Monday, Aug 08, 2022
-->
on february 6 uttar pradesh uttarakhand was kept out from chakka jam albsnt

6 फरवरी को चक्का जाम से उत्तरप्रदेश,उत्तराखंड को रखा गया बाहर, राकेश टिकैत ने बताई वजह

  • Updated on 2/5/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। कृषि कानून की वापसी पर अड़े किसान नेताओं ने 6 फरवरी को देशव्यापी चक्का जाम का फैसला किया है। इस बाबत भाकियू के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकेत ने कहा है कि शनिवार को होने वाले चक्का जाम से उत्तरप्रदेश,उत्तराखंड को बाहर रखा गया है। हालांकि दिल्ली एनसीआर को भी इस चक्का जाम से बाहर रखने पर बलवीर सिंह राजेवाल के साथ सहमति बनी है। हालांकि इन राज्यों के किसान सिर्फ ज्ञापन सौंपेगें।

संसद में बोले कृषि मंत्री- किसानों की आय दोगुना करना मोदी सरकार का लक्ष्य

राकेश टिकेत ने बैठक के बाद बताया कि 6 फरवरी को देशव्यापी चक्का जाम दिन के 12 बजे से 3 बजे तक होगा। इस दौरान प्रदर्शनकारी सड़कों पर बैठकर विरोध जतायेंगे। फिर एक ज्ञापन स्थानीय अधिकारी को सौंप देंगे। उन्होंने उत्तरप्रदेश,उत्तराखंड में सड़क जाम नहीं करने की वजह बताते हुए कहा कि दरअसल इन राज्यों के किसानों को कभी-भी दिल्ली बुलाया जा सकता है। जिस कारण अगले निर्देशों का पालन करने के लिये इंतजार करने को कहा गया है। राकेश टिकैत ने हिंसा को लेकर कहा कि यह प्रदर्शन शांतिपूर्व होगा। उन्होंने दावा किया जब कभी-भी किसान प्रदर्शन करते है तो वो शांतिपूर्वक ही करते है।

टिकैत ने बताया किसान आंदोलन को लंबा चलाने का नया फार्मूला, कही ये बात

मालूम हो कि दिल्ली की सीमा पर पिछले 72 दिनों से आंदोलन पर बैठे किसान आंदोलन कर रहे है। इन लोगों ने सरकार से कृषि कानून की वापसी की मांग की है। जबकि सरकार नए कानून को किसानों के हक में बता रही है। जिससे दोनों पक्षों में तकरार जारी है। उधर किसान आंदोलन को तब गहरा धक्का लगा जब गणतंत्र दिवस के दिन दिल्ली में जमकर उत्पात मचाया गया। जिससे किसान आंदोलन सवालों के घेरे में आ गई। ऐसा लगने लगा कि अब आंदोलन खत्म हो चुका है। लेकिन राकेश टिकैत के भावुक अपील से आंदोलन को एक बार फिर  जनसमर्थन मिला।

ये भी पढ़ें:

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.