Monday, Aug 15, 2022
-->
pegasus supreme court committee extended deadline for people to come forward rkdsnt

पेगासस विवाद : सुप्रीम कोर्ट की कमेटी ने लोगों को आगे आने के लिए बढ़ाई मियाद

  • Updated on 2/4/2022

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। पेगासस स्पाइवेयर जासूसी कांड से कथित तौर पर प्रभावित केवल दो व्यक्तियों ने इस मामले में उच्चतम न्यायालय द्वारा गठित तकनीकी समिति को अपना फोन सौंपे हैं, जिसके कारण समिति को समय-सीमा बढ़ानी पड़ी है, ताकि और भी लोग उसके समीप पहुंचें। तकनीकी समिति ने अब यह समय सीमा आठ फरवरी कर दी है, ताकि वैसे और भी लोग समिति से सम्पर्क कर सकें, यदि उन्हें संदेह है कि उनके फोन में पेगासस स्पाइवेयर का हमला हुआ है।     

JNU के कुलपति जगदीश कुमार को मोदी सरकार ने बनाया UGC का अध्यक्ष

 

यह निर्णय पेगासस स्पाइवेयर मामले में हालिया आरोपों के बीच लिया गया है। न्यूयार्क टाइम्स में हाल ही में प्रकाशित रिपोर्ट में दावा किया गया है कि भारत ने 2017 में इजरायल के साथ दो अरब डॉलर के रक्षा सौदों के हिस्से के तौर पर पेगासस स्पाइवेयर लिया था।

कोर्ट ने BJP शासित EDMC से कहा - अगर प्रबंधन नहीं कर सकते तो दुकान बंद कर दीजिए

 

तकनीकी समिति की ओर से बृहस्पतिवार को प्रमुख समाचार पत्रों में जारी सार्वजनिक नोटिस में कहा गया है कि उसकी पहली अपील के दौरान केवल दो व्यक्तियों ने अपने मोबाइल फोन समिति को सौंपे हैं ताकि उसकी डिजिटल छवि ली जा सके। 

वैवाहिक बलात्कार के मुद्दे पर मोदी सरकार ने दिल्ली हाई कोर्ट में रखा अपना पक्ष

नोटिस में कहा गया है, ‘‘इसलिए तकनीकी समिति एक बार फिर उन सभी से आठ फरवरी तक समिति से सम्पर्क का अनुरोध करती है जिनके पास यह मानने का पर्याप्त कारण मौजूद है कि उनके मोबाइल फोन पेगासस स्पाइवेयर से प्रभावित हैं।’’ पिछले माह जारी नोटिस में सात जनवरी, 2022 तक की समय सीमा निर्धारित की गयी है। 

फ्यूचर रिटेल लिमिटेड की बिक्री को लेकर बैंकों के गठजोड़ ने सुप्रीम कोर्ट को दिया सुझाव

comments

.
.
.
.
.