Wednesday, Sep 18, 2019
parle-g hit by recession 10000 employees may be laid off

देश की सबसे बड़ी बिस्किट निर्माता कंपनी पर पड़ी मंदी की मार, 10000 कर्मचारियों की हो सकती है छंटनी

  • Updated on 8/21/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। देश की सबसे बड़ी बिस्किट (Biscuit) निर्माता कंपनी पार्ले प्रोडक्ट्स (Parle Products) पर भी आर्थिक मंदी (Financial Crisis) की मार पड़ने जा रही है। पार्ले कंपनी मंदी की मार की वजह से अपने 8 से 10 हजार कर्मचारियों (Employees) की छंटनी भी कर सकता है। कंपनी ने इस मामले पर कहा कि अगर कंपनी की खपत पर इसी तरह मंदी बनी रही तो उन्हें अपने कर्मचारियों को निकालना पड़ेगा। कंपनी ने ये भी कहा कि देश की ये मंदी इस बात की गवाह है कि भारत की अर्थव्यवस्था इस सही जगह पर नहीं है। 

हथियारबंद बदमाशों ने ट्रांसपोर्टर से कि लूट-पाट, पुलिस कर रही मामले की जांच

बढ़ते GST दरों ने बिगाड़ा खेल

इस मुद्दे पर कंपनी के कैटेगरी हेड मयंक शाह (Mayan Shah) का कहना है कि 'हमने सरकार से अपील की थी कि 100 रुपए प्रति किलोग्राम से कम कीमत पर बिकने वाले बिस्किट पर लगा GST कम कर दिया जाए। ये बिस्किट 5 रुपए और उससे कम की दाम पर बिकते हैं, लेकिन अगर सरकार हमारी इस अपील को नहीं मानेगी तो हमारे पास 8,000 से 10,000 लोगों को नौकरी से निकालने के अलावा कोई और चारा नहीं बचेगा।'

हरियाणा में विपक्षी दलों का महागठबंधन मात्र ख्याली पुलाव: मनोहर लाल खट्टर

गांवों में है पार्ले की ज्यादा खपत

देश की सबसे बड़ी बिस्किट निर्माता कंपनी पार्ले भारत में बहुत ही मशहूर ब्रांड है। सालाना 10,000 करोड़ से ज्यादा की बिक्री करने वाली कंपनी पार्ले पार्ले-जी (Parle-G), मोनाको (Monaco) और मारी (Marie) जैसे फेमस ब्रांड के बिस्किट प्रोडक्ट्स बनाती है। कंपनी में एक लाख कर्मचारी काम करते हैं और कंपनी के देशभर में 10 प्लांट्स हैं। पार्ले के प्रोडक्ट्स की सबसे ज्यादा खपत गांवों में होती है।

एफडीआई नियमों के कथित उल्लंघन के मामले में प्रणय रॉय और अन्य के खिलाफ मामला दर्ज

ब्रिटानिया कमपनी भी जता चुका है चिंता

आर्थिक मंदी की मार पार्ले के अलावा और भी बिस्किट व डेयरी प्रोडक्ट निर्माता कंपनियों पर पड़ रही है। देश की एक और बड़ी कंपनी ब्रिटानिया (Britania) भी कुछ दिन पहले ऐसी ही चिंता जता चुका है। ब्रिटानिया कंपनी के मैनेजिंग डायरेक्टर वरुण बैरी ने कहा कि, खरीदार बिस्किट का 5 रुपए का पैक खरीदने में भी हिचक रहे हैं। ये इकोनॉमी के लिए ठीक नहीं है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.