Thursday, Oct 28, 2021
-->
pakistan-army-involved-in-genocide-of-hazara-shias-in-balochistan-killing-of-11-miners-prsgnt

Pak में हजारा शिया समुदाय का ‘नरसंहार’ करा रही सेना! 11 हत्याओं के बाद PM Modi से लगाई गुहार

  • Updated on 1/4/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। पाकिस्तान  (Pakistan) के बलूचिस्तान प्रांत में आतंकवादियों ने हजारा शिया समुदाय के 11 लोगों को मौत के घात उतार दिया है। इसके लिए पाकिस्तानी आर्मी को जिम्मेदार माना गया है और अब भारत के पीएम नरेंद्र मोदी से मदद की गुहार लगाई गई है। 

इस बारे में पीओके में मानवाधिकार कार्यकर्ता अमजद अय्यूब मिर्जा ने पाकिस्तानी आर्मी पर आरोप लगाए हैं और उन्हें इस वारदात का जिम्मेदार माना है। उनका कहना था कि आतंकवादियों ने समुदाय के कोयला खनन के लोगों का अपहरण कर रविवार को गोली मारकर हत्या कर दी। 

Pak आतंकी जकीउर-रहमान लखवी गिरफ्तार, टेरर फंडिंग में पकड़ा गया 26/11 मुंबई हमले का Master Mind

पीएम मोदी से मांगी मदद 
अय्यूब ने कहा कि बलूचिस्तान में रहने वाले हजारा शिया समुदाय सेना के हाथों मारे जा रहे हैं। उन्होंने यह भी कहा कि इन हत्याओं पर पाकिस्तानी अधिकारियों ने ध्यान नहीं दिया है। इस मामले में अब भारत के पीएम से मदद मांगने के लिए अय्यूब ने एक वीडियो संदेश में जारी किया है जिसमें वो पीएम नरेंद्र मोदी से मामले में संज्ञान लेने की अपील कर रहे हैं। उन्होंने बलूचिस्तान और पाकिस्तान के कब्जे वाले जम्मू-कश्मीर को भी आज़ाद कराने की अपील की है।

वहीँ, इस मामले में पुलिस ने बताया कि खनन में काम करने वाले और आतंकियों द्वारा मारे गए खनिकों को प्रांत के पर्वतीय माछ इलाके से हथियारबंद आतंकवादियों द्वारा अगवा किया गया था। इसके बाद उनपर करीब से गोली मार कर उनकी हत्या कर दी गई। 

नए साल में लोगों ने की आतिशबाजी तो सड़कों पर बिछी सैकड़ों पक्षियों की लाशें, सामने आया वीडियो

अधिकारियों ने कहा...
इस बारे में वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों के अनुसार, 11 कोयला खनिक काम पर जा रहे थे तभी उन्हें अगवा कर लिया गया। इनमें से छह खनिकों की घटनास्थल पर ही मौत हो गई थी और बाकी के लोगों को गंभीर रूप से घायल पांच अन्य को अस्पताल ले जाया गया था जहां उन्होंने रास्ते में ही दम तोड़ दिया था।

इधर, बलूचिस्तान लेवियस के अधिकारी मुर्जजा जतोई ने बताया कि खनिकों को दूर ले जाने और उनकी हत्या करने से पहले आतंकवादियों ने उनकी शिनाख्त परेड कराई थी। जबकि एक अन्य को सही सलामत छोड़ दिया गया। ये सभी खनिक अल्पसंख्यक शिया हजारा समुदाय से थे। खबरों की माने तो इन खनिकों को उनके धर्म को लेकर उन्हें निशाना बनाया गया। इससे पहले भी आतंकवादी संगठनों ने क्वेटा और बलूचिस्तान के अन्य हिस्सों में अल्पसंख्यक हजारा समुदाय को अपना निशाना बनाया था। वहीँ, क्वेटा के उपायुक्त मुराद कास ने कहा कि इन हत्याओं की अब तक किसी भी संगठन ने जिम्मेदारी नहीं ली है।

चीन को जवाब देने को तैयार भारत, एक्सपर्ट्स ने कहा- लद्दाख में कुछ करने से पहले 100 बार सोचेगा चीन

पाक पीएम ने की निंदा 
उधर, पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने भी खनिकों की हत्या की निंदा करते हुए इस घटना को ‘कायराना एवं आतंकवाद का एक और अमानवीय कृत्य करार दिया था। उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा, ‘मृतकों के परिवारों को (सरकार द्वारा) अकेला नहीं छोड़ा जाएगा। 

फ्रंटियर कोर से कहा गया है कि वह इन हत्यारों को पकड़ने और उन्हें न्याय के कठघरे में लाने के लिए पूरी ताकत झोंक दें।’ बलूचिस्तान के मुख्यमंत्री जाम कमाल खान ने भी इस घटना की कड़ी निंदा की और संबंधित अधिकारियों से जांच करने पर रिपोर्ट मांगी है।

ये भी पढ़ें...

comments

.
.
.
.
.