Monday, Oct 25, 2021
-->
petrol diesel price increases in delhi kmbsnt

जेब पर भारी पड़ रहा पेट्रोल-डीजल! लगातार 12वीं बार राजधानी में बढ़े दाम

  • Updated on 2/20/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। देश में पेट्रोल (Petrol) डीजल (Diesel) के दाम आसमान छू रहे हैं, इसके बाद भी सरकारी कंपनियों की ओर से इसकी कीमतों में वृद्धि रुकने का नाम ही नहीं ले रही है। देश की राजधानी दिल्ली और आर्थिक राजधानी मुंबई में तेल के दाम इन दिनों अपने उच्चतम स्तर पर हैं। आज 12वीं बार लगातार पेट्रोल डीजल के दामों में वृद्धि हुई है। दिल्ली में पेट्रोल और डीजल की कीमतें क्रमशः 90.58 रुपये प्रति लीटर (39 पैसे की वृद्धि) और 80.97 रुपये प्रति लीटर (37 पैसे की वृद्धि) पर हैं।

पेट्रोल की कीमत ने शनिवार को मुंबई में 97 रुपये प्रति लीटर के उच्च स्तर को छू लिया, जबकि डीजल के दाम 88 रुपये के स्तर को पार कर गए। सार्वजनिक क्षेत्र की तेल कंपनियों द्वारा जारी अधिसूचना के अनुसार शनिवार को पेट्रोल की कीमत में रिकॉर्ड 39 पैसे प्रति लीटर और डीजल में 37 पैसे प्रति लीटर की बढ़ोतरी हुई।  इसके साथ ही कीमतों में लगातार 12वें दिन बढ़ोतरी हुई और यह तेल कंपनियों द्वारा 2017 में कीमतों की दैनिक समीक्षा शुरू किए जाने के बाद एक दिन में सबसे बड़ी बढ़ोतरी है।     

पेट्रोल के दाम बढ़ने पर कांग्रेस की अमिताभ-अक्षय को धमकी, बोले- नहीं बोले तो करेंगे शूटिंग का विरोध

अमेरिका में ऊर्जा संकट
अंतरराष्ट्रीय बाजार में तेल की कीमतों में उछाल आने के बाद घरेलू बाजार में भी कीमतों पर असर पड़ा है। गौरतलब है कि भारत अपनी तेल संबंधी 85 प्रतिशत जरूरतों को पूरा करने के लिए आयात पर निर्भर है। अमेरिका में ऊर्जा संकट के चलते इस सप्ताह ब्रेंट तेल की कीमत 65 डॉलर प्रति बैरल के स्तर को पार कर गई थी। पिछले 12 दिनों में पेट्रोल की खुदरा कीमतों में 3.63 रुपये प्रति लीटर की वृद्धि हुई है, जबकि डीजल 3.84 रुपये महंगा हुआ।     

पेट्रोल की कीमत पहले ही राजस्थान और मध्य प्रदेश में कुछ स्थानों पर 100 रुपये प्रति लीटर से अधिक हो गई है।      खुदरा पंप पर कीमतें स्थानीय करों (वैट) और माल भाड़े के आधार पर अलग-अलग होती हैं। 

अंतरराष्ट्रीय मार्केट में कच्चे तेल की महंगाई को लेकर सरकार भले ही दुहाई दे रही है, लेकिन हकीकत यह है कि हम 29.34 रुपये लीटर वाले पेट्रोल की कीमत 88 रुपये से अधिक चुका रहे हैं।

जानें पेट्रोल डीजल में कितनी लगती है एक्साइज ड्यूटी
वहीं डीजल की बात करें तो इसका बेस प्राइस दिल्ली में 1 फरवरी को केवल 30.55 रुपये था, जबकि इस दिन मार्केट में यह 76.48 रुपये लीटर बिक रहा था। दरअसल भारत में डीजल और पेट्रोल पर केंद्र सरकार जहां एक्साइज ड्यूटी के रूप में हर लीटर पर 32 रुपये से अधिक वसूल ती है, तो राज्य सरकारें वैट और उपकर (सैस) लगाकर लोगों की जेब से अपना खजाना भर रही है।

भाड़ा और डीलर का कमीशन आम आदमी को करता है वहन
इसके अलावा दोनों तेलों पर भाड़ा और डीलर का कमीशन भी जुड़ता है, जो आम जनता से ही लिया जाता है। अगर राज्य सरकारों द्वारा पेट्रोल-डीजल पर लगाए जाने वाले टैक्स की बात करें तो राजस्थान में पेट्रोल पर वैट 36% और डीजल पर 26% लगता है। यहां पहले सबसे अधिक वैट लगता था। 

पेट्रोल-डीजल को लेकर कांग्रेस का तंज- जनता से ‘लूट’ बंद करे ‘ईंधन-टैक्स-जीवी’ मोदी सरकार  

कहां है सबसे अधिक वैट
हालांकि अब वैट वसूलने के मामले में मणिपुर सबसे आगे हो गया है। यहां पेट्रोल पर 36.50% और डीजल पर 22.50% वैट वसूला जा रहा है। बड़े राज्यों में तमिलनाडु में पेट्रोल पर 15% और डीजल पर 11% टैक्स वसूला जाता है। लेकिन यहां वैट के साथ पेट्रोल पर 13.02 रुपए और डीजल पर 9.62 रुपए प्रति लीटर सैस भी वसूला जाता है। ज्यादातर राज्य सैस वसूल रहे हैं। लक्ष्यदीप एकमात्र ऐसा राज्य है जहां वैट नहीं लिया जाता है। 

ये भी पढ़ें:

comments

.
.
.
.
.