Thursday, Feb 27, 2020
not-pathri-shirdi-will-be-sai-s-birthplace-sai-baba-janamsthan-sai-baba-birth-place

पाथरी नहीं, शिरडी होगा साईं का जन्मस्थान, सरकार के आश्वासन पर आंदोलन खत्म

  • Updated on 1/21/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। महाराष्ट्र (Maharashtra) में साईंबाबा (Sai Baba) के जन्मस्थान को लेकर चल रहा विवाद अब सुलझ गया है। सरकार पाथरी (Pathri) को साईं जन्मस्थल का दर्जा नहीं देगी, लेकिन पाथरी को तीर्थस्थल के रूप में विकसित करने के लिए 100 करोड़ रूपए दिए जाएंगे।

दरअसल सोमवार को राज्य अतिथिगृह सहयाद्री में मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में ये निर्णय लिया गया। इस आश्वासन के बाद शिरडी (Shirdi) वासियोंने अनिश्चितकालीन आंदोलन अत्म कर दिया है। 

साईंबाबा ट्रस्ट के चेयरमैन सुरेश हावरे को मिला राज्यमंत्री का दर्जा, विपक्ष खफा

शिरडीवासी सरकार के फैसले से हुए थे नाराज
राज्य के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने शिरडी से 281 किलोमिटर दूर परभणी जिले के पाथरी गांव को साई का जन्मस्थान बताते हुए विकास के लिए 100 करोड़ रूपये देने की घोषणा की थी।

शिरडीवासी इससे नाराज हो गए और रविवार को शिरडी बंद रखा था। जिसके बाद उद्धव ठाकरे की ओर से बैठक में शामिल होने का न्योता मिलने के बाद देर रात आंदोलन खत्म कर दिया गया था। 

ट्वीट में साईंबाबा का नाम ले फंसे राहुल, शिरडी न्यास ने कहा माफी मांगो

साईंबाबा जन्मस्थान को लेकर बैठक
सोमवार को शिरडी के बीजेपी विधायक और पूर्वमंत्री राधाकृष्ण विखे पाटिल सहित शिरडी ग्रामसभा के पदाधिकारी सहयाद्री अतिथि गृह पहुंचे और बैठक में हिस्सा लिया।

इस बैठक में उपमुख्यमंत्री अजीत पवार सहित प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष और राजस्व मंत्री बाबासाहेब थोरात, साईं संस्थान के पदाधिकारी सहित अन्य मंत्री भी शामिल थे। 

शिरडी के साईंबाबा मंदिर में श्रद्धालु ने दो किलोग्राम सोने की पादुका भेंट की

आश्वासन के बाद आंदोलन वापस
साईबाबा जन्मस्थान विवाद को लेकर हुई बैठक के बाद राधाकृष्ण विखे पाटिल ने कहा कि हमने अपना पक्ष रखा। मुख्यमंत्री ने हमारी मांग को स्वीकार किया है। उनके आश्वासन के बाद आंदोलन वापस ले लिया गया। उन्होंने कहा कि हमारा पाथरी के विकास का विरोध नहीं है।

साईंबाबा के जन्मस्थान को लेकर हुए विवाद के चलते CM उद्धव ने बुलाई बैठक

उद्धव ठाकरे ने अपना बयान वापस लिया
शिवसेना सांसद सदाशिव लोखंडे ने कहा कि मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने अपना बयान वापस लिया जिसमें उन्होंने कहा था कि पाथरी साईंबाबा का जन्मस्थान है। उन्होंने कहा कि पाथरी के विकास के लिए तैयार किए गए विकास प्रस्ताव से भी साईं जन्मस्थान का उल्लेख नहीं होगा। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.