noted indian journalist ravish kumar honored with ramon magsaysay award pm modi still quite

पत्रकार रवीश कुमार को मिला 2019 का रेमन मैगसायसाय अवार्ड, PM मोदी फिर चुप

  • Updated on 9/9/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। चर्चित भारतीय पत्रकार रवीश कुमार को सोमवार को एशिया का नोबेल पुरस्कार माने जाने वाले रेमन मैगसायसाय अवार्ड से सम्मानित किया गया। उन्होंने कहा कि भारत का मीडिया ‘संकट’ में है और यह संकट ढांचागत है, अचानक नहीं हुआ है। रेमन मैगसायसाय अवार्ड के प्रशस्ति पत्र में कहा गया है कि एनडीटीवी इंडिया के सीनियर एक्जीक्यूटिव एडिटर और भारत के प्रभावशाली टीवी पत्रकारों में एक कुमार (44) अपनी खबरों में आम लोगों की समस्याओं को तरजीह देते हैं। इस बार भी पीएम मोदी कोई प्रतिक्रिया जाहिर नहीं की है। वहीं दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने रवीश के सम्मान पर फिर से अपनी बधाई दी है।  

#JNU राजद्रोह मामले में ओछी राजनीति कर रही है #BJP : #AAP

फिलीपीन की राजधानी मनीला में पुरस्कार ग्रहण करते हुए कुमार ने कहा कि भारतीय मीडिया संकट की स्थिति में है और यह संकट अचानक या आकस्मिक नहीं हुआ है बल्कि ढांचागत तरीके से इसे अंजाम दिया गया। पत्रकार होना अब व्यक्तिगत प्रयास हो गया है। मीडिया के संकट को समझना और भी महत्वपूर्ण हो जाता है। कुमार ने कहा, ‘‘ मैं खुद के लिए तो खुश हूं, लेकिन जिस पेशे की दुनिया से आता हूं, उसकी हालत उदास भी करती है।’’ 

ज्वैलरी बिजनेस में भी छाई मंदी, कारीगरों की जा सकती हैं नौकरियां

कुमार ने अपने संबोधन में कहा किड्ड पत्रकार होना अब व्यक्तिगत प्रयास हो गया है, क्योंकि समाचार संगठन और उनके कॉरपोरेट एक्जीक्यूटिव अब ऐसे पत्रकारों को नौकरियां छोड़ देने के लिए मजबूर कर रहे हैं, जो समझौता नहीं करते। फिर भी यह देखना हौसला देता है कि ऐसे और भी हैं, जो जान और नौकरी की परवाह किए बिना पत्रकारिता कर रहे हैं। कुमार ने पांच अगस्त को अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधानों को खत्म किए जाने के बाद कश्मीर के हालात और घाटी में संचार पर पाबंदी के विषय पर भी अपनी राय रखी। 

जन न्यायाधिकरण को भी नहीं भा रही है मोदी सरकार की #NRC नीति

जेठमलानी ने कभी कोसा था मोदी, जेटली और चिदंबरम को, वाजपेयी से बना ली थी दूरी

उन्होंने कहा,‘‘ जब कश्मीर में इंटरनेट बंद किया गया, पूरा मीडिया सरकार के साथ चला गया, लेकिन कुछ ऐसे भी थे, जिन्होंने सच दिखाने की हिम्मत की, और ट्रोलों की फौज का सामना किया।’’ कुमार ने कहा, ‘‘हर जंग जीतने के लिए नहीं लड़ी जाती... कुछ जंग सिर्फ इसलिए लड़ी जाती हैं, ताकि दुनिया को बताया जा सके, कोई है, जो लड़ रहा है। मैं उन सभी पत्रकारों की ओर से इस सम्मान को स्वीकार करता हूं।’’ 

यौन उत्पीड़न मामले में अकबर के खिलाफ प्रिया रमानी ने दी जोरदार दलीलें

रेमन मैगसायसाय पुरस्कार एशिया का सर्वोच्च सम्मान है और हर साल एशिया के लोगों या संगठनों को दिया जाता है। बिहार के जितवारपुर गांव में जन्मे कुमार 1996 में नयी दिल्ली टेलीविजन नेटवर्क (एनडीटीवी) से जुड़े थे और रिपोर्टर के तौर पर काम करते हुए आगे बढ़े। रवीश कुमार चैनल पर ‘प्राइम टाइम’ नामक समाचार कार्यक्रम करते हैं। कुमार समेत पांच लोगों को पुरस्कार देने की घोषणा की गयी थी। 

चंद्रयान-2 के आर्बिटर ने विक्रम लैंडर का पता लगाया  : ISRO

वर्ष 2019 के रेमन मैगसायसाय पुरस्कार के अन्य विजेताओं में म्यांमा से को स्वे विन, थाइलैंड से अंगखाना नीलापिजीत, फिलीपीन से रेमोंडो पुजेंटे कयाबिब और दक्षिण कोरिया से किम जोंग की का नाम शामिल है। फिलीपीन के सर्वाधिक प्रतिष्ठित राष्ट्रपति रहे रेमन डेल फिएरो मैगसायसाय के नाम पर 1957 में इस पुरस्कार की शुरूआत की गयी थी। द्वितीय विश्वयुद्ध के बाद वह देश के तीसरे राष्ट्रपति थे। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.