Sunday, Jan 19, 2020
nrc-in-bengal-mamta-said-she-will-not-be-allowed-to-apply-in-the-state

बंगाल में NRC को लेकर BJP और TMC आमने-सामने, ममता बोलीं राज्य में नहीं लागू होने दूंगी

  • Updated on 9/26/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। पश्चिम बंगाल (West Bangal) में एनआरसी (NRC) ने राजनीतिक बहस का रूप ले लिया है। एक तरफ जहां मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamta Banerjee) ने नागरिकता जाने के डर से 11 लोगों द्वारा आत्महत्या करने का दावा किया वहीं भाजपा नेता कैलाश विजयवर्गीय ने जोर दिया कि राज्य में एनआरसी लागू की जाएगी लेकिन किसी हिंदू को देश नहीं छोड़ना पड़ेगा। 

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी का ऐलान, कहा- पश्चिम बंगाल में नहीं लागू होगा NRC

अब तक 11 लोग मारे जा चुके हैं
बनर्जी ने प्रखंड विकास अधिकारियों (बीडीओ) एवं लोक प्रतिनिधियों से प्रत्येक घर जाने और भारत की नागरिकता छिनने के डर संबंधी लोगों की चिंताओं को दूर करने को कहा। उन्होंने पश्चिम मिदनापुर जिले के डेबरा में प्रशासनिक बैठक को संबोधित करते हुए कहा, एनआरसी (NRC) को लेकर फैली अफरा-तफरी में अब तक 11 लोग मारे जा चुके हैं। मैं लोगों का डर दूर करने के लिए सरकारी अधिकारियों एवं लोक प्रतिनिधियों से अपने-अपने इलाके में प्रत्येक घर में जाने को कहूंगी। 

बंगाल में राष्ट्रविरोधी तत्वों को नष्ट करने के लिए सर्जिकल स्ट्राइक की जरूरत: दिलीप घोष    

सरकार के कार्यक्रम का एनआरसी से कोई लेना-देना नहीं है 
बनर्जी ने कहा कि राशन कार्ड जारी करने, बदलने और उसको अद्यतन करने के उनके सरकार के कार्यक्रम का एनआरसी से कोई लेना-देना नहीं है जैसा कि कुछ लोग संदेह जता रहे हैं। हालांकि केंद्र ने पश्चिम बंगाल में भी एनआरसी की प्रक्रिया दोहराने के बारे में कोई फैसला अभी नहीं किया है लेकिन बीडीओ कार्यालयों, अन्य दफ्तरों के साथ ही नगर निकायों के कार्यालयों के बाहर निवास स्थान संबंधी आवश्यक दस्तावेज जुटाने के लिए बड़ी- बड़ी कतार देखी जा रही हैं। 

पाक PM इमरान खान ने मानी हार, कहा-मिशन कश्मीर पर नहीं मिला दुनिया का समर्थन

एनआरसी को लागू किया जाएगा: विजयवर्गीय  

वहीं भाजपा नेता विजयवर्गीय ने एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा, बंगाल में एनआरसी लागू होने को लेकर 100 फीसदी आश्वस्त रहें। लेकिन हिंदुओं को डरने की जरूरत नहीं है क्योंकि हम बहुत जल्द संसद में नागरिकता (संशोधन) विधेयक पेश करने वाले हैं। उन्होंने कहा, भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव के तौर पर मैं आप सभी को आश्वस्त करना चाहता हूं कि एनआरसी को लागू किया जाएगा लेकिन किसी भी हिंदू को देश नहीं छोडऩा होगा। प्रत्येक हिंदू को नागरिकता दी जाएगी। उन्होंने कहा कि कुछ राजनीतिक दल और नेता लोगों को गुमराह करने की कोशिश कर रहे हैं।  

स्वच्छ ऊर्जा के लिए कोयले से गैस बनाने की प्रौद्योगिकी पर विचार कर रहा भारत: PM मोदी

विजयवर्गीय ने आगे कहा, भारत कोई धर्मशाला नहीं
इतना ही नहीं विजयवर्गीय ने आगे कहा, भारत कोई धर्मशाला नहीं है कि बांग्लादेश, अफगानिस्तान और पाकिस्तान (मुस्लिम) के बहुसंख्यक समुदाय के लोग घुसपैठ करें, आतंक फैलाएं और हमारे नागरिकों की आजीविका छीन लें। 

बता दें कि असम में 31 अगस्त को प्रकाशित हुई एनआरसी की अंतिम सूची से बाहर रखे गए 19 लाख से ज्यादा लोगों में करीब 12 लाख हिंदू हैं। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह नागरिक पंजी और नागरिकता (संशोधन) विधेयक पर रखे सम्मेलन को संबोधित करने के लिए एक अक्टूबर को शहर का दौरा करेंगे।

comments

.
.
.
.
.