Friday, Apr 10, 2020
passengers taking paracetamol for negative in the corona check up

भारत में कोरोना के फैलने का जिम्मदार ये लोग हैं, जांच के दौरान दिया था चकमा

  • Updated on 3/26/2020

नई दिल्ली/ धीरज कुमार। कोरोना वायरस (Corona Virus) से आज पूरी दुनिया ग्रस्त है। चीन (China) के वुहान शहर से शुरु हुई बीमारी ने अब महामारी का रुप धारण कर लिया है। भारत में भी इस बीमारी ने अपने पैर पसारने शुरु कर दिए हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय (Health Ministry) की रिपोर्ट के अनुसार देश में अब तक करीब 700 लोग वायरस से संक्रमित पाए गए हैं। इनमें से 42 लोग ठीक हुए हैं, जबकि 14 लोगों ने अपनी जान गंवाई है। लेकिन क्या आप जानते हैं इस महामारी ने चीन से भारत तक सफर कैसे तय किया?

coronavirus: 5 दिन में दिखे ये लक्षण तो जरूर कराएं जांच 

लॉकडाउन की मार झेल रहा भारत
कहा जाता है कि डॉक्टर या वैद्य से कुछ छिपाना नहीं चाहिए, लेकिन कोरोना संक्रमितों ने इस कहावत का पालन नहीं किया और इसकी कीमत अब पूरे देश को चुकानी पड़ रही है। स्वास्थ्य मंत्रालय की माने तो आज देश में ऐसी स्थिति का कारण कोरोना संक्रमितों की चालाकी है। संक्रमितों की चालाकी ने ही देश में मुसीबत बढ़ाई है और उसी का नतीजा ही है जो आज देश कर्फ्यू (Curfew) जैसी हालत झेल रहा है। 

क्या अखबार पढ़ने से हो सकता है कोरोना का संक्रमण? जानिए क्या कहता है WHO

Doc

विदेश से भारतीयों को बचाने का फैसला
दरअसल, जनवरी-फरवरी के महीने में चीन से दुनियाभर के अलग-अलग देशों में अपनी उपस्थिति दर्ज करा रहा कोरोना वायरस से बचाने के लिए भारत सरकार ने भारतीयों को भारत में जगह देने का फैसला किया। इसके लिए नई दिल्ली ने एक स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसिजर तैयार किया और विदेश मंत्रालय (Foreign Ministry) ने संबंधित देशों से संपर्क साधकर भारतीयों को सुरक्षित लाने का फैसला किया। इसके बाद अनेक भारतीय मूल के नागरिक भारत आने लगे, सरकार ने देश के 21 अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डों समेत अन्य स्थानों पर थर्मल स्क्रीनिंग की व्यवस्था शुरू की।

Doc

जांच में दिया था चकमा
इसके बाद तय हुआ कि जो भी लोग विदेशी धरती से आएंगे और वो कोरोना से संक्रमित पाए जाते हैं तो उन्हें क्वारंटीन किया जाएगा और रिपोर्ट निगेटिव आने पर छोड़ा जाएगा। लेकिन लोगों ने इसका गलत फायदा उठाया और भारत को ही चकमा देने की चालाकी करने लगे। संक्रमित नागरिकों ने क्वारंटीन से बचने के लिए रास्ते में ही पैरासिटामॉल का खा लीं।नतीजतन संक्रमित नागरिक जांच में निगेटिव पाए गए और वो उसी अवस्था में अपने घर, मुहल्ले में चले गए जहां पर अनेक लोगों को यह बीमारी बांट आए।    

कोरोना वायरस : मास्क के इस्तेमाल में भी बरतें सावधानियां, ऐसे करें यूज 

भयावह आंकड़ें आ रहे हैं सामने
आंकड़े भी काफी चौंकाने वाले सामने आ रहे हैं। भारत में पिछले तीन महीने के भीतर का आंकड़ा डराने वाला है। पहले एक लाख संभावित संक्रमितों की संख्या 45 दिन में आए। अगले एक लाख लोगों के मामले 10 दिन और इसके अगले एक लाख महज तीन दिन में सामने आए। स्वास्थ्य विभाग की ओर से आशंका जताई गई है भविष्य में स्थिति और भी खराब होगी। आसार ऐसे बन रहे हैं कि अब 24 घंटे के अंतराल पर एक-एक लाख संभावित संक्रमित लोग सामने आएंगे, जिनको जांच प्रक्रिया से गुजरनी होगी। इसी बड़े अनहोनी से बचने के लिए सरकार ने लॉकडाउन (Lockdown) जैसे बड़े कदमों का सहारा लिया है। माना जा रहा  है कि यह आंकडे़ 31 मार्च तक नहीं सुधरे तो भारत को इस क्षति से बचना मुश्किल हो जाएगा।

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें 

क्या अखबार पढ़ने से हो सकता है कोरोना का संक्रमण? जानिए क्या कहता है WHO

क्या है कोरोना वायरस? जानें, बीमारी के कारण, लक्षण व समाधान

इन आयुर्वेदिक उपायों का करें इस्तेमाल, नहीं आएगा Coronavirus पास 

coronavirus: 5 दिन में दिखे ये लक्षण तो जरूर कराएं जांच 

यदि आपका है यह Blood Group तो जल्द हो सकते हैं कोरोना वायरस के शिकार 

कोरोना वायरस: जिम बंद हुए हैं एक्सरसाइज नहीं, 'वर्क फ्रॉम होम' की जगह करें 'वर्कआऊट फ्रॉम होम' 

Coronavirus को रखना है दूर तो डाइट में शामिल करें ये 7 चीजें 

कोरोना वायरस : मास्क के इस्तेमाल में भी बरतें सावधानियां, ऐसे करें यूज 

कोरोना वायरस से जुड़े ये हैं कुछ खास मिथक और उनके जवाब 

मिल गया Coronavirus का इलाज! जल्द ठीक हो सकेंगे सभी संक्रमित 

 

comments

.
.
.
.
.