Monday, Nov 29, 2021
-->
pappu yadav questions role home minister amit shah ajay teni ib intelligence bureau rkdsnt

पप्पू यादव ने जेल से निकलते ही दिखाए तेवर, गृह मंत्री/राज्यमंत्री और आईबी के रोल पर उठाए सवाल

  • Updated on 10/8/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी कांड को लेकर जन अधिकार पार्टी (जाप) के राष्‍ट्रीय अध्यक्ष और पूर्व सांसद पप्‍पू यादव (Pappu yadav) ने केंद्र की मोदी सरकार और उनकी एजेंसियों पर सवाल उठाने शुरु कर दिए हैं। पप्पू ने जहां लखीमपुर खीरी घटना की निंदा की, वहीं देश का गृह मंत्री अमित शाह, गृहराज्यमंत्री अजय कुमार मिश्रा टेनी और केंद्रीय एजेंसियों पर निशाना साधा है। 

क्रूज पोत पर NCB की छापेमारी को लेकर NCP के नवाब मलिक फिर करेंगे खुलासे

टाटा संस की हुई एयर इंडिया, शाह की अध्यक्षता में मंत्रियों की समिति में फैसला

जेल से बाहर आने के बाद मीडिया से बात करते हुए पप्पू यादव ने अजय कुमार मिश्रा को आपराधिक पृष्ठभूमि का करार दिया, वहीं उनकी कार्यशैली पर भी सवाल उठाए। उन्होंने आरोप लगाया कि तीनों गृहमंत्री अपराधी हैं। दूसरे होम मिनिस्टर पर भी ढेर केस और तीसरा होम मिनिस्टर, जो गाड़ी चढ़ा दिया, उसपर 12 केस। जब होम मिनिस्टर 302 और औकात बता दूंगा, बोलता है और एक दिन बाद गाड़ी चढ़ावा देता है। 

लखीमपुर हत्याकांड पर सुप्रीम कोर्ट सख्त, आरोपी मिश्रा को लेकर हरकत में आई यूपी पुलिस

इसके साथ ही पप्पू ने अपने ट्वीट में केंद्रीय एजेंसी आईबी के रोल पर भी सवाल उठाए हैं। वह लिखते हैं, 'पहले आईबी रिपोर्ट देती थी, व्यक्ति बिल्कुल बेदाग है, गृह मंत्री/राज्यमंत्री बनाया जा सकता है। अब आईबी रिपोर्ट देती है, व्यक्ति पूरा दागदार है, ऐसा लालटेन लेकर ढूंढने पर नहीं मिलेगा। गृह मंत्री/राज्यमंत्री बनाने के लिए सर्वथा योग्य हैं।'

अपने एक और ट्वीट में वह लिखते हैं, 'गृहमंत्री अमित शाह किसानों के नरसंहारकर्ता अजय टेनी से मिलकर खुशी से फुले नहीं समा रहे हैं! लोग इनके वंश कुल्हड़ मोनू की गिरफ्तारी की उम्मीद लगाए बैठे हैं! टेनी को आका ने जो कहा वह करके आया है, उसका बाल बांका कौन करेगा! अगर आपके दिल में आग लगी है तो इनके समूल नाश का संकल्प लें!'

क्रूज पोत में एनसीबी के छापे को लेकर भी पप्पू यादव ने तंज कसा है। वह लिखते हैं, 'आर्यन खान मामला के जरिये बस इतना संदेश देना था कि देश में ड्रग्स का सप्लायर बस एक रहेगा। अडानी पोर्ट से आया हेरोइन ही लेना है। उससे माल लेकर फुंकोगे तो बचे रहोगे। अन्यथा, जेल, प्रताड़ना, बदनामी के लिए तैयार रहो।'
 

सुप्रीम कोर्ट ने NEET के लिए EWS श्रेणी की आय-सीमा 8 लाख रु निर्धारित करने का आधार पूछा

comments

.
.
.
.
.