Friday, Dec 09, 2022
-->
opposition uproar continues in parliament, meeting adjourned musrnt

Monsoon Session: विपक्ष का हंगामा जारी, बैठक दिन भर के लिए स्थगित

  • Updated on 8/6/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। पेगासस जासूसी विवाद और तीन कृषि कानूनों सहित विभिन्न मुद्दों को लेकर दोनों सदन में विपक्षी दलों के सदस्यों का हंगामा शुक्रवार को भी जारी रहा और संसद की कार्यवाही एक बार के स्थगन के बाद दोपहर बारह बज कर करीब दस मिनट पर पूरे दिन के लिए स्थगित कर दी गयी।

पेगासस जासूसी मामला, तीन केंद्रीय कृषि कानूनों और कुछ अन्य मुद्दों को लेकर विपक्षी सदस्यों के हंगामे के कारण शुक्रवार को लोकसभा की कार्यवाही एक बार के स्थगन के बाद दोपहर करीब 12 बजकर 25 मिनट पर दिन भर के लिये स्थगित कर दी। विपक्षी सदस्यों की नारेबाजी के बीच ही सदन ने ‘कराधान विधि (संशोधन) विधेयक, 2021’ और ‘केंद्रीय विश्वविद्यालय (संशोधन) विधेयक, 2021’ को मंजूरी दी।

आज सुबह सदन की कार्यवाही शुरू होने पर लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने 76 वर्ष पहले जापान के शहर हिरोशिमा और नागासाकी पर परमाणु बम गिराये जाने की घटना का उल्लेख किया। बिरला ने कहा कि इस घटना में दोनों शहरों में हजारों लोगों की मृत्यु हो गई और सैकड़ों लोग पंगुता के शिकार हुए। इसके कारण हुए परमाणु विकिरण के दुष्प्रभाव से आज भी लोग प्रभावित हैं।  

एक बार के स्थगन के बाद दोपहर 12 बजे उच्च सदन की बैठक शुरू होने पर भी सदन में हंगामा जारी रहा और विपक्षी दलों के सदस्य आसन के समीप आकर नारेबाजी करने लगे। कुछ सदस्यों के हाथों में तख्तियां भी थीं। पीठासीन अध्यक्ष सुरेंद्र सिंह नागर ने हंगामे के बीच ही प्रश्नकाल चलाने का प्रयास किया। इस दौरान मंत्रियों ने कुछ पूरक सवालों के जवाब भी दिए।

हालांकि सदन में भारी शोर के कारण उनकी बात ठीक से सुनी नहीं जा सकी। सदन में व्यवस्था बनते नहीं देख आसन ने कार्यवाही दिन भर के लिए स्थगित कर दी। इससे पहले सुबह उच्च सदन की बैठक शुरू होने पर पहलवान रवि कुमार दहिया को तोक्यो ओलंपिक में पुरुषों के 57 किग्रा भार वर्ग में रजत पदक जीतने पर बधाई दी गई।

इसके बाद उपसभापति हरिवंश ने शून्यकाल शुरू करने को कहा। कुछ सदस्यों ने कहा कि उन्होंने अपने- अपने मुद्दों पर चर्चा के लिए नियम 267 के तहत नोटिस दिए हैं। हरिवंश ने कहा कि इस नियम के तहत नौ नोटिस प्राप्त हुए हैं जिन्हें सभापति ने स्वीकार करते हुए अल्पकालिक चर्चा एवं अन्य तरीकों से इन मुद्दों को उठाने की अनुमति दी है। उन्होंने कहा कि विभिन्न दलों के नेता सभापति के साथ बैठक कर समय तय कर लें।

इसी दौरान तृणमूल कांग्रेस, कांग्रेस और अन्य विपक्षी दलों के सदस्य आसन के समक्ष आ कर विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की मांग को लेकर हंगामा करने लगे। शोरगुल के बीच ही उपसभापति ने शून्यकाल आरंभ कराया। भाजपा के हरनाथ यादव, बीजद के सस्मित पात्रा तथा जद (यू) के रामनाथ ठाकुर ने अपने- अपने मुद्दे उठाए। लेकिन हंगामे के कारण शून्यकाल आगे नहीं बढ़ पाया और 11 बज कर करीब 25 मिनट पर हरिवंश ने बैठक दोपहर बारह बजे तक के लिए स्थगित कर दी।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.