Tuesday, Jun 28, 2022
-->
pegasus dispute new petition filed in supreme court for probe into india israel defense deal rkdsnt

पेगासस विवाद : कोर्ट में नई याचिका दायर, भारत-इजराइल रक्षा सौदे की जांच की अपील

  • Updated on 1/30/2022

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। इजराइली स्पाईवेयर पेगासस के कथित इस्तेमाल को लेकर उच्चतम न्यायालय में नयी याचिका दायर की गई है, जिसमें अदालत से इस विषय पर अमेरिकी समाचार पत्र‘न्यूयॉर्क टाइम्स’की खबर का संज्ञान लेते हुए 2017 में हुए भारत-इजराइल रक्षा सौदे की जांच का आदेश देने का अनुरोध किया गया है।   

चुनावों तक ‘व्हाई् आई किल्ड गांधी’ फिल्म के रिलीज पर रोक लगाने की मांग

 ‘न्यूयॉर्क टाइम्स’की खबर में दावा किया गया है कि भारत ने इजराइल के साथ 2017 में दो अरब अमेरिकी डॉलर के रक्षा सौदे के तहत पेगासस स्पाइवेयर खरीदा था। समाचार पत्र के इस दावे के बाद विवाद खड़ा हो गया है और विपक्ष ने आरोप लगाया है कि सरकार अवैध जासूसी में लिप्त है, जो‘‘देशद्रोह‘’के समान है।     

यूपी चुनाव : अखिलेश-जयंत ने किसानों के मुद्दों पर BJP पर बोला हमला

पेगासस के संबंध में शीर्ष अदालत के समक्ष मूल याचिकाएं दाखिल करने वालों में शामिल अधिवक्ता एम.एल. शर्मा ने यह याचिका दाखिल की है। इस याचिका में कहा गया है कि सौदे को संसद की मंजूरी नहीं मिली थी, लिहाजा इसे रद्द करके धनराशि वसूल की जानी चाहिये। शर्मा ने शीर्ष अदालत से न्यायहित में एक आपराधिक मामला दर्ज करने के लिए तथा पेगासस स्पाइवेयर खरीद सौदे एवं सार्वजनिक धन के कथित दुरुपयोग की जांच का उपयुक्त निर्देश जारी करने अनुरोध किया है।  

प्रधानमंत्री मोदी ने उत्तराखंड टोपी के बाद NCC रैली में पहनी सिख पगड़ी

   ‘न्यूयॉर्क टाइम्स’की खबर में दावा किया गया है कि इजराइली स्पाइवेयर पेगासस और एक मिसाइल प्रणाली भारत-इजराइल के बीच 2017 में हुए लगभग दो अरब डॉलर के हथियार एवं खुफिया उपकरण सौदे के‘‘केंद्रबिंदु‘’थे। ‘द न्यूयॉर्क टाइम्स’ने‘द बैटल फॉर द वल्र्ड्स मोस्ट पावरफुल साइबरवेपन’ शीर्षक से खबर में कहा है कि इजराइली कंपनी एनएसओ ग्रुप लगभग एक दशक से‘‘अपने निगरानी सॉफ्टवेयर को दुनिया भर में कानून-प्रवर्तन और खुफिया एजेंसियों को बेच’’ रही था और उसका दावा है कि कि वह जैसा काम कर सकती है, वैसा कोई और नहीं कर सकता।  

छात्रों के प्रदर्शनों को लेकर वरुण गांधी के बाद रवि शंकर प्रसाद ने सरकार को चेताया

    पिछले साल, इस बात को लेकर विवाद खड़ा हो गया था कि भारत में इजराइली स्पाईवेयर पेगासस का इस्तेमाल करके लोगों को निशाना बनाकर निगरानी की जा रही है। 27 अक्टूबर को, उच्चतम न्यायालय ने इस मामले की जांच के लिए एक तीन सदस्यीय स्वतंत्र विशेषज्ञ समिति गठित करते हुए कहा था कि सरकार हर बार राष्ट्रीय सुरक्षा का खतरा बता कर सवालों से बच नहीं सकती।     

प्रदर्शनकारी युवाओं के समर्थन में राहुल गांधी ने पूछा - कौन कहता है ये अच्छे दिन हैं

 

comments

.
.
.
.
.