Saturday, Mar 06, 2021
-->
person who hoisted the red fort, mark sahib revealed by viral video prshnt

जानें कौन है वह शख्स, जिसने लाल किले पर फहराया निशान साहिब, वीडियो वायरल

  • Updated on 1/27/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। दिल्ली में 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस (Republic Day) के मौके पर एक ओर जहां राजपथ (Rajpath) पर देश के पराक्रम को दिखाया जा रहा था वहीं दूसरी ओर किसानों द्वारा निकाले गए ट्रैक्टर रैली (Tractor Rally) के चलते माहौल हिंसक रहा। कल गणतंत्र दिवस के मौके पर किसानों की ट्रैक्टर परेड के दौरान दिल्ली के लाल किले पर प्रदर्शकारियों ने निशान साहिब फहराया, जिसे लेकर पूरे देश में बहस छीड़ गई है।

वहीं लाल किले पर चढ़कर जिस व्यक्ति ने निशान साबिह का झंडा फहराया, उसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है, जिसमें उसकी पहचान जुगराज सिंह के रूप में हुई है और वो तरण तारण में वान तारा सिंह गांव का रहने वाला है।  

स्किन टू स्किन कॉन्टैक्ट' वाले बॉम्बे हाईकोर्ट के फैसले पर सुप्रीम कोर्ट ने लगाई रोक

खालसा ध्वज लाल किले पर फहरा
बताया जा रहा है कि वीडियो में एक युवा यह कहते हुए सुना जा सकता है कि वान तारा सिंह गांव के जुगराज सिंह ने लाल किले पर खालसा का झंडा फहराया है। वहीं झंडा फहराने वाले शख्स की पहचान को लेकर उसके रिश्तेदार ही गर्व से दावा कर रहे हैं। वीडियो में बताया जा रहा है कि जुगराज ने झंडा फहराया। वीडियो में खुद को जुगराज का रिश्तेदार बताने वाला शख्स वीडियो में जुगराज के पिता और दादा बलदेव सिंह और महल सिंह के साथ-साथ उसकी दादी और मां का परिचय दे रहा है। 

वायरल वीडियो में जुगराज सिंह के दादा अपने पोते की प्रशंसा करते देखे जा सकते हैं। वह वीडियो में कहते हैं, यह सिख पंथ के लिए गर्व की बात है कि पूर्व में विजय का खालसा ध्वज लाल किले पर फहरा था, अब 2021 में एक और विजय का झंडा फहराया गया। वायरल वीडियो की पुष्टि पुलिस कर रही है।

लाल किले की प्राचीर पर ठीक उस जगह पर निशान साहिब और किसान संगठनों के झंडे फहराए गए, जहां हर साल स्वतंत्रता दिवस पर प्रधानमंत्री तिरंगा फहराते हैं। 

आंदोलन ने किया गणतंत्र को शर्मसार, मोदी-शाह लें जिम्मेदारी

300 से अधिक पुलिस कर्मी हुए घायल
बता दें कि दिल्ली पुलिस ने राष्ट्रीय राजधानी में किसानों की ट्रैक्टर परेड के दौरान हुई हिंसा के संबंध में अभी तक 22 प्राथमिकियां दर्ज की हैं। अधिकारियों ने बुधवार को यह जानकारी देते हुए बताया कि हिंसा में 300 से अधिक पुलिस कर्मी घायल हुए हैं। वहीं इस दौरान एक किसान के मौत की खबर भी सामने आई है।

किसान हिंसा के बाद बयान से पलटे किसान नेता, पढ़ें- पहले और बाद की प्रतिक्रिया

दिल्ली पुलिस की प्रेस कॉन्फ्रेंस आज
अधिकारी ने बताया कि मंगलवार को हुई हिंसा में शामिल किसानों की पहचान करने के लिए कई सीसीटीवी फुटेज और तमाम वीडियो को खंगाला जा रहा है और दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। इस बारे में अन्य जानकारी साझा करने को दिल्ली पुलिस आज प्रेस कॉन्फ्रेंस करेगी।

राष्ट्रीय राजधानी में कई स्थानों पर सुरक्षा कड़ी कर दी गई है, खासकर लाल किले और किसानों के प्रदर्शन स्थलों पर अतिरिक्त अर्धसैनिक बलों की तैनाती की गई है। कृषक संगठनों की केन्द्र के तीन नए कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग के पक्ष में मंगलवार को हजारों की संख्या में किसानों ने ट्रैक्टर परेड निकाली थी। इस दौरान कई जगह प्रदर्शनकारियों ने पुलिस के अवरोधकों को तोड़ दिया और पुलिस के साथ झड़प की, वाहनों में तोड़ फोड़ की और लाल किले पर एक धार्मिक ध्वज लगा दिया था।

यहां पढ़ें अन्य बड़ी खबरें...

comments

.
.
.
.
.