Wednesday, Oct 20, 2021
-->
oxford will soon start human trial of corona vaccine prsgnt

कोरोना वैक्सीन का बंदरों पर ट्रायल हुआ सफल, अब ह्यूमन ट्रायल का इंतजार

  • Updated on 4/29/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। दुनियाभर के मेडिकल विशेषज्ञ और वैज्ञानिक कोरोना से लड़ने के लिए वैक्सीन बनाने में जुटे हुए हैं। कुछ देश वैक्सीन बनाने का दावा भी कर चुके हैं लेकिन अभी उनका ट्रायल किया जाना बाकी है।

वहीँ, ब्रिटेन की ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी इस मामले में सबसे तेज है। ऑक्सफोर्ड के जेनर इंस्टीट्यूट ने पिछले हफ्ते ही इसका ह्यूमन ट्रायल करना शुरू कर दिया और ये इंस्टीट्यूट मई के अंत तक 6 हजार से अधिक लोगों पर ट्रायल करके देखना चाहता है।

मिल गया कोरोना के खात्मे का जवाब, 9 दिसंबर तक हो जायेगा दुनिया से कोरोना का अंत

ब्रिटिश सरकार देगी 180 करोड़
जेनर इंस्टिट्यूट आगे भी लगातार ट्रायल करती रहे इसके लिए ब्रिटिश सरकार  मदद करते हुए, 20 करोड़ पाउंड यानी 180 करोड़ रुपये देने का वादा किया है। इस बीच अच्छी बात ये रही कि जेनर द्वारा किए गये रीसस मकाक बंदर (Rhesus Macaque Monkeys) पर किए गये वैक्‍सीन ट्रायल के रिजल्ट भी आ गये हैं। इस रिजल्ट के अनुसार, वैक्‍सीन 'ChAdOx1 nCoV-19' बंदरों को कोरोना से बचाने में सफल रही है।

चमगादड़ों में मिलते हैं कोरोना जैसे 500 से भी ज्यादा खतरनाक वायरस, पढ़ें रिपोर्ट

ऐसे किया गया था ट्रायल
इस बारे में द न्‍यूयॉर्क टाइम्‍स की रिपोर्ट की माने तो ब्रिटेन वैक्‍सीन बनाने की रेस में सबसे आगे है। इसी रिपोर्ट के हवाले से बताया गया है कि इंस्टीट्यूट की बनाई वैक्‍सीन रीसस मकाक बंदरों पर सफल रही है। इसमें 6 बंदरों पर ट्रायल किया गया था। वैक्सीन के ट्रायल के बाद बंदरों को कोरोना के हैवी लोड वायरस के संपर्क में लाया गया था। लेकिन 4 हफ्तों बाद भी वैक्सीन लेने वाले बंदर बिल्कुल स्वस्थ थे।

कोरोना वैक्सीन को लेकर भारत से क्यों उम्मीद लगाए बैठी है दुनिया, पढ़ें रिपोर्ट

28 दिन बाद भी...
वहीँ, ट्रायल में शामिल किए गये 6 बंदर ट्रायल के 28 दिन बाद भी स्‍वस्‍थ हैं। इस ट्रायल में शामिल किए गये रीसस मकाक बंदर इंसानों के सबसे करीबी माने जाते हैं। वहीँ इस ट्रायल से यह नहीं सिद्ध हो जाता है कि ये वैक्सीन इंसानों पर भी ऐसे ही काम करेगी।

इसके अभी 50-50 के चांस हैं। लेकिन इससे यह मदद जरुर मिली है कि इससे अगले लेवल तक जाया जा सकता है इसकी सफलता मिल चुकी है।

WHO ने चेताया- अभी कोरोना को जाने में वक्त लगेगा लेकिन हम बच्चों को लेकर ज्यादा चिंतित

कब तक आ सकती है वैक्सीन
वहीँ, द न्‍यूयॉर्क टाइम्‍स  में छपी रिपोर्ट की मानें तो इस वैक्‍सीन की कुछ लाख डोज सितंबर तक
मिल सकती है। लेकिन इसके लिए सबसे जरूरी है कि इसका ह्यूमन ट्रायल सफल हो सके। वैसे भारत में भी वैक्सीन बनाने में बड़ी सफलता मिली है।

भारत का सीरम इंस्‍टीट्यूट ऑफ इंडिया ऑक्‍सफोर्ड यूनिवर्सिटी के साथ मिलकर वैक्सीन बनाने में जुटा है। इससे पहले भी ये इंस्टीट्यूट मलेरिया वैक्‍सीन प्रोजेक्‍ट पर ऑक्सफोर्ड के साथ काम कर चुका है।

कोरोना वायरस से लड़ने के लिए दुनिया को दक्षिण कोरिया से सीखना होगा

भारत में आएगी वैक्सीन
उम्मीद की जा रही है कि कोरोना वैक्सीन भारत में सितंबर-अक्टूबर तक आ जाएगी। इंडियन सीरम इंस्टीट्यूट की तरफ से कहा गया है कि जल्द ही ह्यूमन ट्रायल शुरू होगा और शुरुआती 6 माह में 60 लाख डोज हर माह के लिए दी जायेंगी और फिर आगे हर महीने 1 करोड़ डोज बनाने की तैयारी की जाएगी।

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें

 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.