Thursday, Feb 25, 2021
-->
online education reduces seriousness in children health effects too kmbsnt

Corona Effect: ऑनलाइन शिक्षण से बच्चों में गंभीरता हो रही कम, स्वास्थ्य पर भी पड़ रहा प्रभाव

  • Updated on 1/16/2021

नई दिल्ली/पुष्पेंद्र मिश्र। कोरोना महामारी (Corona Pandemic) के कारण शिक्षा व्यवस्था क्लासरूम टीचिंग से निकलकर डिजिटल उपकरणों के माध्यम से ऑनलाइन (Online Education) कर दी गई। लेकिन इसके बच्चों पर दुष्प्रभाव भी दिखने लगे हैं। कई बच्चों में सिरदर्द, आईसाइट कमजोर होना, चिड़चिड़ापन और व्यावहारिक परिवर्तन जैसे मामले सामने आ रहे हैं।

इसके अलावा बच्चों में ऑनलाइन माध्यम से दी जा रही शिक्षा के प्रति गंभीरता भी कम देखी जा रही है। विद्या बाल भवन के शिक्षक निशांत शर्मा कहते हैं कि ऑनलाइन कक्षाओं का लगातार निरीक्षण नहीं कर पाया जा रहा है। शिक्षक क्लासरूम में कॉपी चेक करते हैं सवाल पूछते हैं। उसका बच्चों को डर रहता है लेकिन ऑनलाइन शिक्षण पद्धति में ये डर घट गया है।

क्या कोविड वैक्सीन बन सकती है नपुंसकता का कारण? केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री दिया जवाब

ऑनलाइन कक्षा में आ रही ये दिक्कत
ऑनलाइन कक्षा चल रही होती है बीच-बीच में बच्चों के पीछे से शोर आ रहा होता है। ऑनलाइन पेपर लिए जा रहे हैं उनमें नकल की बात भी सामने आ रही है। 60 फीसद अभिभावक काम के कारण बच्चों का ठीक से निरीक्षण नहीं कर पा रहे हैं वहीं 40 फीसद अभिभावकों को बच्चे पर निगरानी के बाद भी घर में पढ़ाई का वातावरण न बन पाने की शिकायत है।

सरकारी स्कूल में शिक्षक संत राम कहते हैं कि क्लासरूम टीचिंग में बच्चे हमारे सामने होते हैं हम उनकी हर गतिविधि पर नजर रख रहे होते हैं यहां बच्चे सिर्फ सुन सकते हैं। वहीं क्लासरूम में बच्चों के साथ हमारा आई कॉटैक्ट भी बना रहता है। 

कृषि मंत्री तोमर बोले- किसान संगठन ठोस मसौदा बनाकर सरकार को दें तो... 

गाइडलाइन का स्कूल नहीं कर रहे पालन
दिल्ली पैरेंट एसोसिएशन की अपराजिता गौतम कहती हैं कि शिक्षा मंत्रालय द्वारा जारी की गई प्रज्ञता गाइडलाइन का कोई स्कूल पालन नहीं कर रहा है। इससे बच्चों का स्क्रीन टाइम बढ़ रहा है। इससे बच्चों की आंखें खराब होने के  मामले सामने आ रहे हैं। कोरोना के दौर में बच्चे फील्ड में खेलने भी नहीं जा पाते इसलिए वह मोबाइल पर ही मन बहलाते हैं।

इससे उनके शारीरिक विकास में भी व्यवधान आ रहा है। लगातार ऑनलाइन एजुकेशन से बच्चों में व्यावहारिक परिवर्तन आ रहे हैं वह स्वभाव से चिड़चिड़े होते जा रहे हैं। ऑनलाइन पढ़ रहे बच्चों में चश्मे लगने के मामले आम हो रहे हैं।

यहां पढ़ें अन्य बड़ी खबरें...

comments

.
.
.
.
.