Monday, Aug 08, 2022
-->
only-one-day-session-murder-of-democracy-bidhuri

सिर्फ एक दिन का सेशन लोकतंत्र की हत्या: बिधूड़ी

  • Updated on 11/23/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल।  दिल्ली विधानसभा का आगामी शीतकालीन सत्र शुरु होने से पूर्व ही धमाकेदार होने की सुगबुगाहट होने लगी है। भाजपा विधायक दल ने नेता प्रतिपक्ष रामवीर सिंह बिधूड़ी की अध्यक्षता में बैठक की और चर्चा करते हुए तय किया कि 26 नवंबर को एक दिवसीय सत्र की अवधि बढ़वाने मांग को पुरजोर तरीके से उठाएंगे। बिधूड़ी ने कहा कि सिर्फ एक दिन का सेशन लोकतंत्र की हत्या है। विधायक दल ने स्पीकर से मांग की है कि सेशन दस दिन का होना चाहिए।


भाजपा विधायक दल ने बैठक में की चर्चा, विधानसभा में उठाएंगे मांग

 नेता प्रतिपक्ष बिधूड़ी ने कहा कि  सरकार जनता की समस्याओं पर चर्चा से भाग रही है। उन्होंने आरोप लगाया है कि केजरीवाल सरकार में इतनी हिम्मत नहीं बची है कि वह सदन में विपक्ष का सामना कर सके। वह जनता की समस्याओं पर चर्चा से भाग रही है। भाजपा विधायक दल ने विधानसभा अध्यक्ष से मांग की है कि शीतकालीन अधिवेशन कम से कम 10 दिन का किया जाए। उन्होंने कहा कि विधानसभा सत्र की सूचना नियमानुसार 15 दिन पहले दी जानी चाहिए और विधायकों से उठाए जाने वाले विषयों को आमंत्रित किया जाना चाहिए। लेकिन केजरीवाल सरकार इस नियम और परंपरा का लगातार उल्लंघन कर रही है।

स्मृति ने जताई इच्छा, मरणोपरांत संभव हुआ तो करेंगी अंगदान

बिधूड़ी ने कहा कि प्रदूषण के कारण दिल्ली की जनता जहरीली हवा में सांस लेने के लिए मजबूर है, पेट्रोल-डीजल की महंगाई जनता को सता रही है लेकिन दिल्ली सरकार वैट कम नहीं कर रही, नई आबकारी नीति से दिल्ली की गली-गली में शराब की दुकानें खुल रही हैं, डीटीसी की सारी बसें ओवरएज हो चुकी हैं, पब्लिक ट्रांसपोर्ट का भ_ा बैठ चुका है, 100 गांवों में किसानों की जमीन बारिश के पानी में अब तक डूबी हुई है और उन्हें कोई मुआवजा नहीं मिल रहा। इन समस्याओं को विधानसभा में उठाने पर निर्णय लिया गया। विधायक  मोहन सिंह बिष्ट, ओमप्रकाश शमाज़्,  विजेंद्र गुप्ता,  जितेंद्र महाजन, अनिल वाजपेयी, अजय महावर और अभय वमाज़् ने हिस्सा लिया। 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.