सजायाफ्ता चौटाला ने केजरीवाल सरकार के खिलाफ हाई कोर्ट से लगाई गुहार

  • Updated on 1/25/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। शिक्षक भर्ती घोटाला मामले में 10 साल की जेल की सजा काट रहे हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री ओम प्रकाश चौटाला ने शुक्रवार को दिल्ली हाई कोर्ट का रुख कर आम आदमी पार्टी सरकार के उस फैसले को चुनौती दी, जिसमें उन्हें 3 सप्ताह के फरलो के दौरान किसी राजनीतिक गतिविधि से रोक दिया गया। 

अरुण जेटली को रास नहीं आ रही है चंदा कोचर मामले में CBI जांच

आईएनएलडी प्रमुख की याचिका में दावा किया गया है कि उन्हें जींद उपचुनाव के पहले 22 जनवरी को फरलो पर रिहा किया जाना था लेकिन बाद में इसे चुनाव के बाद 29 जनवरी तक के लिए स्थगित कर दिया गया । उन्हें रिहा करने की शर्तों में कहा गया कि वह किसी राजनीतिक सभा में शामिल या उसे संबोधित नहीं करेंगे और साथ ही फरलॉ की अवधि के दौरान राजनीतिक गतिविधियों में शामिल नहीं होंगे।

AAP का मोदी सरकार पर तंज- संघ की शाखा में जाओ भारत का रत्न बन जाओ

आईएनएलडी विधायक हरिचंद मिड्ढा के निधन के बाद जींद सीट खाली हुई जहां 28 जनवरी को उपचुनाव होना है। चौटाला (83) ने वकील अमित साहनी के जरिए दायर की अपनी याचिका में आरोप लगाया कि वह ‘‘दिल्ली में अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व वाली सत्तारूढ़ आम आदमी पार्टी और उनके पोते दुष्यंत चौटाला के नेतृत्व वाली जननायक जनता पार्टी (जेजेपी) के बीच राजनीति षडयंत्र’’ का शिकार हैं। 

हरियाणा के पूर्व सीएम हुड्डा के यहां CBI छापों से कांग्रेस में मची खलबली

दुष्यंत चौटाला अजय चौटाला के बेटे हैं। ओ पी चौटाला, उनके बेटे अजय और दो आईएएस अधिकारी समेत 53 अन्य उन 55 लोगों में शामिल हैं जिन्हें साल 2000 में हरियाणा में 3,206 शिक्षकों की गैर कानूनी भर्ती के लिए निचली अदालत ने 16 जनवरी 2013 को दोषी ठहराया था।

एक्वा लाइन मेट्रो की शुरुआत के लिए सपा नेताओं ने अखिलेश का किया आभार

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.