Monday, Jan 27, 2020
opposition meeting on caa today many parties will not be involved

CAA पर विपक्षी एकता को झटकाः कई दलों ने किया कांग्रेस की बैठक का बहिष्कार

  • Updated on 1/13/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। नागरिकता संशोधन कानून (Citizenship Amendment Act) को लेकर देश भर में हो रहे प्रदर्शनों और उसके कारण देश के विश्वविद्यालयों में हो रही हिंसा के मद्देनजर सोमवार, 13 जनवरी को विपक्षी दलों की बैठक बुलाई गई है। कांग्रेस देश में चल रहे इन मुद्दों पर बीजेपी को विपक्ष की एकता दिखाना चाहता है लेकिन इसमें वे फेल होती नजर आ रही है।

हमारे शिक्षा मॉडल की हर तरफ हो रही है तारीफ: मनीष सिसोदिया

मायावती से लेकर ममता बनर्जी ने बैठक में आने से किया इंकार
इस बैठक में शामिल होने से कई पार्टियों ने इंकार कर दिया है। दरअसल पहले बहुजन समाज पार्टी की प्रमुख मायावती ने कांग्रेस की इस प्रायोजित बैठक में हिस्सा नहीं लेने का ऐलान किया। उसके बाद आम आदमी पार्टी ने भी बैठक में जाने से इंकार किया।

वहीं बंगाल की मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस की प्रमुख पहले ही इंकार कर दिया था। ममता बनर्जी ने कांग्रेस और वामपंथी पर सीएए प्रदर्शन के दौरन हिंसा फैलाने का भी आरोप लगाया। 

दिल्ली विधानसभा चुनाव: भाजपा व AAP के कई दलित नेता कांग्रेस में हुए शामिल

मायावती ने ट्वीट कर बैठक से किया इंकार
बसपा प्रमुख मायावती ने भी कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा और ट्वीट कर लिखा, 'जैसाकि विदित है कि राजस्थान कांग्रेसी सरकार को बीएसपी का बाहर से समर्थन दिये जाने पर भी, इन्होंने दूसरी बार वहाँ बीएसपी के विधायकों को तोड़कर उन्हें अपनी पार्टी में शामिल करा लिया है जो यह पूर्णतयाः विश्वासघाती है' 

मध्यप्रदेश: भाजपा ने शराब की उप दुकाने खोलने का किया विरोध, कहा- इससे बढ़ेगा अपराध

उन्होने एक अन्य ट्वीट में लिखा 'ऐसे में कांग्रेस के नेतृत्व में आज विपक्ष की बुलाई गई बैठक में बीएसपी का शामिल होना, यह राजस्थान में पार्टी के लोगों का मनोबल गिराने वाला होगा। इसलिए बीएसपी इनकी इस बैठक में शामिल नहीं होगी'। 

'वैसे भी बीएसपी CAA/NRC आदि के विरोध में है। केन्द्र सरकार से पुनः अपील है कि वह इस विभाजनकारी व असंवैधानिक कानून को वापिस ले। साथ ही, JNU व अन्य शिक्षण संस्थानों में भी छात्रों का राजनीतिकरण करना यह अति-दुर्भाग्यपूर्ण'।

दिल्ली विधानसभा चुनाव में काला धन पर रोक लगाने के लिए टोल फ्री नंबर जारी किया

आम आदमी पार्टी ने बैठक की जानकारी से किया इंकार
वहीं आम आदमी पार्टी की ओर से संजय सिंह ने कहा कि, इस तरह की किसी मीटिंग की हमें कोई जानकारी नहीं है, इसलिए, जिसके बारे में हमें पता ही नहीं, उस मीटिंग में शामिल होने का मतलब ही नहीं है। 

वहीं दूसरी ओर कांग्रेस की निगाहे शिवसेना पर बनी है बताया जा रहा है किसमाजवादी पार्टी और कांग्रेस के नए गठबंधन साझेदार बैठक में शामिल हो सकते हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.