Tuesday, May 17, 2022
-->
nursery admission 2021 will start soon manish sisodia reviewed preparations kmbsnt

दिल्ली: नर्सरी दाखिले को लेकर संशय खत्म, मनीष सिसोदिया ने की तैयारियों की समीक्षा

  • Updated on 1/19/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। दिल्ली में नर्सरी एडमिशन (Nursery Admission) को लेकर चल रहे सस्पेंस को दूर करते हुए उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया (Manish Sisodia) ने सोमवार को कहा कि इस बार नर्सरी एडमिशन देरी से होंगे, लेकिन नर्सरी एडमिशन होंगे। उपमुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना के चलते नर्सरी एडमिशन में थोड़ी देरी हमने की है, लेकिन ऐसा नहीं है कि इस साल नर्सरी एडमिशन नहीं होगा।

वहीं, उपमुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि 10वीं व 12वीं बोर्ड की परीक्षा और बोर्ड की प्रैक्टिकल के मद्देनजर स्कूल खोले गए हैं। उन्होंने कहा कि अभी बाकी कक्षाएं खोलने पर विचार नहीं चल रहा है। उपमुख्यमंत्री ने कहा कि जब तक वैक्सीन इतनी संख्या में लोगों को नहीं लग जाती, जिससे हम संतुष्ट हो जाएं, तब तक बाकी कक्षाओं के लिए स्कूल खोलने के बारे में नहीं सोच रहे हैं।

दिल्ली में 18 जनवरी से शुरू होंगी 10वीं और 12वीं की क्लास, इन बातों का रखना होगा ध्यान

मनीष सिसोदिया ने की तैयारियों की समीक्षा
उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने एसकेवी चिराग इन्क्लेव और डीपीएस मथुरा रोड का दौरा करके फिर से स्कूल खोलने संबंधी तैयारियों की समीक्षा की। इस दौरान उन्होंने कोरोना से सभी बच्चों की सुरक्षा सुनिश्चित करने तथा पूरे विद्यालय परिसर में सफाई के बेहतर इंतजाम के निर्देश दिए।

स्कूलों को दोबारा खोलने संबंधी पूरी व्यवस्था करना आवश्यक
उपमुख्यमंत्री ने कहा कि 10 महीने तक स्कूल बंद होने के बाद अब दसवीं और 12वीं की परीक्षाओं की तैयारियों के लिए खोला जा रहा है। इसलिए स्कूलों को दोबारा खोलने संबंधी पूरी व्यवस्था करना आवश्यक है। उपमुख्यमंत्री ने अधिकारियों को अपने-अपने जोन व जिले के सरकारी और प्राइवेट स्कूलों में जाकर कोरोना से बचाव के सभी नियमों का पालन सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि हर कक्षा में सामाजिक दूरी का पालन किया जाए, सेनेटाइजर की उपलब्धता व मास्क लगाना आवश्यक हो। 

कोरोना के कारण 4 महीने से अटकी है नर्सरी दाखिला प्रक्रिया

'प्रैक्टिकल और प्री-बोर्ड की तैयारी जरूरी'
उपमुख्यमंत्री ने कहा कि प्रैक्टिकल और प्री-बोर्ड की तैयारी कराये बिना बच्चों को परीक्षा के लिए बुलाना अन्याय होगा। मई में सीबीएसई बोर्ड परीक्षा से पहले छात्रों की बेहतर तैयारी और काउंसलिंग जरूरी है। इसलिए सतर्कता बरतते हुए स्कूलों को खोलने का निर्णय लिया गया है, ताकि बच्चे विद्यालय के माहौल में रम सकें व बोर्ड परीक्षाओं के लिए पूरी तरह से तैयार हो सकें।

यहां पढ़ें अन्य बड़ी खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.