Monday, Aug 15, 2022
-->
opposition-furious-against-kangana-ranaut-fir-registered-in-many-states-bjp-kept-silent-rkdsnt

कंगाना रनौत के खिलाफ विपक्ष आग-बबूला, कई राज्यों में FIR दर्ज, BJP ने साधी चुप्पी 

  • Updated on 11/12/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। कांग्रेस की मध्य प्रदेश इकाई ने देश की आजादी को लेकर फिल्म अभिनेत्री कंगना रनौत के विवादित बयान के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज किए जाने हेतु पुलिस को शुक्रवार को आवेदन सौंप कर कार्रवाई की मांग की है। अभिनेत्री ने 10 नवंबर को एक निजी टीवी चैनल पर यह कहकर विवाद खड़ा कर दिया है कि भारत को ‘‘1947 में आजादी नहीं, बल्कि भीख मिली थी’’ और ‘‘जो आजादी मिली है वह 2014 में मिली‘’ जब नरेंद्र मोदी सरकार सत्ता में आई। कांग्रेस की मध्य प्रदेश इकाई के महामंत्री एवं मीडिया प्रभारी के.के. मिश्रा के नेतृत्व में कांग्रेस पदाधिकारियों के एक शिष्ठमण्डल ने शुक्रवार को भोपाल के थाना हबीबगंज पहुंच कर रनौत के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज किए जाने हेतु एक आवेदन सौंपा। खास बता यह है कि भाजपा ने कंगना के बयान पर चुप्पी साधी हुई है। 

निजी निवेश को लेकर राज्यों के मुख्यमंत्रियों, वित्त मंत्रियों के साथ बैठक करेंगी सीतारमण

आवेदन में कहा गया है, ‘‘रनौत भारत की एक नागरिक हैं। लिहाकाा देश, कानून एवं उसकी संप्रभुता का सम्मान करना उनका कर्तव्य है। वे पहले भी देश में नफरत एवं घृणा फैलाने वाले कई बयान दे चुकी हैं।’’इसमें कहा गया है कि पद्मश्री पुरस्कार से सम्मानित की चा चुकी अभिनेत्री का यह बयान ‘‘2014 की पूर्व स्थापित सरकारों, स्वतंत्रता संग्राम में हिस्सा लेने वाले सेनानियों, स्वतंत्रता संग्राम के विरुद्ध देश के लिए शहादत देने वाले शहीदों के विरुद्ध देश की जनता को भड़काने, नफरत एवं घृणा फैलाने का अक्षम्य अपराध है।’’   

लीलावती ट्रस्ट चोरी मामला: कोर्ट ने गुजरात सरकार, बनासकांठा पुलिस को जारी किया नोटिस 

  इसमें कहा गया है, ‘‘अत: रनौत द्वारा दिया गया अमर्यादित एवं अशोभनीय बयान भादंवि (भारतीय दंड विधान) की धारा-124 ए, 504 एवं 505 के तहत दंडनीय अपराध है, जिस पर संज्ञान लेना पुलिस का अधिकार है। इसलिये उनके विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज की जाए।’’

इसी बीच, मिश्रा ने बताया कि यदि पुलिस रनौत के खिलाफ कार्रवाई नहीं करेगी, तो वह अदालत का दरवाजा खटखटाएंगे। इससे कुछेक घंटे पहले रनौत के इस विवादित बयान पर आक्रोश जताते हुए इंदौर में स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों के वंशजों ने उनका पुतला फूंका।     

 

निर्वाचन आयोग ने कोर्ट में कहा- चुनाव चिन्ह को लेकर भीम आर्मी प्रमुख की याचिका पर करेंगे विचार

चश्मदीदों ने बताया कि ‘‘स्वतंत्रता सेनानी एवं उत्तराधिकारी संयुक्त संगठन’’ से जुड़े लोगों ने शहर के एमजी रोड पर रनौत का पुतला फूंका। इस दौरान उन्होंने ‘‘वीर शहीदों का अपमान, नहीं सहेगा हिंदुस्तान’’, ‘‘कंगना रनौत मुर्दाबाद’’ और ‘‘कंगना रनौत को देश से बाहर करो’’ जैसे नारे भी लगाए।   

राहुल गांधी ने पूछा- अगर आप हिंदू हैं तो आपको हिंदुत्व की आवश्यकता क्यों है? 

