Saturday, Apr 04, 2020
now tatkal tickets will be available easily rpf took big action

भारतीय रेलवेः अब तत्काल टिकट मिलेगी आसानी से,आरपीएफ ने की बड़ी कार्रवाई

  • Updated on 2/18/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। भारतीय रेलवे (Indian Railway) ने आज एक बड़ी कार्रवाई करते हुए  60 एजेंटों को गिरफ्तार किया है जो तत्काल टिकटों की बुकिंग करने में शामिल रहता था। अब इन अवैध सॉफ्टवेयरों का सफाया होने  के बाद यात्रियों को तत्काल टिकट उपलब्ध होने में दिक्कत नहीं होगी। एक शीर्ष अधिकारी ने आज यह जानकारी दी है।

भगवान शिव करेंगे 'महाकाल एक्सप्रेस' की सुरक्षा! रेलवे ने AC बोगी में किया रिजर्वेशन

रेलवे सुरक्षा बल के महानिदेशक अरुण कुमार ने कहा कि सफाई अभियान का अर्थ है कि यात्रियों के लिए अब तत्काल टिकट घंटों तक उपलब्ध होंगे जो पहले बुकिंग खुलने के बाद कुछ मिनटों में ही समाप्त हो जाते थे। जिन लोगों को गिरफ्तार किया गया है उनमें कोलकाता का एक व्यक्ति भी है और संदेह है कि उसका संपर्क बांग्लादेश स्थित आतंकवादी संगठन जमात-उल-मुजाहिदीन बांग्लादेश से है।

ट्रेनों को स्पीड से दौड़ाने के लिए रेलवे को चाहिए 50 लाख करोड़

जनवरी में महानिदेशक ने कहा था कि एक ई-टिकट गिरोह का पर्दाफाश किया गया है जिसके तार संभवत: आतंकवाद के वित्तपोषण और धनशोधन से जुड़े हुए हैं। अधिकारियों ने आज स्पष्ट किया कि एएनएमएस, मैक और जगुआर जैसे अवैध सॉफ्टवेयर आईआरसीटीसी के लॉगिन कैप्चा, बुकिंग कैप्चा और बैंक ओटीपी को बाईपास करते जबकि वास्तविक ग्राहकों को इन सभी प्रक्रियाओं से गुजरना होता है।       

रेलवे के आरपीएफ में हुआ बदलाव, अब भारतीय रेलवे सुरक्षा बल सेवा होगा नाम

उन्होंने बताया कि एक सामान्य ग्राहक के लिए बुकिंग प्रक्रिया में आमतौर पर लगभग 2.55 मिनट लगते हैं, लेकिन ऐसे सॉफ्टवेयरों का उपयोग करने वाले इसे लगभग 1.48 मिनट में पूरी कर लेते।  रेलवे एजेंटों को तत्काल टिकट बुक करने की अनुमति नहीं देता और पिछले दो महीनों में आरपीएफ ने लगभग 60 अवैध एजेंटों को पकड़ा जो इन सॉफ्टवेयरों के जरिए टिकट बुक कर रहे थे। ऐसे में अन्य लोगों के लिए तत्काल टिकट प्राप्त करना वस्तुत: असंभव हो गया।

पूरा उत्तर भारत ठंड की चपेट में, घने कोहरे के चलते दिल्ली आ रही 25 ट्रेने आज होंगी लेट

 कुमार ने आज कहा कि अवैध सॉफ्टवेयरों के जरिए एक भी टिकट नहीं बुक किया जा रहा है। हमने आईआरसीटीसी से जुड़े सभी मुद्दों को हल कर लिया है तथा उन लोगों को भी पकड़ लिया जो सॉफ्टवेयर के प्रमुख ऑपरेटर थे।  कुमार ने कहा कि इन गिरफ्तारियों के साथ ही अधिकतर अवैध सॉफ्टवेयरों को ब्लॉक कर दिया गया है जो सालाना 50 करोड़ -100 करोड़ रुपये का कारोबार करते थे।       

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.