Saturday, Jul 24, 2021
-->
Only 44 Indian players will participate in the Olympic opening ceremony fear of Corona prshnt

ओलंपिक में कोरोना का डर, उद्घाटन समारोह में सिर्फ 44 भारतीय खिलाड़ी ही लेंगे हिस्सा

  • Updated on 7/22/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। कोरोना महामारी के कारण एक साल देरी से शुरू होने वाले ओलंपिक खेलों में इस वायरस से सावधानी के लिए कड़े नियम है। वहीं शुक्रवार को इन खेलों के उद्घाटन समारोह का आयोजन होगा।  तब भारत के 44 खिलाड़ी ही इसमें भाग लेंगे। इन खिलाड़ियों की अगले दिन प्रतिस्पर्धा है। भारत का 50 सदस्यीय दल ही उद्घाटन समारोह में होगा। भारतीय ओलंपिक संघ के महासचिव राजीव मेहता ने कहा, हम ऐसी स्थिति पैदा करना नहीं चाहते कि हमारे खिलाड़ियों के संक्रमित होने का डर हो, इसी वजह से उद्घाटन समारोह में खिलाड़ियों और अधिकारियों कम करके 50 रखने का ही फैसला किया गया है।

पेगासस स्पाइवेयर विवाद को लेकर संसदीय समिति कर सकती है पूछताछ 

कोरोना महामारी के कारण एक साल देरी से खेलों की शुरुआत
बता दें कि कोरोना महामारी के बीच हो रहे ओलंपिक में उल्लास ,उमंग और दर्शकों की जगह आशंकाओं और तनाव ने भले ही ले लीं हो लेकिन ‘आशा की किरण’ माने जा रहे खेलों के इस महासमर में भारतीय दल सफलता का नया इतिहास रच सकता है जबकि नजरें कुश्ती, निशानेबाजी, मुक्केबाजी में पदकों पर लगी होंगी। कोरोना महामारी के कारण एक साल देर से हो रहे खेलों की शुरुआत के समय भी दुनिया पर से इस जानलेवा वायरस का साया हटा नहीं है।

दुनिया के सबसे घनी आबादी वाले शहरों में से एक तोक्यो हजारों खिलाड़ियों, सहयोगी स्टाफ और अधिकारियों की मेजबानी कर रहा है जबकि यहां प्रतिदिन एक हजार से अधिक कोरोना मामले सामने आ रहे हैं। इनमें से मामूली ही खेलों से संबंधित हैं लेकिन प्रतिभागियों के मन में भय पैदा करने के लिये ये काफी हैं। अजीब से माहौल में हो रहे इन खेलों में ना तो दर्शक हैं और ना ही वह उत्साह जो ओलंपिक की भावना का परिचायक है। अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति पूरी कोशिश कर रही है कि इन खेलों को उम्मीद के रूप में देखते हुए सिर्फ सकारात्मक पहलू पर ही फोकस किया जाये।

येदियुरप्पा का जाना तय! 25 को जो भी फैसला लेगा आलाकमान, पालन करूंगा

भारत ने 1900 में पहली बार ओलंपिक में भाग लिया
आईओसी अध्यक्ष थॉमस बाक ने बुधवार की रात कहा था, ‘यह संकट से निपटने और उसका सामना करने का एक नुस्खा है। खेलों के बाद उम्मीद का यह संदेश आत्मविश्वास के पैगाम में बदल जायेगा।’ शुक्रवार को उद्घाटन समारोह के साथ आठ अगस्त तक चलने वाले खेलों के इस महाकुंभ का आरंभ हो जायेगा। बाक को यकीन है कि यह हर्ष और खासकर राहत का अवसर होगा।

भारत की बात करें तो एक अरब 30 करोड़ से अधिक की आबादी वाले देश के नाम ओलंपिक के महज 28 पदक है । भारत ने 1900 में पहली बार ओलंपिक में भाग लिया और अब तक व्यक्तिगत वर्ग में सिर्फ अभिनव बिंद्रा पीला तमगा हासिल कर सके हैं जो उन्होंने 2008 बीजिंग ओलंपिक में सटीक निशाना लगाकर जीता था। इस बार भारत ने 120 खिलाड़ी भेजे हैं जिनमें 68 पुरूष और 52 महिलायें हैं। पहली बार दोहरे अंक में पदक जीतने की उम्मीदें भारतीय दल से बंधी है। इनमें सबसे प्रबल दावेदार 15 निशानेबाज होंगे जो पिछले दो वर्ष में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर काफी सफलता अर्जित कर चुके हैं।

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें...

 

 

 

comments

.
.
.
.
.