Sunday, Oct 02, 2022
-->
pdp raised questions regard issue former police officer devinder singh jk after congress rkdsnt

पूर्व पुलिस अधिकारी देविंदर सिंह के मुद्दे पर कांग्रेस के बाद PDP ने उठाए सवाल

  • Updated on 8/2/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। पिछले साल एक वाहन में आतंकियों को ले जाने वाले जम्मू कश्मीर के पूर्व पुलिस अधिकारी देविंदर सिंह के खिलाफ जांच रोकने को लेकर कांग्रेस के बाद पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) की अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती ने सवाल उठाए हैं। मुफ्ती ने सोमवार को आरोप लगाया कि देविंदर सिंह को केंद्र ने छोड़ दिया जबकि आतंक रोधी कानूनों के तहत बेकसूर कश्मीरियों को वर्षों तक जेल में रहना पड़ता है। सरकार पर दोहरा मापदंड अपनाने का आरोप लगाते हुए महबूबा ने कहा कि कश्मीरियों को ‘‘निर्दोष साबित होने तक दोषी माना जाता है।’’ 

पेगासस मामले पर मोदी सरकार के खिलाफ अब नीतीश कुमार ने झंडा किया बुलंद!

इससे पहले देविंदर सिंह को लेकर कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने अपने ट्वीट में लिखा था, 'जम्मू कश्मीर के पूर्व डिप्टी एसपी देविंदर सिंह कौन हैं? आखिर सरकार कोई जांच क्यों नहीं करना चाहती है? आखिर जांच किस तरह राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए घातक है? उनका पुलवामा में कोई रोल था? वह किसके साथ गिरफ्तार किया गया था? उनके साथियों के नाम क्या हैं? मोदी सरकार आखिर क्या छिपाना चाहती है? देश के जानने का अधिकार है?'

टैक्सी ड्राइवर को पीटने के बाद सोशल मीडिया पर ट्रेंड हुआ 'एरेस्ट लखनऊ गर्ल'

महबूबा की टिप्पणी ऐसे वक्त आयी है जब पुलिस उपाधीक्षक सिंह को सेवा से बर्खास्त करने के 20 मई के एक सरकारी आदेश की एक प्रति सोशल मीडिया पर सामने आयी है। आधिकारिक आदेश के अनुसार उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने संविधान के अनुच्छेद 311 के तहत सिंह को ‘‘तत्काल प्रभाव’’ से सेवा से बर्खास्त करने का आदेश दिया था। यह प्रावधान सरकार को जांच किए बिना किसी को सेवा से हटाने की अनुमति देता है और इस निर्णय को सिर्फ हाई कोर्ट में ही चुनौती दी जा सकती है। 

कुमार मंगलम बिड़ला ने की वोडाफोन आइडिया में अपनी हिस्सेदारी सरकार को सौंपने की पेशकश

महबूबा ने एक ट्वीट में सवाल किया, ‘‘आतंकवाद रोधी कानूनों के तहत गिरफ्तार किए गए मासूम कश्मीरी सालों से जेलों में सड़ रहे हैं। उनके लिए मुकदमा ही सजा बन जाता है। लेकिन, भारत सरकार आतंकियों के साथ रंगे हाथ पकड़े गए पुलिसकर्मी के खिलाफ जांच नहीं कराती है। क्या ऐसा इसलिए होता है क्योंकि उसने कुछ घटिया घटनाओं को अंजाम देने के लिए व्यवस्था के साथ मिलीभगत की?’’

‘अडानी हवाईअड्डा’ लिखे साइनबोर्ड पर शिवसेना कार्यकर्ताओं का फूटा गुस्सा

उन्होंने कहा, ‘‘चाहे सरकारी नौकरी का मामला हो या पासपोर्ट, उन्हें (कश्मीरी) सबसे बदतर जांच का सामना करना होता है। लेकिन जब एक पुलिसकर्मी के बारे में पता चलता है कि उसने आतंकवादियों की मदद की है तो उसे छोड़ दिया जाता है। दोहरा मापदंड और नापाक मंसूबे बिल्कुल स्पष्ट हैं।’’ सिंह को पिछले साल जनवरी में जम्मू-कश्मीर पुलिस ने गिरफ्तार किया था, जब वह हिज्बुल मुजाहिदीन के आतंकवादियों को कश्मीर से जम्मू ले जा रहा था। राष्ट्रीय अन्वेषण अभिकरण (एनआईए) ने मामले की जांच की थी और सिंह और अन्य के खिलाफ आरोप पत्र दाखिल किया था। 

हरियाणा में भाजपा की ‘तिरंगा यात्रा’ किसानों को भड़काने के लिए : संयुक्त किसान मोर्चा 

 


 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.