Thursday, Dec 09, 2021
-->
periyar ev ramasamy socrates of india once asked these 15 questions to god ramdev controversy

बाबा रामदेव की वजह से पेरियार सुर्खियों में, कभी ईश्वर से पूछे थे ये 15 सवाल

  • Updated on 11/19/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। बाबा रामदेव ने वैचारिक आतंकवाद को लेकर जिस तरह से पेरियार और उनके अनुयायियों को पर कटाक्ष किया है, उससे सोशल मीडिया पर कोहराम मच गया है। पेरियार के समर्थकों ने बाबा रामदेव और उनकी कंपनी पतंजलि के खिलाफ मुहिम चला दी है। खास बात यह है कि अब लोग पेरियार के बारे में भी जानना चाहते हैं। 

नागरिकता संशोधन विधेयक के खिलाफ पूर्वोत्तर भारत में प्रदर्शन, मोदी का पुतला फूंका

बता दें कि आजादी से पहले और बाद में भी दक्षिण भारतीय राज्यों, विशेषकर तमिलनाडु में पेरियार का खासा प्रभाव रहा है। दक्षिण भारतीयों के दिलों में पेरियार के प्रति गहरा सम्मान है। पेरियार के नाम से मशहूर इरोड वेंकट नायकर रामासामी 20वीं सदी में भी ना सिर्फ सांस्कृतिक, बल्कि सामाजिक और राजनीतिक परिदृश्यों पर भी गहरा प्रभाव रहा है। पेरियार के विचार कम्युनिस्ट और दलित आन्दोलन में से खासा प्रभाव दिखाते रहे हैं। 

#ElectoralBond को लेकर राहुल, प्रियंका गांधी ने मोदी सरकार पर बोला हमला

पेरियार ने धर्म के खिलाफ तर्कवाद और नारीवाद को बढ़ावा दिया। पेरियार के विचारों को उनके अनुयायियों ने मार्गदर्शक के रूप में लिया। तर्कवादी, नास्तिक और वंचितों के हित में बोलने और कार्य करने की वजह से पेरियार की सामाजिक और राजनीतिक अहमियत बढ़ती गई। 

राम मंदिर ट्रस्ट पर बढ़ते विवाद के बीच RSS, VHP नेताओं ने नागपुर में किया मंथन

रुढ़िवादी हिंदुत्व के खिलाफ पेरियार ने जमकर झंडा बुलंद किया। जस्टिस पार्टी का गठन का मूल मंत्र भी रुढ़िवादी हिंदुत्व का विरोध था। पेरियार ने भारत में हिंदी के अनिवार्य रूप से शिक्षण में इस्तेमाल करने का घोर विरोध किया था। 

अयोध्या फैसले के खिलाफ अपील दाखिल कर सकते हैं मुस्लिम पक्षकार

पेरियार की मूर्तियों के नीचे उनका ये बात भी लिखी रहती थी- 'ईश्वर नहीं है और ईश्वर बिलकुल नहीं है, जिस ने ईश्वर को रचा वह बेवकूफ है, जो ईश्वर का प्रचार करता है, वह दुष्ट है, साथ ही जो ईश्वर की पूजा करता है. वह बर्बर है।’ पेरियार ने धर्म और ईश्वर को लेकर भी कई अहम सवाल खड़े किए। उन्होंने तो ईश्वर को लेकर 15 सवाल उठाए थे, जो इस प्रकार हैं: -

1- क्या तुम कायर हो, जो हमेशा ही छिपे रहते हो, कभी किसी के सामने प्रकट नहीं होते?

2- क्या तुम्हें खुशामद पसंद है, जो लोगों से दिन रात पूजा-अर्चना करवाते हो?

3- क्या तुम सदेव भूखे रहते हो, जो लोगों से मिठाई, दूध, घी आदि लेते रहते हो ?

4- क्या तुम मांसाहारी हो जो लोगों से निर्बल पशुओं की बलि चढ़वाते हो?

5- क्या तुम सोने के व्यापारी हो, जो मंदिरों में लाखों टन सोना दबाए हुए हो?

6- क्या तुम व्यभिचारी हो, जो मंदिरों में देवदासियां रखते हो?

7- क्या तुम कमजोर हो, जो रोजाना होने वाले बलात्कारों को नही रोक पाते?

8- क्या तुम मूर्ख हो, जो दुनिया के देशों में गरीबी-भुखमरी होते हुए भी अरबों रुपयों का अन्न, दूध, घी,

तेल बिना खाए ही नदी-नालों में बहा देते हो?

 9- क्या तुम बहरे हो जो बेवजह मरते हुए आदमी, बलात्कार होती हुई मासूमों की आवाज नहीं सुन पाते?

10- क्या तुम अंधे हो, जो रोज अपराध होते हुए नहीं देख पाते?

11- क्या तुम आतंकवादियों से मिले हुए हो, जो रोज धर्म के नाम पर लाखों लोगों को मरवाते रहते हो?

12- क्या तुम आतंकवादी हो, जो ये चाहते हो कि लोग तुमसे डरकर रहें?

 13- क्या तुम गूंगे हो, जो एक शब्द नहीं बोल पाते, लेकिन करोड़ों लोग तुमसे लाखों सवाल पूछते हैं?

14- क्या तुम भ्रष्टाचारी हो, जो गरीबों को कभी कुछ नहीं देते, जबकि गरीब पशुवत काम करके कमाए गए धन की पाई-पाई तुम्हारे ऊपर न्यौछावर कर देता है?

 15- क्या तुम मुर्ख हो, जो हम जैसे नास्तिकों को पैदा किया जो तुम्हे खरी-खोटी सुनाते रहते हैं और तुम्हारे अस्तित्व को ही नकारते हैं?
 

comments

.
.
.
.
.