Thursday, Oct 29, 2020

Live Updates: Unlock 5- Day 28

Last Updated: Wed Oct 28 2020 03:36 PM

corona virus

Total Cases

7,990,643

Recovered

7,257,444

Deaths

120,067

  • INDIA7,990,643
  • MAHARASTRA1,654,028
  • ANDHRA PRADESH1,648,665
  • KARNATAKA809,638
  • TAMIL NADU714,235
  • UTTAR PRADESH474,054
  • KERALA402,675
  • NEW DELHI364,341
  • WEST BENGAL357,779
  • ARUNACHAL PRADESH325,396
  • ODISHA285,482
  • TELANGANA232,671
  • BIHAR213,383
  • ASSAM204,789
  • RAJASTHAN189,844
  • CHHATTISGARH179,654
  • GUJARAT169,073
  • MADHYA PRADESH168,483
  • HARYANA160,705
  • PUNJAB131,737
  • JHARKHAND100,224
  • JAMMU & KASHMIR92,677
  • CHANDIGARH70,777
  • UTTARAKHAND60,957
  • GOA42,747
  • PUDUCHERRY34,482
  • TRIPURA30,290
  • HIMACHAL PRADESH20,817
  • MANIPUR17,604
  • MEGHALAYA8,677
  • NAGALAND8,296
  • LADAKH5,840
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS4,274
  • SIKKIM3,863
  • DADRA AND NAGAR HAVELI3,227
  • MIZORAM2,359
  • DAMAN AND DIU1,381
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
number-of-girls-in-iits-is-unacceptably-low-says-president-kovind

राष्ट्रपति कोविंद ने कहा, IIT संस्थानों में छात्राओं की संख्या बढ़ाने पर हो काम

  • Updated on 7/20/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। देश के हर क्षैत्र में तरक्की के झंडे गाड़ रही लड़कियां एक तरफ जहां देश का सिर ऊंचा कर रही हैं, वहीं देश में अभी भी ऐसे कईं महत्वपूर्ण स्थान हैं जहां लड़कियाें की उपस्थिति बिल्कुल भी संतोषजनक नहीं है। इस बारे में चर्चा करते हुए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने शुक्रवार को देश के आईआईटी में लड़कियों की कम संख्या पर चिंता व्यक्त की। 

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने शुक्रवार को कहा कि, लड़कियां बोर्ड परीक्षाओं, कालेजों और विश्वविद्यालयों में लड़कों को अक्सर पछाड़ देती हैं लेकिन भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थानों (आईआईटी) में उनकी संख्या ‘‘दुखद रूप से कम’’ है और इसे बढ़ाने की जरूरत है।

राहुल गांधी के भाषण से मोदी सरकार के सांसद हुए क्लीन बोल्ड

2017 में 1,000 से भी कम लड़कियां भर्ती हुई 

उन्होंने आईआईटी खड़गपुर के 64वें दीक्षांत समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि 2017 में आईआईटी संयुक्त प्रवेश परीक्षा में बैठने वाले अभ्यर्थियों की संख्या एक लाख 60 हजार थी जिसमें लड़कियां केवल 30 हजार थी। उस वर्ष आईआईटी की स्नातक कक्षाओं में 10,878 छात्र भर्ती हुये थे जिसमें केवल 995 लड़कियां थीं। 

हर जगह आगे रहने वाली लड़कियां IIT में पीछे क्यों

राष्ट्रपति कोविंद ने कहा, यह विषय मुझे लगातार परेशान करता है। यह नहीं चल सकता, हमें इन संख्याओं के बारे में कुछ करना चाहिए। उन्होंने कहा, जब कोई बोर्ड परीक्षाओं के बारे में सोचता है तो लड़कियां अच्छा परिणाम लाती हैं। वे अक्सर लड़कों को पछ़ाड़ देती हैं। मैं देश भर में जिन कालेजों और विश्वविद्यालयों में जाता हूं, छात्रों के मुकाबले छात्राओं द्वारा ज्यादा पदक जीतने की प्रवृत्ति देखता हूं। (लेकिन आईआईटी में) छात्राओं की संख्या दुखद रूप से कम है।

राहुल गांधी की पीएम मोदी को झप्पी, स्पीकर सुमित्रा महाजन ने सुनाई खरी-खरी  

तकनीकी क्षेत्र में बढ़े महिलाओं की भागीदारी

राष्ट्रपति ने कहा कि, आईआईटी खड़गपुर में प्रवेश पाने वाले 11,653 छात्रों में से 1,925 लड़कियां हैं। देश में उच्चतर शिक्षा और विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी में महिलाओं की भागीदारी आगामी दशक में उचित एवं स्वीकार्य स्तर तक बढनी चाहिए और यह राष्ट्रीय प्राथमिकता होनी चाहिए। आईआईटी समिति को इस दिशा में आगे कदम बढ़ाना चाहिए। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.