Thursday, Oct 28, 2021
-->
patanjali launches corona drug, claims to be fully recovered in 7 days prshnt

पतंजलि ने लॉन्च किया कोरोना की दवा, 3 दिन में 69% प्रतिशत मरीज हुए रिकवर

  • Updated on 6/23/2020

हरिद्वार/ब्यूरो। दुनियाभर में कोरोना महामारी से बचाव के लिए दवाई और वैक्सीन की खोज अब तक जारी है, इसके लिए हर देश प्रयास में जुटा हुआ है। ऐसे में भारत में बाबा रामदेव के संस्थान पतंजलि ने आज कोरोना की एविडेंस बेस्ड पहली आयुर्वेदिक दवा कोरोनिल को पूर्ण वैज्ञानिक विवरण के साथ लॉन्च किया है। पतंजलि योगपीठ में योगगुरु स्वामी रामदेव और आचार्य बालकृष्ण ने दिव्य कोरोनील टेबलेट लांच की। दावा किया गया कि इस दवा से 3 दिन में 69% मरीज रिकवर हो गए। यानी जो कोरोना पॉजिटिव थे वह नेगेटिव हो गए।

280 मरीजों को पर हुआ ट्रायल
स्वामी रामदेव ने बताया कि कई शहरों में दवा की क्लिनिकल कंट्रोल स्टडी की गई। इसमें 280 मरीजों को शामिल किया गया। क्लिनिकल स्टडी का परिणाम शत प्रतिशत आया और इस दौरान एक भी मरीज की मौत नहीं।हुई दूसरे चरण में क्लीनिकल कंट्रोल ट्रायल किया गया।रामदेव ने बताया कि इसके लिए कई तरह के अप्रूवल लेने पड़ते हैं ।सबसे पहले एथिकल अपूर्वल लिया जाता है।फिर सीटीआईआर के अप्रूवल के बाद रजिस्ट्रेशन कराया गया।

अमेरिका ने दिया चीन को बड़ा झटका! ट्रेड डील हुई खत्म, दुनियाभर के शेयर बाजार में आई भारी गिरावट

वैज्ञानिक प्रक्रिया से बनी दवा
रामदेव ने कहा कि उन्होंने इस दवा के निर्माण में पूरी तरह से वैज्ञानिक प्रक्रिया का को अपनाया है।उन्होंने बताया कि दवा लेने से 7 दिन के भीतर सभी मरीज स्वस्थ हो गए।इस दवा पर पतंजलि रिसर्च इंस्टीट्यूट और नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस जयपुर ने मिलकर काम किया है।इस दवा में मुलेठी, काढ़ा,गिलोय, अश्वगंधा,तुलसी, श्वासरी, अणु तेल आदि का इस्तेमाल किया गया है। अगले एक सप्ताह में यह दवा पतंजलि स्टोर पर उपलब्ध होगी।

सोनिया गांधी ने PM मोदी को लिखा पत्र, मुफ्त राशन वितरण सितंबर तक बढाने की मांग की

दवा बनाने वाली पूरी टीम रही मौजूद
बता दें कि पतंजलि योगपीठ की ओर से दवाई लॉन्च करने की सूचनादी गई थी इस दौरान स्वामी रामदेव और आचार्य बालकृष्ण ने कोरोना संक्रमण के इलाज में प्रमुख सफलता को साझा किया। इस दौरान ट्रायल में शामिल वैज्ञानिकों, शोधकर्ता और डॉक्टरों की टीमें भी मौजूद रहें। यह रिसर्च संयुक्त रूप से पतंजलि रिसर्च इंस्टीट्यूट हरिद्वार एंड नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस जयपुर द्वारा किया गया है। बताया जा रहा है कि दवा का निर्माण दिव्या फार्मेसी हरिद्वार और पतंजलि आयुर्वेद लिमिटेड हरिद्वार के द्वारा किया जा रहा है।

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.