ्रष्टाचार निरोधक कानून के तहत बनता है मामला

अभी सुषमा स्वराज ओआईसी समिट होकर आई हैं? इसे आप कितनी बड़ी जीत मानते हैं?
जीत! काहे की जीत? जिसे मोदी सरकार कूटनीतिक जीत बताकर ढिंढोरा पीट रही थी, वह असल में कूटनीतिक विफलता साबित हुई। भारत की विदेश मंत्री ओआईसी की बैठक में गईं और बैठक के अंत में वहां जम्मू-कश्मीर को लेकर भारत के हितों के खिलाफ प्रस्ताव पारित किया गया। क्या इससे सरकार की कूटनीतिक विफलता साफ जाहिर नहीं होती?  

क्या हम भावी प्रधानमंत्री उम्मीदवार से बात कर रहे हैं?
यह मैं कैसे कह सकता हूं। यह तो हिन्दुस्तान की जनता को तय करना है। फैसला चुनाव के बाद लिया जाएगा। जो फैसला लिया जाएगा मुझे वो मान्य होगा।

राम मंदिर पर कांग्रेस अध्यक्ष का क्या स्टैंड है?
यह मामला सुप्रीम कोर्ट में विचाराधीन है। अदालत जो भी निर्णय करे, वो सबके लिए होगा और हमारी अपील होगी कि उसे सब लोग मानें ।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.