Tuesday, Oct 19, 2021
-->
order-reserved-on-bail-pleas-of-daughters-wife-of-yes-bank-founder-rana-kapoor-rkdsnt

यस बैंक के संस्थापक राणा कपूर की पत्नी, बेटियों की जमानत याचिकाओं पर आदेश सुरक्षित

  • Updated on 9/24/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। बंबई उच्च न्यायालय ने हाउसिंग फाइनेंस कंपनी डीएचएफएल से जुड़े एक कथित भ्रष्टाचार मामले में यस बैंक के संस्थापक राणा कपूर की पत्नी बिंदु कपूर और उनकी दो बेटियों राधा एवं रोशनी कपूर की जमानत याचिकाओं पर अपना आदेश सुरक्षित रख लिया। उन्होंने सीबीआई की विशेष अदालत के उस आदेश को उच्च न्यायालय में चुनौती दी है जिसमें उन्हें जमानत देने से इनकार कर दिया गया था। 

जिमखाना क्लब : सुप्रीम कोर्ट ने अगले आदेश तक CCTV फुटेज सुरक्षित रखने का दिया निर्देश

जस्टिस भारती डांगरे 28 सितंबर को इस मामले में आदेश सुना सकती हैं। सीबीआई अदालत ने पिछले सप्ताह तीनों महिलाओं की जमानत याचिकाएं खारिज कर दी थीं और उन्हें 23 सितंबर तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया था। याचिकाकर्ताओं के वकीलों ने उच्च न्यायालय में तर्क दिया कि आरोपियों को गिरफ्तार करने और हिरासत में लेने की आवश्यकता तब होती है, जब उनके फरार होने की आशंका हो। 

PMO ने हाई कोर्ट को किया सूचित - पीएम केयर्स कोष सरकारी कोष नहीं है 

सीबीआई की ओर से पेश वकील हितेन वेनेगावकर ने जमानत याचिकाओं का विरोध किया। उन्होंने कहा कि विशेष अदालत ने याचिकाकर्ताओं को न्यायिक हिरासत में भेजकर सुनवाई के लिए उनकी उपस्थिति सुनिश्चित की है। सीबीआई के अनुसार राणा कपूर ने डीएचएफएल के कपिल वधावन के साथ एक आपराधिक साजिश की। राणा कपूर अभी जेल में हैं। 

असम में पुलिस गोली कांड को लेकर राहुल गांधी ने भाजपा सरकार पर बोला हमला

यस बैंक ने अप्रैल से जून 2018 के बीच डीएचएफएल के अल्पकालिक डिबेंचर में 3,700 करोड़ रुपये का निवेश किया। केंद्रीय एजेंसी का आरोप है कि डीएचएफएल ने डीओआईटी अर्बन वेंचर्स नामक एक कंपनी को ऋण के रूप में कपूर को 900 करोड़ रुपये की रिश्वत दी। इस कंपनी पर कपूर की पत्नी और बेटियों का नियंत्रण है।

राकेश अस्थाना की नियुक्ति : कोर्ट में याचिका को लेकर प्रशांत भूषण के आरोप सही निकले

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.