Friday, Jul 30, 2021
-->
owaisi said congress is band baja party sohsnt

ओवैसी ने कांग्रेस को बताया 'बैंड-बाजा' पार्टी, BJP की B टीम कहने पर ममता पर भी साधा निशाना

  • Updated on 1/31/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। पश्चिम बंगाल (West Bengal) में विधानसभा चुनाव की तारीखों के नजदीक आते ही यहां आरोप-प्रत्यारोप का दौर शुरू हो गया है। ऐसे में एआईएमआईएम चीफ असदुद्दीन औवेसी (Asaduddin Owaisi) ने कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा है। उन्होंने कांग्रेस को बैंड-बाजा पार्टी कहा है। इसके साथ ही सीएम ममता बनर्जी द्वारा एआईएमआईएम को बीजेपी की बी पार्टी कहने पर उन्होंने टीएमसी को भी आड़े हाथों लिया।

TMC के बागी नेता मिले अमित शाह से, BJP की सदस्यता ग्रहण की


कांग्रेस को बताया बैंड-बाजा पार्टी
असदुद्दीन औवेसी ने कहा, जैसे ही हमने बंगाल चुनाव लड़ने की घोषणा की वैसे ही बैंड-बाजा पार्टी, जिसे कभी कांग्रेस के रूप में जाना जाता था ने कहना शुरू कर दिया कि हम बी टीम (भाजपा की) हैं। उन्होंने आगे कहा कि, अब तो ममता बनर्जी भी बातें कहने लगीं है। औवेसी ने पूछा, क्या मैं केवल एक ही हूं जिसके बारे में वे बात कर सकते हैं? मैं किसी और का नहीं अच्छे से जनता हूं। 

नए कृषि कानून के विरोध में बिहार में विपक्षी दलों ने बनाई मानव श्रंखला,नीतीश पर प्रहार

इससे पहले असदुद्दीन ओवैसी ने बंगाल की सीएम ममता बनर्जी पर जोरदार हमला बोला है। उन्होने कहा टीएमसी प्रमुख को उनके संगठन पर आरोप लगाने के बजाए खुद का आत्मनिरीक्षण करना चाहिए साथ ही देखना चाहिए कि बीजेपी ने किस तरह राज्य में 18 सीटों पर जीत दर्ज की।

प्रियंका गांधी बोलीं- भाजपा सरकार का पत्रकारों को धमकाने का चलन खतरनाक 

ओवैसी ने टीएमसी के आरोपों किया खारिज
ओवैसी ने टीएमसी के आरोपों को बेबुनियादी करार देते हुए खुद को सियासत की लैला बताता साथ ही कहा कि उनके मजनू बहुत अधिक हैं। इसके साथ ही ओवैसी ने टीएमसी के उस दावे को भी खारिज कर दिया जिसमें उनकी पार्टी को बीजेपी की बी-टीम कहा गया। दरअसल,  बंगाल चुनाव से पहले ओवैसी का मौलाना अब्बासुद्दीन से मिलना काफी अहम माना जा रहा है। 

कपिल सिब्बल बोले- किसान आंदोलन को तोड़ने के लिए रचे जा रहे हैं षड्यंत्र

अप्रैल-मई में होंगे चुनाव
बता दें कि हाल ही में बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने प्रशासन, पुलिस और मीडिया से भी हिंसा मुक्त विधानसभा चुनाव के लिए माहौल बनाने को कहा। यह चुनाव इस साल अप्रैल-मई में होने हैं। धनखड़ ने कहा कि अगर मतदाताओं को डराया जाता है और सरकारी अधिकारियों को राजनीतिक काम में शामिल किया जाता है तो यह चुनाव प्रक्रिया के लिए एक झटका होगा। उन्होंने सरकारी मशीनरी से तटस्थ रहने का आग्रह किया। साथ में यह सुनिश्चित करने को कहा कि विधानसभा चुनाव के दौरान लोग स्वतंत्र और निष्पक्ष तरीके से अपने मताधिकार का उपयोग कर सकें।

यहां पढ़ें अन्य बड़ी खबरें...

comments

.
.
.
.
.