Tuesday, Jun 22, 2021
-->
oxford-university-and-astrazeneca-covid-19-vaccine-has-shown-prsgnt

चिम्पैंजी में पाए जाने वाले Virus से तैयार हुई वैक्सीन, लास्ट ट्रायल के रिजल्ट का हो रहा है इंतजार!

  • Updated on 7/21/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। विश्व की बेस्ट यूनिवर्सिटी में से एक ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी और ब्रिटेन की प्रमुख फार्मास्यूटिकल कंपनी एस्ट्राजेनेका ने मिल कर कोरोना वायरस की वैक्सीन तैयार की है। फिलहाल इस वैक्सीन का ह्यूमन ट्रायल चल रहा है।

इस वैक्सीन को लेकर शुरुआती रिजल्ट काफी उत्साहजनक रहे हैं। इन रिजल्ट्स को देखते हुए ही इस  संभावित वैक्सीन को कोरोना की काट समझा जाने लगा है। आईये इस वैक्सीन से जुड़े कुछ खास पहलुओं पर नजर डालते हैं।

कोरोना से जंग में यूपी ने अपनाया दिल्ली का होम आइसोलेशन मॉडल- AAP का दावा

क्या कहते हैं वैज्ञानिक
इस वैक्सीन के ट्रायल के शुरूआती रिजल्ट के अनुसार, ये 18 से 55 वर्ष की आयु के लोगों में दोहरी प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया पैदा करता है। शुरूआत में 1000 लोगों पर इस वैक्सीन का ट्रायल किया गया था। इस वैक्सीन को एजेडडी1222 नाम दिया गया है।

वैज्ञानिकों ने इस वैक्सीन को चिंपांजियों में सामान्य सर्दी जुकाम का कारण बनने वाले वायरस में जेनेटिक बदलाव करके तैयार किया है। जिसे वैज्ञानिक भाषा में वायरल वेक्टर कहते हैं। इसमें लोगों को संक्रमित न करने और इम्युनिटी बढ़ाने जैसे बदलाव किए गये हैं।

कैसे करेगी काम
इस वैक्सीन के जरिए इंसान के इम्यून सिस्टम में रोगजनकों को खोजने और उन्हें खत्म करने की शक्ति होगी। ये वैक्सीन एंटीबॉडी और टी-सेल दोनों पक्षों को मजबूत करती है। वैक्सीन देने के बाद एंटीबॉडी को निष्क्रिय करने से जो परमाणु उत्पन्न होंगे वो संक्रमण रोकेंगे। इस वैक्सीन से शरीर की टी-कोशिकाएं प्रतिक्रिया देंगी कोरोना वायरस से लड़ने में सहायक होगी।

Corona World Live: दुनिया में अबतक 1.48 करोड़ से ज्यादा संक्रमित, 6.13 लाख से ज्यादा मौतें

जल्द मिल सकेगी वैक्सीन
ये वैक्सीन अपने बेहद खास चरण में है। इस वैक्सीन के लिए ब्रिटेन के लगभग 10,000 लोगों के अलावा दक्षिण अफ्रीका और ब्राजील में ट्रायल लिए जा रहे हैं। अगर वैक्सीन का लास्ट ट्रायल भी सफल हो जाता है तो जल्द ही दुनिया को ये वैक्सीन मिल सकेगी।

बताया जा रहा है कि ऑक्सफोर्ड ने एस्ट्राजेनेका और ब्रिटिश सरकार के साथ वैक्सीन को बड़े पैमाने पर बनाने के लिए कॉन्ट्रैक्ट किया है। जबकि एस्ट्राजेनेका दो अरब खुराक सबसे पहले तैयार करेगा और सरकारों के साथ हुए करार के आधार पर ही वैक्सीन दी जाएगी।

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें-

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.