Sunday, Jan 17, 2021

Live Updates: Unlock 8- Day 17

Last Updated: Sun Jan 17 2021 08:16 AM

corona virus

Total Cases

10,558,710

Recovered

10,196,184

Deaths

152,311

  • INDIA10,558,710
  • MAHARASTRA1,984,768
  • ANDHRA PRADESH1,648,665
  • KARNATAKA930,668
  • KERALA911,382
  • TAMIL NADU829,573
  • NEW DELHI631,884
  • UTTAR PRADESH595,142
  • WEST BENGAL564,098
  • ODISHA332,106
  • ARUNACHAL PRADESH325,396
  • RAJASTHAN313,425
  • JHARKHAND310,675
  • CHHATTISGARH290,084
  • TELANGANA290,008
  • HARYANA265,199
  • BIHAR256,991
  • GUJARAT252,559
  • MADHYA PRADESH247,436
  • ASSAM216,635
  • CHANDIGARH183,588
  • PUNJAB169,225
  • JAMMU & KASHMIR122,651
  • UTTARAKHAND93,777
  • HIMACHAL PRADESH56,521
  • GOA49,362
  • PUDUCHERRY38,477
  • TRIPURA33,035
  • MANIPUR27,155
  • MEGHALAYA12,866
  • NAGALAND11,709
  • LADAKH9,155
  • SIKKIM5,338
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS4,963
  • MIZORAM4,293
  • DADRA AND NAGAR HAVELI3,368
  • DAMAN AND DIU1,381
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
peera garhi delhi fire firefighter was trapped under debris succumbs

पीरागढ़ी अग्निकांड 15 साल में 15 फायर फाइटर्स हुए शहीद

  • Updated on 1/4/2020

नई दिल्ली/मुकेश ठाकुर। राजधानी दिल्ली (Delhi) में अग्निकांड एक आम घटना होती जा रही है। आए दिन किसी घर या फैक्ट्री में आग लगती है। इस दौरान बिना अपनी जान की परवाह किए दिल्ली फायर सर्विस के जांबाज फायर फाइटर्स न सिर्फ सूचना मिलते मौके पर पहुंचकर आग पर काबू पाते हैं, बल्कि इस दौरान आग की लपटों को देख लोग दूर भाग रहे होते हैं, वहीं फायर फाइटर्स जान की परवाह किए बिना उस आग के बीच पहुंचकर वहां फंसे लोगों की जान बचाते हैं। गत 15 सालों में दिल्ली में लगी आग के दौरान लोगों को जीवन बचाते हुए 15 जवान अपननी जान गंवा चुके हैं। 

झुलसती दिल्ली के संवेदनशील नेता, कार्रवाई-जांच-मुआवजा और चुनाव की कहानी

अग्निकांडों में पांच सालों में 1700 से अधिक आम लोग हुए हताहत
दिल्ली फायर सर्विस के आंकड़ों के अनुसार, दिल्ली गत पांच सालों (2014 से 2019) में कुल 1 लाख 66 हजार 577 छोटे बड़े अग्निकांड की घटनाएं हुई हैं। इन अग्निकांडों में इमारत में लगी आग में फंसकर 10 हजार 821 लोग घायल (Injured) हो गए, वहीं 1 हजार 775 लोग आग की लपटों और आग के दौरान इमारत में भरे धुएं में फंसकर दम घुटने से अपनी जान गंवा दी। दूसरी ओर इन आग को बुझाने, उसे फैलने से रोन और आग लगी इमारत में फंसे हुए लोगों की जान बचाने के लिए जलती हुई इमारतों में घुस लोगों को सुरक्षित बाहर निकालने के दौरान 136 फायर फाइटर्स गंभीर रूप से घायल हो गए, पांच फायर फाइटर्स जान बचाते हुए शहीद हो गए। वहीं, गत 15 सालों में 15 फायर फाइटर्स ने अपनी जान गंवा दी है। ऐसे ही एक बहादुर फायर ऑपरेटर अमित बालियान (27) वीरवार को पीरागढ़ी में लगी आग में फंसे लोगों की जान बचाते हुए इमारत के ढहने से उसके मलबे के नीचे आकर शहीद हो गए। 

दिल्ली: 4 मंजिला इमारत में लगी भीषण आग, झुलसे 3 फायरकर्मी

आग की कुल घटनाएं और घायल व मरने वालों की संख्या

साल     घटनाएं   मौत घायल
2014-15 23242  291 2068
2015-16 27089  339 2099
2016-17 30285 277 1987
2017-18 29423 318 1767
2018-19 31264 297 1597
2019-अब तक 25274 253 1303


शहीद हुए फायर फाइटर्स 

  • फरवरी 2017 : विकासपुरी के एक रेस्त्रां में लगी आग के बाद गैस सिलेंडर फ टने से दो फायर फाइटर की मौत।
  • सितम्बर 2016 : नरेला में फैक्ट्री में लगी आग को बुझाने घुसे दो फायर फाइटर आग में फंसकर हो गए थे शहीद।
  • अक्तूबर 2010 : विश्वास नगर में तार की फैक्ट्री में लगी आग मेें दो फायर फाइटर की झुलसने से मौत।
  • सितम्बर 2004 : कीर्ति नगर के फर्नीचर मार्केट में लगी आग को बुझाने पहुंचे 8 फायर फाइटर्स उसमें फंसे लोगों की जान बचाने में शहीद हो गए थे।


 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.