घरेलू उद्योगों को ऑनलाइन लाइसेंस देगा दक्षिणी निगम, स्थाई समिति में प्रस्ताव पास

  • Updated on 12/7/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। घरेलू/सेवा श्रेणी उद्योग चलाने वालों को दक्षिणी दिल्ली नगर निगम ऑनलाइन लाइसेंस/नवीकरण देना शुरू कर रहा है। वीरवार को स्थायी समिति की बैठक में यह मंजूरी दी गई।

समिति की अध्यक्ष शिखा राय ने बताया कि मंजूरी और नवीकरण के लिए मास्टर प्लान 2021 के प्रावधान और नियम लागू होंगे, जिसके तहत किसी भी स्वीकृत मंजिल के 50 फीसद क्षेत्रफल में 112 किस्म के घरेलू उद्योग लगाने के लिए 5 किलोवॉट का बिजली कनेक्शन लेना होगा और इसमें 5 लोग काम कर सकेंगे।

दिल्ली के निर्माण और विकास पर हुई बैठक, मास्टर प्लान में रखा जाएगा सुंदरता का ध्यान

इससे पहले 2010 तक केवल भूतल पर 25 फीसद क्षेत्र में घरेलू उद्योग लगाए जा सकते थे, मगर अब किसी भी तल पर 50 फीसद क्षेत्र में घरेलू उद्योग लगाया जा सकेगा। इसके लिए मालिक का उसी स्थान पर रहना आवश्यक होगा। वहीं, प्रदूषण फैलाने वाले उद्योग नहीं लगाए जा सकेंगे।

इस स्थान पर कोई खतरनाक या आग पकडऩे वाला सामान भी नहीं रखा जा सकेगा। लाइसेंस लेने के लिये अलग से एक सिंगल फेज बिजली का औद्योगिक कनेक्शन लेना अनिवार्य है, लेकिन जनरेटर लगाना निषेध है। लाइसेंस एक वित्तीय वर्ष के लिये वैध होगा, जिसका नवीकरण कराने का प्रावधान है।

ऐसे उद्योग ग्रुप हाउसिंग सोसाइटियों में लगाने की अनुमति नहीं है केवल जनता फ्लैटों में इनकी अनुमति होगी। ये घरेलू उद्योग सुबह 8 बजे से शाम 6 बजे के बीच काम करे सकेंगे।

सिसोदिया ने दिया शेल्टर होम की सोशल ऑडिट का निर्देश, इन मुद्दों पर होगा काम

पैदा होंगे रोजगार
शिखा राय ने बताया कि ऐसे उद्योग लगने से बड़ी संख्या में लोगों को रोजगार मिलेंगे, जिससे हजारों परिवारों की आर्थिक मजबूती का मार्ग प्रशस्त होगा। ऑनलाइन आवेदन के लिए एक हजार रुपए प्रोसेसिंग शुल्क और पहचान का प्रमाण, मालिकाने का सबूत, बिजली के बिल समेत कुछ दस्तावेज देने जरूरी हैं। कुल 112 घरेलू उद्योगों को स्वीकृति मिली है।

दिव्यांग पेंशन को विधि विभाग की हरी झंड़ी, 10 लाख से अधिक लोगों को मिलेगा लाभ

प्रमुख घरेलू उद्योग
अगरबत्ती, एलोपेथिक दवाओं को छोड़ कर अन्य दवाएं, इलेक्ट्रॉनिक सामान, सिलाई मशीन, टाइपराइटर, आटा चक्की, बिस्कुट आदि, मोमबत्ती, मिठाई, पटसन उत्पाद, कंप्यूटर सॉफ्टवेयर, यूपीएस, पीवीसी, खादी, हथकरघा, फोटोसेटिंग, पान मसाला, जरा जरदोजी व खिलौने आदि। इसके अलावा 9 किस्म के घरेलू उद्योग जैसे कि प्लास्टर ऑफ पेरिस, घानी के तेल, क्ले उत्पाद, लकड़ी नक्काशी आदि ग्रामीण आबादी में भी स्वीकृत हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.