Monday, Nov 30, 2020

Live Updates: Unlock 6- Day 29

Last Updated: Sun Nov 29 2020 09:59 PM

corona virus

Total Cases

9,428,477

Recovered

8,842,289

Deaths

137,121

  • INDIA9,428,477
  • MAHARASTRA1,820,059
  • ANDHRA PRADESH1,648,665
  • KARNATAKA882,608
  • TAMIL NADU779,046
  • KERALA599,601
  • NEW DELHI566,648
  • UTTAR PRADESH541,873
  • WEST BENGAL526,780
  • ARUNACHAL PRADESH325,396
  • ODISHA317,789
  • TELANGANA268,418
  • RAJASTHAN262,805
  • CHHATTISGARH234,725
  • BIHAR234,553
  • HARYANA230,713
  • ASSAM212,483
  • GUJARAT206,714
  • MADHYA PRADESH203,231
  • CHANDIGARH183,588
  • PUNJAB150,805
  • JAMMU & KASHMIR109,383
  • JHARKHAND104,940
  • UTTARAKHAND73,951
  • GOA45,389
  • HIMACHAL PRADESH38,977
  • PUDUCHERRY36,000
  • TRIPURA32,412
  • MANIPUR23,018
  • MEGHALAYA11,269
  • NAGALAND10,674
  • LADAKH7,866
  • SIKKIM4,967
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS4,631
  • MIZORAM3,806
  • DADRA AND NAGAR HAVELI3,325
  • DAMAN AND DIU1,381
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
on population explosion giriraj singh said  modi government can bring tough legislation

जनसंख्या विस्फोट पर गिरिराज सिंह ने कहा- आगामी सत्र में मोदी सरकार ला सकती है कड़ा कानून

  • Updated on 10/13/2019

नई दिल्ली/कुमार आलोक भास्कर। जनसंख्या की भयावहता से देश को आगाह करने के लिये मेरठ से चलकर हजारों लोग अपने हाथों में तिरंगा लेकर जब दिल्ली पहुंचे तो मानो कुछ देर के लिये राजधानी थम गई हो। इस यात्रा में 21 रथ और 500 ट्रैक्टरों पर सवार लोगों के बीच में सबसे ज्यादा आकर्षण का केंद्र रहा लंबा सा तिरंगा, जो दिल्ली के दिल कनॉट प्लेस में प्रवेश किया तो राहगीरों ने जमकर खड़े होकर समर्थन किया। यहीं नहीं बैंड-बाजे और देश भक्ति गानों पर थिरकते युवा यह संदेश दे रहे थे कि 21 वीं सदी में अगर भारत को सुपर पॉवर बनना है तो सबसे पहले हमें जनसंख्या कंट्रोल करना होगा।

जनसंख्या विस्फोट को लेकर अश्विनी उपाध्याय ने मोदी सरकार को चेताया,13 अक्टूबर को करेंगे प्रदर्शन

जनसंख्या में भारत ने चीन को पीछे छोड़ा

जनसंख्या समाधान फाउंडेशन  के संयोजक और बीजेपी के कद्दावर नेता अश्विनी उपाध्याय ने विस्तार से इस कार्यक्रम का रुपरेखा बताते हुए कहा है कि देश अब यदि अब जनसंख्या को लेकर नहीं जागरुक हुआ तो आने वाले दिनों में विकट समस्या खड़ी होने वाली है। उन्होंने दावा किया कि आज भारत, चीन को भी जनसंख्या मामले में पीछे छोड़ दिया है। यह सच्चाई अब लोगों को जानना चाहिये।

Population Control Rally

लोगों में जागरुकता का है अभाव

वहीं इस कार्यक्रम में केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने हिस्सा लेते हुए अश्विनी उपाध्याय को बधाई देते हुए कहा कि जनसंख्या जैसे विषयों को लेकर अभी-भी लोगों में जागरुकता का बहुत अभाव है। उन्होंने जनसंख्या विस्फोट को परमाणु विस्फोट से भी भयावह और डराने वाला बताया है। उन्होंने कहा कि अब समय आ गया है कि देश में कड़ा से कड़ा कानून बनाकर हम दो और हमारे दो वाले अभियान को लागू किया जाए।

जनसंख्या वाले बयान पर बाबा रामदेव के समर्थन में उतरे बीजेपी नेता गिरिराज सिंह

जनसंख्या पर प्रभावी रोक के लिये कड़े कानून जरुरी

गिरिराज सिंह ने फिर से नई बहस छेड़ते हुए कहा कि सभी धर्मों के बुद्धिजीवियों को पहल करते हुए जनसंख्या समस्या को लेकर जागरुरकता चलाना चाहिये। हम इस अवसर पर पीएम नरेंद्र मोदी से आग्रह करते है कि आगामी संसद के पटल पर जनसंख्या कानून बिल को लाया जाए। जिसमें यह प्रावधान निश्चित रुप से हो जो भी दंपत्ति दो बच्चे से ज्यादा बच्चे को जन्म देते है उनके कई अधिकार को कम किया जाना चाहिये। उन्होंने आश्चर्य प्रकट किया कि देश में संसाधन तो सीमित है लेकिन उसके दोहन करने के लिये कुछ ही दिनों में बड़ी आबादी खड़ी हो जाती है। बहुत ही बड़ा सवाल है कि यह कब तक चलेगा। 

Giriraj Singh,Aswani Upadhyay

केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री ने कहा- बढ़ती जनसंख्या चुनौती से कम नहीं

देश में घटता जा रहा है संसाधन

अश्विनी उपाध्याय ने उपस्थित जनसमूह से कहा कि न्यू इंडिया बनाने का पहला शर्त है कि हम अपने बच्चों के जिम्मे क्या सौंप रहे है। देश के नौनिहालों को क्या हम दूषित पर्यावरण, सीमित संसाधन, जल, जंगल, जमीन का सिमटता आकार ही विरासत में देने जा रहे है। अगर इसी तरह जनसंख्या विस्फोट होता रहा तो वो दिन दूर नहीं जब लोग ही एक-दूसरे के सबसे बड़े दुश्मन बनकर धरती का विनाश करने वाला कारक होगा।

जनसंख्या नियंत्रण के लिए अधिकतम दो बच्चों का कानून लागू करे सरकार- गिरिराज सिंह

नई पीढ़ी को समृद्ध विरासत सौंपे 

उन्होंने कहा कि जब देश में मौजूदा हालात को ही देखा जाए तो ऐसा लगता है कि स्वास्थ्य, नौकरी, अच्छी जिंदगी, हरा-भरा पर्यावरण, स्वच्छ जल अब तो बीते दिनों की बात हो गई है। जबकि यह सब मिलना किसी भी व्यक्ति का मूलभूत अधिकार है- जिससे आज की ही पीढ़ी ही वंचित होती जा रही है। सभी संसाधनों का दिन ब दिन सीमित होते जाना बड़े खतरे की घंटी बजा रहा है। फिर भी हम चैन की नींद सो रहे है। याद रखिये कि आने वाली पीढ़ी हमें माफ नहीं करेगी।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.