Sunday, Jun 07, 2020

Live Updates: Unlock- Day 6

Last Updated: Sat Jun 06 2020 07:55 PM

corona virus

Total Cases

246,544

Recovered

118,684

Deaths

6,936

  • INDIA7,843,243
  • MAHARASTRA80,229
  • TAMIL NADU28,694
  • NEW DELHI26,334
  • GUJARAT19,119
  • RAJASTHAN10,084
  • UTTAR PRADESH9,733
  • MADHYA PRADESH8,996
  • WEST BENGAL7,303
  • KARNATAKA4,835
  • BIHAR4,598
  • ANDHRA PRADESH4,112
  • HARYANA3,281
  • TELANGANA3,147
  • JAMMU & KASHMIR3,142
  • ODISHA2,608
  • PUNJAB2,415
  • ASSAM2,116
  • KERALA1,589
  • UTTARAKHAND1,153
  • JHARKHAND889
  • CHHATTISGARH773
  • TRIPURA646
  • HIMACHAL PRADESH383
  • CHANDIGARH304
  • GOA166
  • MANIPUR124
  • NAGALAND94
  • PUDUCHERRY90
  • ARUNACHAL PRADESH42
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS33
  • MEGHALAYA33
  • MIZORAM22
  • DADRA AND NAGAR HAVELI14
  • DAMAN AND DIU2
  • SIKKIM2
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
nusrat jahan reaction on nizamuddin markaz case pragnt

निजामुद्दीन में हुई तबलीगी जमात पर भड़कीं नुसरत जहां, कहा- बीमारी धर्म देखकर नहीं आती

  • Updated on 4/2/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। दिल्ली (Delhi) के निजामुद्दीन (Nizamuddin) में हुई तबलीगी जमात (Tablighi Jamaat) के बाद देश में कोरोना संक्रमण (Coronavirus) का खतरा काफी बढ़ गया है। रोजोना देश के कई कोनों से इस जमात में शामिल हुए लोगों को गिरफ्तार किया जा रहा है। ऐसे में इस मामले की गंभीरता को देखते हुए बंगाली एक्ट्रेस और सांसद नुसरत जहां (Nusrat Jahan) का बयान सामने आया है। अपने इस बयान में नुसरत ने कहा कि देश में बहुत सारे धर्म हैं फिर भी कोई भी किसी भी धार्मिक कार्यक्रम में हिस्सा नहीं ले रहा है लेकिन निजामुद्दीन में हुई जमात ने देश को काफी पीछे लाकर खड़ा कर दिया है।

इसके साथ ही नुसरत ने आगे कहा कि हाल ही में एक ऑडियो वायरल हुआ था जिसमें कहा जा रहा था कि कोरोना के डर से मस्जिद छोड़कर न भागे। ये बात काफी गलत है इस संकट की घड़ी में ऐसी अफवाह नहीं फैलानी चाहिए। इस वायरस से बचने के लिए घर में रहना ही सुरक्षित है। 

उत्तरप्रदेशः Lockdown का हो रहा खुल्लम-खुल्ला उल्लंघन, सपा विधायक ने बांटा भीड़ को राशन

धर्म देखकर नहीं आती बीमारी
नुसरत जहां ने लोगों से अपील करते हुए कहा कि बीमारी को किसी का धर्म नहीं पता है। वो किसी के पास उसकी जाति धर्म देखकर नहीं आती है। इसलिए सभी को सतर्क रहना चाहिए। सावधान रहेंगे तो ही हम इस बीमारी को मात दे पाएंगे।

आपको बता दें कि तबलीगी जमात (Tablidhi jamaat) का आयोजन करने वाला मौलाना साद (Maulana saad) अभी तक फरार चल रहा है। उसकी तलाश के लिए दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच की टीम जुटी हुई है। जो उसकी देश के कई हिस्सों में तलाश कर रही है। बता दें मौलाना साद की जमात में कम से कम 6000 लोग शामिल हुए थे जिनके कारण देश में तेजी से कोरोना संक्रमण बढ़ रहा है।

छत पर नमाज पढ़ रहा था पूरा परिवार, वीडियो वायरल होते ही सभी के खिलाफ मुकदमा दर्ज

जानें क्या है तबलीगी जमात
बता दें तबलीगी जमात भारतीय उपमहाद्वीप में सुन्नी मुसलमानों का सबसे बड़ा संगठन है। तबलीगी जमात (tablighi jamat) के पूर्व मुखिया मौलाना जुबैर उल हसन (Jubair ul hasan) ने संगठन का नेतृत्व करने के लिए के सुरू कमेटी का गठन किया था। जमात एक समूह को कहते हैं, जो इस्लाम का प्रचार करता हैं। जमात के लोग इस अवधि के लिए एक क्षेत्र को चिन्हित करते हैं, इसके बाद वहां की मस्जिदों में दो से तीन दिन रुककर इस्लाम कर प्रचार करते हैं। इसके बाद दूसरी मस्जिद का रुख करते है। 40 दिन, चार और पांच माह की जमात की समय अवधि जब पूरी होती है तो वह तबलीगी मरकज जाते हैं। पांच माह की जमात विश्व के कई देशों में जाती हैं। 

कोरोना वायरस पर PM मोदी आज सभी मुख्यमंत्रियों से करेंगे बात, वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से होगी बैठक

कौन है मौलाना साद
बता दें इस पूरी घटना में विलन बनकर सामने आया मौलाना साद का पूरा नाम मुहम्मद साद कंधावली है। वह इस समय तबलीगी जमात का मुखिया है। इस समय पूरे देश में दो संस्थाए तबलीगी जमात का आयोजन करती हैं उनमें से एक समूह का मुखिया साद है। बता दें साद वैसे देश में तबलीगी जमात के संस्थापक का पड़पोता भी है। साद ने खुद को तबलीगी जमात का एकछत्र अमीर यानि मुखिया घोषित किया हुआ है। उसने हजरत निजामुद्दीन मरकज के मदरसा काशिफुल उलूम से 1987 में आलिम की डिग्री ली है। 

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें...

comments

.
.
.
.
.