Monday, Mar 01, 2021
-->
on 9 december there will be a grand debate between the government and farmer leaders djsgnt

नहीं निकला हल! 9 दिसंबर को फिर से सरकार और किसान नेताओं के बीच होगा महामंथन

  • Updated on 12/5/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। कृषि कानून (Farm Bill) के खिलाफ किसान का प्रदर्शन अब भी जारी है। पंजाब व हरियाणा से आए किसान लगातार 10 दिन से दिल्ली बॉर्डर पर डटे हुए हैं। इसी बीच आज किसान संगठन और सरकार के बीच 5वें दौर की बैठक समाप्त हो चुकी है। जिसमें एक बार फिर यह बैठक बेनतीजा रहा। हालांकि सरकार और किसान संगठन से जुड़े नेताओं के बीच अगले दौर के बातचीत के लिये सहमति बन चुकी है। यह बैठक अब 9 दिसंबर को होगी। 

इससे पहले बैठक के दौरान किसानों ने साफ कर दिया था कि रोज-रोज हम सरकार के साथ चर्चा नहीं करेंगे। यहां तक कि किसान नेताओं ने कह दिया कि अगर आज कृषि कानून को लेकर लिखित आश्वासन नहीं मिलता तो गंभीर परिणाम भुगतने पड़ेगे।

इससे पहले आज सुबह ही पीएम नरेंद्र मोदी,गृह मंत्री अमित शाह,रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह,रेल मंत्री पियुष गोयल और कृषि मंत्री नरेंद्र तोमर के साथ बैठक हुई। उसके बाद केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर (Narendra Singh Tomar) ने कहा कि उन्हें बहुत उम्मीद है कि किसान सकारात्मक सोचेंगे और अपना आंदोलन समाप्त करेंगे। हालांकि टी ब्रेक तक मुद्दा पर मतभेद कायम रहा।

Live updates:

  • दिल्लीः बैठक के लिए विज्ञान भवन पहुंचे किसान नेता

  • किसानों के मुद्दे पर पीएम आवास पर बैठक, लोकसभा स्पीकर ओम बिड़ला भी पहुंचे

  • पीएम मोदी के साथ शाह, राजनाथ सिंह, नरेंद्र तोमर और पीयूष गोयल की बैठक खत्म

  • बैठक से पहले PMO की बैठक पूरी

  • बैठक से पहले बोले कृषि मंत्री- उम्मीद है आज आंदोलन होगा

8 दिसंबर को भारत बंद का आह्वान
केन्द्र सरकार के तीन नये कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे किसानों ने आठ दिसम्बर को ‘भारत बंद’ का शुक्रवार को ऐलान किया और धमकी दी यदि सरकार उनकी मांगे नहीं मानती है तो वे राष्ट्रीय राजधानी पहुंचने वाली और सड़कें बंद कर देंगे। सरकार के साथ कल होने वाली पांचवें दौर की बातचीत से पहले किसानों ने अपना रूख और सख्त कर लिया है।

बिहार में भी किसानों आंदोलन को मिला राजद का समर्थन, होगा प्रदर्शन

किसानों को है ऐतराज
सूत्रों ने अनुसार सरकार ने गतिरोध खत्म करने के लिए उन प्रावधानों का संभावित हल तैयार कर लिया है जिन पर किसानों को ऐतराज है। किसानों ने भावी कदम तय करने के लिए दिन के समय बैठक की। बैठक के बाद किसान नेताओं में एक गुरनाम सिंह चडोनी ने संवाददाता सम्मेलन में कहा कि यदि केंद्र सरकार शनिवार की वार्ता के दौरान उनकी मांगों को स्वीकार नहीं करती है, तो वे नए कृषि कानूनों के खिलाफ अपने आंदोलन को तेज करेंगे।

किसान आंदोलन को राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा बताने पर सिसोदिया ने कैप्टन को लिया आड़े हाथ

यूनियन के महासचिव ने कही ये बात
भारतीय किसान यूनियन के महासचिव हरिंदर सिंह लखवाल ने कहा, ‘आज की हमारी बैठक में हमने आठ दिसम्बर को ‘भारत बंद’ का आह्वान करने का फैसला किया और इस दौरान हम सभी टोल प्लाजा पर कब्जा भी कर लेंगे।’ उन्होंने कहा, ‘यदि इन कृषि कानूनों को वापस नहीं लिया गया तो हमने आने वाले दिनों में दिल्ली की शेष सड़कों को अवरूद्ध करने की योजना बनाई है।’

ये भी पढ़ें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.