  स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों के प्रदर्शनकारी वंशजों में शामिल आशा गोविंद खादीवाला ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘रनौत ने भारत को भीख में आजादी मिलने की बात कहकर पूरे देश के लोगों को आहत किया है। उन्हें अपने इस शर्मनाक बयान के लिए देश से माफी मांगनी चाहिए।’’ प्रदर्शनकारियों ने इंदौर संभाग के आयुक्त कार्यालय को रनौत के विवादित बयान के खिलाफ ज्ञापन भी सौंपा।

राजस्थान में भी कंगना के खिलाफ शिकायत 
महिला कांग्रेस की ओर से शुक्रवार को राजस्थान के चार शहरों जोधपुर, जयपुर, उदयपुर और चूरू में फिल्म अभिनेत्री कंगना रनौत के खिलाफ भारत की स्वतंत्रता को कथित रूप से च्च्भीख’’ बताने के मामले में पुलिस में शिकायत दर्ज कराई गई। अभिनेत्री के इस बयान से विवाद खड़ा हो गया है कि भारत को ‘‘1947 में आजादी नहीं, बल्कि भीख मिली थी’’ और ‘‘जो आजादी मिली है वह 2014 में मिली‘’ जब नरेंद्र मोदी की सरकार सत्ता में आई। कंगना ने जिस टीवी चैनल पर यह टिप्पणी की थी, उसका नाम भी शिकायत में दर्ज कराया गया है।     जोधपुर महिला कांग्रेस कमेटी की अध्यक्ष मनीषा पंवार ने शिकायत में कहा कि कंगना रनौत ने अपने बयान के माध्यम से स्वतंत्रता सेनानियों और देश के लोगों का अपमान किया, जो च्च्देशद्रोह की श्रेणी’’ के अंतर्गत आता है। पंवार ने शिकायत में कहा, च्च्पूरी दुनिया भारत के स्वतंत्रता संग्राम और उसके सेनानियों को उच्च सम्मान से देखती है। यह भी एक सच्चाई है कि हजारों लोगों ने इस स्वतंत्रता के लिए अपना बलिदान दिया और उनके बलिदान को ‘भीख’ बताकर उन्होंने (कंगना) शहीदों, उनके वंशजों और प्रत्येक भारतीय नागरिक का अपमान किया है।’’     

राकांपा ने अभिनेत्री का पद्मश्री वापस लेने की मांग की 
राकांपा ने शुक्रवार को मांग की कि अभिनेत्री कंगना रनौत को प्रदान किया गया पद्मश्री पुरस्कार स्वतंत्रता पर उनकी विवादास्पद टिप्पणी के लिए वापस ले लिया जाए। राकांपा ने साथ ही यह भी मांग की कि स्वतंत्रता सेनानियों का अपमान करने के लिए अभिनेत्री के खिलाफ मामला दर्ज किया जाना चाहिए।राकांपा प्रवक्ता नवाब मलिक ने निशाना साधते हुए कहा कि अभिनेत्री ‘मलाना क्रीम’ की अधिक खुराक के बाद बहुत अधिक बोल रही हैं। उल्लेखनीय है कि ‘मलाना क्रीम’ एक प्रकार की हशीश होती है, जिसका नाम हिमाचल प्रदेश में मलाना घाटी पर पड़ा है। मलिक ने कहा, ‘‘हम इस बयान की कड़ी ङ्क्षनदा करते हैं, जिसने उन लाखों स्वतंत्रता सेनानियों का अपमान किया है, जिन्होंने अपने प्राणों की आहुति दी। गांधीजी से लेकर अन्य स्वतंत्रता सेनानियों तक, जिन्होंने स्वतंत्रता के लिए लंबी लड़ाई लड़ी, सभी का अपमान किया गया है। हम मांग करते हैं कि उनका पद्मश्री वापस लिया जाए। उनके खिलाफ स्वतंत्रता सेनानियों के अपमान के लिए मामला दर्ज किया जाना चाहिए।’’ 

AAP की विदर्भ इकाई ने भी शिकायत दर्ज कराई
इस बीच, कांग्रेस नेता एवं राज्य के पूर्व मंत्री नसीम खान ने मुंबई के साकीनाका पुलिस थाने में एक शिकायत दर्ज कराई। खान ने कहा, ‘‘रनौत का पद्मश्री पुरस्कार वापस लिया जाना चाहिए क्योंकि उन्होंने स्वतंत्रता संग्राम और स्वतंत्रता सेनानियों का अपमान किया है। यह पुरस्कार का अपमान है जो उन्हें दिया गया है। उनका गैर जिम्मेदाराना बयान राजद्रोह है।’’ इस बीच, नागपुर से मिली खबर के अनुसार आप की विदर्भ इकाई ने शुक्रवार को कहा कि पुलिस को अभिनेत्री कंगना रनौत के खिलाफ देश के स्वतंत्रता संग्राम और इसमें भाग लेने वालों का अपमान करने के लिए कार्रवाई करनी चाहिए। आम आदमी पार्टी (आप) के विदर्भ संयोजक देवेंद्र वानखेड़े ने सीताबुलडी थाने में एक शिकायत दर्ज कराकर अभिनेत्री के खिलाफ राजद्रोह और अन्य आरोप लगाने की मांग की।

पंजाब विस चुनाव: AAP ने जारी की उम्मीदवारों की पहली सूची, मौजूदा MLAs को मौका

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.