Thursday, Jan 27, 2022
-->
pegasus scandal israel defense committee meeting use aggressive cyber weapons rkdsnt

पेगासस कांड: आक्रामक साइबर हथियार के इस्तेमाल पर अब इजराइली डिफेंस कमेटी भी सक्रिय

  • Updated on 8/4/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। इजराइल की शीर्ष रक्षा समिति ‘‘आक्रामक साइबर हथियारों’’ के इस्तेमाल पर एक विशेष बैठक करेगी। मीडिया में आई एक खबर में यह जानकारी दी गई है। एनएसओ समूह के पेगासस सॉफ्टवेयर के कथित दुरूपयोग को लेकर हुई अंतरराष्ट्रीय आलोचना और अन्य इजराइली कंपनियों द्वारा अन्य देशों को की गई इसी तरह के स्पाइवेयर की सप्लाई के संभावित खुलासों के मद्देनजर यह बैठक बुलाई गई है। 

पेगासस जासूसी मामले में जांच को लेकर एडिटर्स गिल्ड ने सुप्रीम कोर्ट में दायर की याचिका

हारेट्ज समाचारपत्र ने मंगलवार को अपनी खबर में कहा कि विदेश मंत्रालय और रक्षा समिति, न सिर्फ एनएसओ और इसके स्पाइवेयर के संभावित लक्ष्यों के बारे में प्रोजेक्ट पेगासस के तहत किये गये कई खुलासों पर चर्चा करने के लिए एक बैठक बुलाएगी, बल्कि हाल के महीनों में अन्य इजराइली कंपनियों के बारे में किये गये खुलासे पर भी इसमें चर्चा की जाएगी। 

पूर्व पुलिस अधिकारी देविंदर सिंह के मुद्दे पर कांग्रेस के बाद PDP ने उठाए सवाल

पेगासस प्रोजेक्ट मीडिया संस्थानों का एक संघ है जिसने अपनी रिपोर्ट में यह दावा किया है कि एनएसओ का पेगासस स्पाइवेयर हैक और संभावित निगरानी से संबद्ध था। खबर में कहा गया है कि कांदिरु और क्वाड्रीम जैसी कंपनियों ने भी गैर-लोकतांत्रिक देशों को स्पाइवेयर समाधान बेचे थे। इसमें कहा गया है कि प्रभावशाली विदेश मंत्रालय और रक्षा समिति की बैठक आधिकारिक एजेंडा में संभवत: सूचीबद्ध नहीं है और इसके विवरण को लोगों से दूर रखा जाएगा तथा बैठक में होने वाली चर्चा का ब्योरा रिकार्ड में शामिल नहीं किया जाएगा क्योंकि यह बैठक खुफिया मुद्दों और अन्य विशेष मुद्दों को सर्मिपत एक उप समिति द्वारा की जाएगी। 

ट्रैक्टर के बाद साइकिल पर सवार राहुल गांधी, BJP बोली- सस्ती लोकप्रियता का हथकंडा

यह बैठक कथित तौर पर नौ अगस्त को होने का कार्यक्रम है , हालांकि समिति के अध्यक्ष, सांसद राम बेन बराक ने इससे इनकार किया है। उल्लेखनीय है कि उपसमिति में सिर्फ चार सांसद हैं, जिनमें इजराइली गुप्तचर एजेंसी मोसाद के पूर्व उप प्रमुख रह चुके बराक, इजराइल सैन्य खुफिया विभाग में सेवा दे चुके एली अविदार आदि शामिल हैं। पत्रकारों, मानवाधिकार कार्यकर्ताओं, नेताओं और अन्य लोगों पर भारत सहित विभिन्न देशों में कथित तौर पर पेगासस सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल किये जाने से निजता के मुद्दे को लेकर ङ्क्षचता पैदा हो गई है। 

स्पा में विपरीत लिंग के शख्स से मालिश कराने पर रोक, स्वाति मालिवाल ने किया स्वागत


 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.