Sunday, Oct 17, 2021
-->
odisha-law-minister-booked-for-bjp-leader-in-cuttack-prsgnt

ओडिशा में हुई BJP नेता की हत्या, मौके पर हुई मौत, कानून मंत्री सहित 13 के खिलाफ मामला दर्ज

  • Updated on 1/4/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। ओडिशा में हुई भारतीय जनता पार्टी (BJP)के नेता की हत्या के मामले में पुलिस ने राज्य के कानून मंत्री प्रताप जेना समेत 13 अन्य लोगों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है। इससे पहले शनिवार 2 जनवरी को बीजेपी नेता कुलमणि बराल और उनके सहयोगी दिव्य सिंह बराल की ओडिशा के कटक में हत्या कर दी गयी थी। 

बीजेपी ने कुलमणि बराल की हत्या के बाद सत्तारुढ़ बीजू जनता दल पर बदले की राजनीति करने का आरोप लगाया था और कहा था कि तृणमूल कांग्रेस की तरह ही बीजेडी भी हो गयी है।

केजरीवाल मॉडल पर बहस में पहुंचे मनीष सिसोदिया, भाजपा के मंत्री गायब

बीजेपी का बीजेडी पर आरोप
बताया जा रहा है कि 2 जनवरी को ओडिशा के कटक जिले में मंडल प्रभारी 75 वर्षीय कुलमणि बराल अपने 80 वर्षीय सहयोगी दिव्य सिंह बराल के साथ अपने घर की ओर मोटरसाइकिल से लौट रहे थे। इसी दौरान रास्ते में कुछ अपराधियों ने दोनों की हत्या कर दी। अपराधी पहले से ही घात लगाकर बैठे थे। दोनों नेताओं के चेहरे और छाती पर गंभीर चोटें आई थी। जिसकी वजह से कुलमणि बराल ने दम तोड़ दिया और दिव्य सिंह की इलाज के दौरान मौत हो गई।

इन हत्याओं से नाराज बीजेपी ने बीजेडी पर आरोप लगाते हुए कहा था कि जो काम ममता बनर्जी बंगाल में कर रही है वही काम अब ओडिशा में नवीन पटनायक की सरकार भी कर रही है। बीजेपी ने इस घटना को लेकर राज्य के कानून मंत्री को अभियुक्त बनाये जाने पर कहा और कहा है कि उन्हें तुरंत ही सरकार से बर्खास्त किया जाना चाहिए। इस घटना को लेकर केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने निंदा की थी।

शिवराज कैबिनेट में सिंधिया समर्थकों का दबदबा! अजय विश्नोई ने उठाये सवाल

13 लोगों के खिलाफ एफ़आईआर दर्ज
वहीँ, कुलमणि बराल के बेटे रमाकांत ने 13 लोगों के खिलाफ एफ़आईआर दर्ज कराई है और उनके पिता प्रधानमंत्री आवास योजना में हो रही धांधली के खिलाफ कटक जिले में आवाज उठा रहे थे। इन्हीं वजहों से उनकी जान का खतरा बना हुआ था। 

इस बारे में उन्होंने पुलिस में भी शिकायत दर्ज कराई हालांकि इसके खिलाफ कोई एक्शन नहीं लिया गया। इसके अलावा रमांकांत ने यह भी बताया कि जो लोग इन हत्या में शामिल हैं वो लोग ही 2018 दिसंबर में हुए बीजेपी नेता विकास जेना की हत्या की साजिश में शामिल थे। उन्होंने आरोप लगाया है कि पुलिस ने इस बारे में कोई कारवाई नहीं की लेकिन अगर समय रहते कारवाई हो जाती तो उनके पिता बच जाते।

रॉबर्ट वाड्रा के घर पहुंचे आयकर अधिकारी, बेनामी संपत्ति के मामले में हो रही पूछताछ

वहीँ, अपने ऊपर लगाए गए आरोपों पर कानून मंत्री प्रताप जेना ने साफ करते हुए बताया है कि यह सभी आरोप निराधार और बेबुनियाद बताया है और जांच कराने और दोषियों के खिलाफ सख्त से सख्त कारवाई करने को कहा है। उन्होंने यह भी कहा है कि मामले की जांच के लिए छह टीम बनाई गयी है।

ये भी पढ़ें...

comments

.
.
.
.
.