Thursday, May 06, 2021
-->
parliamentary committee on defense affairs to visit pangong lake-galvan valley prshnt

रक्षा मामलों की संसदीय समिति पैंगोंग झील-गलवान घाटी का करेंगे दौरा, कांग्रेस नेता भी है सदस्य

  • Updated on 2/13/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। भारत-चीन (India-China) के बीच हुए समझौते के बाद दोनों देशों की सेना पूर्वी लद्दाख (East Ladakh) से सटी एलएसी से पिछे हटना शुरू कर दिया है। ऐसे में जानकारी मिली है कि रक्षा मामलों पर संसद की स्थायी समिति ने पूर्वी लद्दाख क्षेत्र में पैंगोंग झील और गलवान घाटी का दौरा करने का फैसला किया है। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक शुक्रवार को यह जानकारी मिली। भाजपा के वरिष्ठ नेता जुएल ओराम की अध्यक्षता वाली समिति मई या जून के अंतिम हफ्ते में वहां के दौरे पर जाना चाहती है। 

बता दें कि कांग्रेस नेता राहुल गांधी भी इस समिति के सदस्य हैं। बताया जा रहा है कि इन इलाकों का दौरा करने का फैसला समिति की पिछली बैठक में लिया गया था। उस बैठक में गांधी शामिल नहीं हुए थे। वास्तविक नियंत्रण रेखा पर जाने के लिए समिति को सरकार से मंजूरी लेनी होगी।

14 फरवरी को केरल और तमिलनाडु का दौरा करेंगे पीएम मोदी, सेना को सौंपेंगे अर्जुन टैंक

भारत और चीन के व्यवस्थित तरीके से पीछे हटना शुरू किया
वहीं चीन के रक्षा मंत्रालय ने कहा कि पूर्वी लद्दाख में पैंगोग झील के उत्तरी और दक्षिणी छोर पर तैनात भारत और चीन के अग्रिम पंक्ति के सैनिकों ने बुधवार से व्यवस्थित तरीके से पीछे हटना शुरू कर दिया। भारतीय पक्ष की ओर से इस बारे में कोई टिप्पणी नहीं आई है। चीनी रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता कर्नल व कियान ने कहा कि पूर्वी लद्दाख में पैंगोग झील के उत्तरी और दक्षिणी किनारों पर तैनात भारत और चीन के अग्रिम पंक्ति के सैनिकों ने बुधवार से व्यवस्थित तरीके से पीछे हटना शुरू कर दिया। उनके इस बयान से संबंधित खबर चीन के आधिकारिक मीडिया ने साझा की है। 

उत्तराखंडः चमोली त्रासदी पर बोले CM रावत- हालात को लेकर सावधान रहने की जरूरत

पूर्वी लद्दाख में पिछले साल मई से सैन्य गतिरोध
कियान ने एक संक्षिप्त प्रेस विज्ञप्ति में कहा कि भारत और चीन के बीच कमांडर स्तर की नौवें दौर की वार्ता में बनी सहमति के अनुरूप दोनों देशों के सशस्त्र बलों की अग्रिम पंक्ति की इकाइयों ने आज 10 फरवरी से पैंगोंग झील के उत्तरी और दक्षिणी किनारों से व्यवस्थित तरीके से पीछे हटना शुरू कर दिया। उल्लेखनीय है कि दोनों देशों के बीच पूर्वी लद्दाख में पिछले साल मई से सैन्य गतिरोध चला आ रहा है।

दोनों देश मुद्दे के समाधान के लिए कई दौर की कूटनीतिक और सैन्य स्तर की वार्ता कर चुके हैं। दोनों देशों की सेनाओं के बीच गत 24 जनवरी को मोल्डो-चुशूल सीमा स्थल पर चीन की तरफ कोर कमांडर स्तर की नौवें दौर की वार्ता हुई थी।  

बजट के दौरान TMC सांसद दिनेश त्रिवेदी ने दिया इस्तीफा, बोले- मुझे हो रही घुटन   

कोरोना वायरस की जांच के लिए टीम कर रही जांच
वहीं दूसरी ओर पूरे विश्व में आंतक मचा रहे कोरोना वायरस की जांच के लिए चीन के वुहान प्रांत में पहुंची विश्व स्वास्थ्य संगठन की टीम ने वहां के लैब की भी जांच की। इस जांंच के बाद एक विशेषज्ञ ने कहा कि चीन की एक प्रयोगशाला से कोरोना वायरस के फैलने की संभावना नहीं है। इसने किसी जंतु के जरिए मानव शरीर में प्रवेश किया होगा।

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.