Sunday, Nov 27, 2022
-->
paytm accusation google forced to withdraw cashback even it valid in india rkdsnt

PayTM का आरोप- भारत में लीगल होने के बावजूद Google ने कैशबैक हटाने को किया मजबूर

  • Updated on 9/21/2020


नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। डिजिटल भुगतान कंपनी पेटीएम (Paytm) ने दावा किया है कि भारत में वैध होने के बाद भी गूगल (Google) ने उसे कैशबैक की पेशकश हटाने के लिए बाध्य किया। पेटीएम ने यह भी आरोप लगाया कि गूगल की भुगतान सेवा ‘गूगल पे’ क्रिकेट पर आधारित इसी तरह की पेशकश खुद ही कर रही है। 

पर्यटकों के लिए ताजमहल खुला, हस्तशिल्प एंपोरियम के लिए करना होगा इंतजार

गूगल ने आईपीएल क्रिकेट टूर्नामेंट से पहले 18 सितंबर के नीतिगत अपडेट के बाद पेटीएम के ऐप को अपने ऐप स्टोर ‘प्ले स्टोर’ से कुछ समय के लिये हटा दिया था। पेटीएम का ऐप वापस प्ले स्टोर पर तब आ पाया था, जब उसने क्रिकेट से संबंधित एक फीचर से कैशबैक की सुविधा को वापस ले लिया था। 

यौन उत्पीड़न मामला : अनुराग कश्यप के बचाव में उतरीं अनुभव सिन्हा, तापसी पन्नू जैसी फिल्मी हस्तियां

पेटीएम ने एक ब्लॉग पोस्ट में कहा कि उसे एंड्रॉयड प्ले स्टोर पर वापस जगह पाने के लिये यूपीआई कैशबैक व स्क्रैच कार्ड सुविधा को हटाने के गूगल के प्रावधान को मानने के लिये बाध्य किया गया। कंपनी ने कहा, ‘‘भारत में दोनों (कैशबैक व स्क्रैच कार्ड) ही पेशकश वैध है और सरकार के सभी नियमों व कानूनों का पालन करते हुए कैशबैक की सुविधा दी जा रही है।’’ 

IPL 2020: दिल्ली कैपिटल्स ने सुपर ओवर में किंग्स इलेवन पंजाब को दी मात

पेटीएम ने कहा कि ऐप प्ले स्टोर की नीतियां भेदभाव वाली हैं और परोक्ष तौर पर बाजार में गूगल का एकाधिकार स्थापित करने के लिये बनायी गयी हैं। उसने कहा कि उसे इस भेदभावपूर्ण नीति का अनुसरण करने के लिये बाध्य किया गया। भुगतान कंपनी ने कहा कि गूगल पे ने खुद ही तेज शॉट्स मुहिम की शुरुआत की है। इस मुहिम में स्पष्ट तौर पर कहा गया है कि एक लाख रुपये तक का निश्चित ईनाम पाने के लिये रन बनायें। गूगल पे ने भी इसे क्रिकेट सत्र की शुरुआत के समय पेश किया है। 

NBA ने सुप्रीम कोर्ट से कहा- हमारी ‘आचार संहिता’ को नियमों का हिस्सा बनाया जाए

इस मुद्दे पर गूगल से फिलहाल प्रतिक्रिया नहीं मिल पायी है। पेटीएम ने यह भी आरोप लगाया कि उसे गूगल ने अपनी आपत्तियों का जवाब देने या विचार सामने रखने का कोई अवसर नहीं दिया। पेटीएम ने अपने ब्लॉग में कहा, 'हम मानते हैं कि हमारा प्रचार अभियान दिशानिर्देशों के भीतर था और हमने कोई उल्लंघन नहीं किया था। यह किसी भी तरह से जुए से संबंधित नहीं था।'

फेसबुक ने घृणा फैलाने वाले भाषणों से निपटने के तरीके का बचाव किया

 

 

 

 

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें...

सुशांत मौत मामले में CBI ने दर्ज की FIR, रिया के नाम का भी जिक्र

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.