अब गधे सुधारेंगे पाकिस्तान के आर्थिक हालात, चीन ने दिखाई दिलचस्पी

  • Updated on 2/7/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। पाकिस्तान जहां गधों की आबादी के मामले में विश्व का तीसरा देश बन गया है वहीं अब पाकिस्तान की सरकार गधों की बढ़ती आबादी को आमदनी के नजरिए से देख रहा है। जी हां, आर्थिक किल्लत से जूझ रहे पाकिस्तान को अब वहां के गधे इस मुश्किल से निकालने वाले हैं। इसमे पाकिस्तान की मदद उसके सबसे करीबी दोस्त माने जाना वाले देश चीन भी कर रहा है।

दरअसल, पाकिस्तान में गधों की आबादी को कम करने के लिए इमरान सरकार चीन को गधे बेचने जा रही है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक चीन पाकिस्तान से  पांत हजार गधे खरीदेगा। चीन में गधों को काफी उपयोगी माना जाता है। गधों को वहां पर दवाईयों के रुप में और पारंपरिक चीनी दवा बनाने के रुप में उपयोग किया जाता है।

मां बनने के बाद घर नहीं इस होटल में जाती हैं महिलाएं, जानिए सच्चाई...

चीन में गधों के चमड़े से एक पारंपरिक दवा बनाई जाती है जिसकी मांग वहां काफी ज्यादा है और लोग हाथों-हाथ उस दवा को खरीद लेते हैं। इनके स्किन से तैयार होने वाले जिलेटिन को औषधीय गुणों वाला बताया जाता है। इससे खून और इम्यून सिस्टम बेहतर होता है। इससे पाकिस्तान को भी फायदा होने वाला है क्योंकि चीन गधों के एवज में इमरान सरकार को मोटी रकम भी देने वाली है।

पाकिस्तान की आर्थिक स्थिती को सुधारने के लिए यह अपनी तरह का पहला मामला है जो पाकिस्तान में संज्ञान में आया है। लेकिन इमरान सरकार ने लोगों को रोजगार दिलाने के लिए मुर्गी पालन के लिए भी कहा थी जिसके लिए उनकी काफी फजीहत भी हुई थी। खैर अब देखना यह है कि गधों को बेचकर पाकिस्तान कितना कमा सकता है।

इस शख्स ने अपने माता-पिता पर किया केस, वजह जान रह जाएंगे हैरान

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, विदेशी कंपनियां पाकिस्तान में 21 हजार करोड़ रुपये इन्वेस्ट कर सकती है। वहीं पाकिस्तान अब देश में गधों के फार्म की भी शुरुआत करने का विचार बना रही है। डेरा इस्मायल खान और मनसेहरा में विदेशी साझेदारी में फार्म शुरू किए जा रहे हैं। पहले तीन वर्षों में सरकार करीब 80 हजार गधों का निर्यात करना चाहती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.