Wednesday, Feb 19, 2020
Only Pulwama attack like incident can change people mood in Maharashtra Sharad Pawar

शरद पवार का विवादित बयान- पुलवामा अटैक जैसी घटना बदल सकती है महाराष्ट्र में लोगों का मूड

  • Updated on 9/21/2019

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। महाराष्ट्र विधानसभा चुनावों (Maharashtra Assembly Election) से पहले एनसीपी प्रमुख शरद पवार (NCP Chief Sharad Pawar) का एक विवादित बयान सामने आया है। उन्होंने कहा है कि पुलवामा अटैक (Pulwama Attack) जैसी घटना ही महारष्ट्र के लोगों का मन बदल सकती है। महाराष्ट्र के लोगों के मन में फडणवीस सरकार के प्रति रोष है। 

उन्होंने कहा कि लोकसभा चुनाव से पहले लोगों के मन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ गुस्सा था। हालांकि पुलवामा अटैक के बाद पूरा माहौल ही बदल गया। शुक्रवार को ऑरंगाबाद में आयोजित एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान शरद पवार ने ये बयान दिया। 

PM मोदी को PAK पर मेरे बयान का पता करना चाहिए था: शरद पवार

योजनाबद्ध तरीके से हुआ पुलवामा हमला
प्रेस कॉन्फ्रेंस में पवार ने यहां तक कह दिया कि जब मैंने इस साल फरवरी में हुए पुलवामा अटैक के विषय में पूछताछ की तो पता लगा कि ये हमला योजनाबद्ध तरीके से किया गया था। मैं रक्षा मंत्री रह चुका हूं, रक्षामंत्रालय में काम कर चुका हूं। उन्होंने कहा कि योजना बनाकर किए गए इस हमले में पाकिस्तान का हाथ हो सकता है। 

शरद पवार ने आर्थिक मंदी को लेकर पीएम मोदी पर साधा निशाना

बालाकोट एयरस्ट्राईक ने बदला माहौल
आगे उन्होंने कहा कि इस हमले में 40 जवानों की जान जाने के बाद मोदी सरकार ने बालाकोट में एयरस्ट्राईक की। जिसके बाद पूरा देश उनके समर्थन में खड़ा हो गया। उन्होंने कहा कि मोदी की लोकप्रियता का जादू महाराष्ट्र में चलने वाला नहीं है, क्योंकि यहां की जनता फडणवीस सरकार के काम से खुश नहीं है। बीजेपी को इस विधानसभा चुनाव में हार का मुह देखना होगा। 

पवार ने राकांपा छोडने वाले नेताओं को बताया ‘कायर’

राज ठाकरे के साथ मिलने को तैयार नहीं कांग्रेस
कांग्रेस और एनसीपी के गठबंध को लेकर उन्होंने कहा कि हम मिलकर सेक्यूलर लोगों को अपने साथ लाने में जुटे हैं। समाजवादी पार्टी और अन्य कई पार्टियां भी हमारे साथ हैं। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी राज ठाकरे की महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के साथ हाथ मिलाने को तैयार हैं, लेकिन कांग्रेस इसके लिए उनका साथ नहीं दे रही। 

comments

.
.
.
.
.