Saturday, Nov 27, 2021
-->
Omar Abdullah appealed to PM Narendra Modi to release detain all political leaders on eid rkdsnt

उमर अब्दुल्ला ने PM मोदी से लगाई गुहार, कहा- ईद से हम कुछ दिन दूर हैं...

  • Updated on 5/20/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। नेशनल कांफ्रेंस के अध्यक्ष उमर अब्दुल्ला ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से नजरबंद किए गए सभी सियासी नेताओं को रिहा करने की अपील की है। इसके लिए उन्होंने ईद का वास्ता दिया है। उमर का कहना है कि सियासी नेताओं ने कुछ भी गलत नहीं किया है कि उन्हें इस तरह की सजा दी जाए। बता दें कि जम्मू और कश्मीर में राष्ट्रपति शासन लगने और धारा 370 हटने के बाद सियासी दलों के नेताओं को नजरबंद किया गया है। इनकी नजरबंदी पीएसए के तहत की जा रही है। 

कांग्रेस नेता को मालिनी अवस्थी ने दी चेतावनी, बोलीं- मेरे पति की मिसाल देता है पूरा यूपी

AAP सांसद ने पूछा- आखिर अपनी सभी ट्रेने क्यों नही चला रही है रेलवे?

नजरबंदी में काफी समय गुजार कर आए उमर अब्दुल्ला ने अपने ट्वीट में लिखा है, 'ईद से हम कुछ दिन दूर हैं। नरेंद्र मोदी जी जम्मू और कश्मीर में नजरबंद किए गए सभी सियासी नेताओं को आजाद करिए, फिर चाहें वे औपचारिक रूप से नजरबंद किए गए हों या अनौपचारिक रूप से हाउस अरेस्ट। उन्होंने कुछ भी गलत नहीं किया है कि उन्हें  जितना चाहो बंद किया जाए।'

कन्हैया का भाजपा सरकार पर तंज, बोले- इनको इंसानों से ज्यादा 'कागज' की परवाह

अपने दूसरे ट्वीट में वह लिखते हैं, 'जम्मू और कश्मीर सरकार को 3 अप्रैल को अली मोहम्मद सागर की पीएसए में नजरबंदी के खिलाफ दायर याचिका पर जवाब देना था और आज भी वह ऐसा करने में नाकाम रही। कोर्ट ने भी खुशी से सरकार को अपने खेल को चलाने में 1 जून तक का समय दे दिया है। साफ है कि उनके पास कोई उचित जवाब नहीं है।'

शिवसेना शासित महाराष्ट्र कोरोना से अभी भी हैं बेहाल, जानिए पिछले 24 घंटों का हाल

बता दें कि कोरोना लॉकडाउन के बीच भी कश्मीर घाटी में आतंकी घटनाएं और मुठभेड़ चल रही हैं। सरकार और सुरक्षा एजेंसियों को अंदेशा है कि इसके पीछे सियासी दलों का भी परोक्ष रूप से हाथ हो सकता है। ऐसे में उनकी जल्द रिहाई की उम्मीद नहीं दिखाई देती हैं। इसके साथ ही विपक्ष जम्मू कश्मीर में इंटरनेट स्पीड को लेकर भी सवाल उठा रहा है।

मजदूरों के लिए बसों को लेकर प्रियंका गांधी ने फिर साधा योगी सरकार पर निशाना

comments

.
.
.
.
.