Friday, Jun 18, 2021
-->
pakistan announces 15th november as date for gilgit-baltistan assembly elections pragnt

भारत के कड़े विरोध के बाद भी नहीं माना PAK, गिलगित-बाल्तिस्तान चुनाव की तरीखों का किया ऐलान

  • Updated on 9/24/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। भारत (India) के कड़े विरोध के बाद भी जबरन अवैध तरीके से कब्जाए गए गिलगित-बाल्तिस्तान (Gilgit-Baltistan) की विधानसभा के लिए पाकिस्तान (Pakistan) ने चुनाव की तारीख का ऐलान कर दिया है। भारत की कड़ी आपत्ति के बावजूद पाकिस्तान 15 नवंबर को चुनाव कराने जा रहा है।

Fit India Dialogue: PM ने दिया स्वस्थ रहने का मंत्र- ‘फिटनेस की डोज, आधा घंटा रोज’

इन धाराओं के तरत होंगे चुनाव
राष्ट्रपति डॉ आरिफ अल्वी (Dr Arif Alvi) ने बुधवार को इस संबंध में एक अधिसूचना जारी की। वक्तव्य में कहा गया, 'पाकिस्तान इस्लामी गणतंत्र के राष्ट्रपति घोषणा करते हैं कि चुनाव अधिनियम 2017 की धारा 57 (1) के तहत रविवार, 15 नवंबर 2020 को गिलगित बाल्तिस्तान विधानसभा में आम चुनाव कराए जाएंगे।आपको बता दें कि गिलगित-बाल्टिस्‍तान में होने वाले इस विधानसभा चुनाव में तीन प्रमुख पार्टियां हिस्सा लेने वाली हैं। जिसमें इमरान की पीटीआई, नवाज शरीफ की पीएमल एन और बिलावल की पार्टी पाकिस्‍तानी पीपुल्‍स पार्टी का नाम शामिल है।

पाकिस्तान सरकार ने शाहबाज शरीफ और उनके परिवार के खिलाफ धनशोधन का मामला कराया दर्ज

पाकिस्तान ने किया जबरन कब्जा
भारत ने भारत ने पाकिस्तान से कहा है कि गिलगित बाल्तिस्तान समेत जम्मू-कश्मीर (Jammu And Kashmir) और लद्दाख (Ladakh) संघ शासित प्रदेश के संपूर्ण भूभाग का भारत में पूर्ण रूप से वैधानिक और स्थाई विलय हुआ था इसलिए यह देश का अभिन्न अंग है। भारत ने कहा कि पाकिस्तान की सरकार या उसकी न्यायपालिका का उन क्षेत्रों पर कोई अधिकार नहीं है जिनपर अवैध रूप से कब्जा किया गया था।

सरकार ने दी चेतावनी- देश की 1 अरब आबादी हो सकती है कोरोना वायरस से संक्रमित

18 अगस्त को होने थे चुनाव
गिलगित बाल्तिस्तान में 18 अगस्त को चुनाव होने थे लेकिन चुनाव आयोग ने कोरोना वायरस (Coronavirus) संक्रमण को देखते हुए 11 जुलाई को चुनाव की प्रक्रिया टाल दी थी। चुनाव की नई तारीखों का ऐलान गिलगित बाल्तिस्तान को पूर्ण प्रांत का दर्जा दिए जाने की खबरों के बीच लिया गया है। इस मुद्दे पर विपक्षी दलों और पाकिस्तान सेना के प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा के बीच 16 सितंबर को हुई बैठक में चर्चा की गई थी।

comments

.
.
.
.
.