Saturday, Apr 20, 2019

पंजाब की सीमा में घुसा पाकिस्तान का ड्रोन, भारतीय जवानों ने की फायरिंग

  • Updated on 4/4/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। भारत लगातार पाकिस्तान को हर मोर्चे पर पस्त कर रहा हैं। इसके बाद भी पाक अपनी नापाक हरकतों से बाझ नहीं आ रहा है। सीमापर लागातार सीजफायर का उल्लंघन करने की कोशिश करता रहा है। हालांकि हर बार भारत उसका मुंहतोड़ जवाब दे रहा है। बुधवार को पाकिस्तान ने पंजाब की सीमा से तरणतारण के खेमकरण सेक्टर में एक ड्रोन दाखिल हो गया है। हालांकि भारतीय जवानों ने इसपर लगातार फायरिंग करके इसे खत्म करने की कोसिस की है। 

जवान लगातार इससे निपटने की कोशिस में लगे हुए हैं। इसके चलते आसपास के इलाके को ब्लैकआउट कर दिया गया है। क्षेत्र में इंटरनेट सेवा बंद कर दी गई है। भारतीय सेना के जवान पूरी तरह अलर्ट हो चुके हैं। फिलहाल इस ड्रोन को गिराए जाने की पुष्टि नहीं हो पाई है। 

राहुल गांधी आज वायनाड से करेंगे नामांकन दाखिल, प्रिंयका के साथ करेंगे रोड़ शो

पाकिस्तान लगातार इस तरह की हरकतें करता जा रहा है। ऐसा पहली बार नहीं हुआ है इससे पहले भी पाकिस्तान इस तरह की हरकतें करा आया है। हालांकि हर बार भारतीय सेना ने इसका माकूल जवाब भी दिया है। इसके बाद भी पाक बार-बार इस तरह की कोशिशें करता आ रहा है। 

देश के 22 शहरों में कांग्रेस आज करेगी संवाददाता सम्मेलन, घोषणापत्र पर होगी चर्चा

बता दें कि 14 फरवरी को पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद भारत ने पाकिस्तान की सीमा में घुसकर बालाकोट में एयर स्ट्राइक की थी। जिसमें आतंकी कैंप तबाह कर दिए गए थे। इसके साथ ही सैकड़ों आतंकी मारे जाने की खबर थी। इस मिशन को भारत की वायुसेना के द्वारा पूरा किया गया था। इसके तुरंत बाद पाक ने अपना ड्रोन भारतीय सीमा में भेजने की कोशिश की थी जिसे भारत ने नैस्तननाबूत कर दिया था। 

ममता बनर्जी ने किया मोदी पर पलटवार, बताया 'एक्सपायरी पीएम'

गौरतलब है कि अभी कुछ ही दिन पहले पाकिस्तान के लड़ाकू विमान पंजाब बार्डर के आस-पास देख गए। बताया जा रहा है कि उनका मकसद भारतीय सीमा की निगरानी करना था।जिसमें पाक का F-16 विमान भी शामिल था। ये विमान भी खेमकरण बॉर्डर के ही पास दिखाई दिया। 
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.