Thursday, Jul 29, 2021
-->
pfizer-and-biontech-said-covid-19-vaccine-95-percent-effective-sohsnt

Pfizer और BioNTech का दावा- कोविड वैक्सीन अंतिम विश्लेषण में 95% प्रभावी, जल्द करेंगे आवेदन

  • Updated on 11/19/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। दुनियाभर में कोरोना वायरस (Coronavirus) का कहर लगातार जारी है। ऐसे में विश्व की अग्रणी दवा निर्माता कंपनियों फाइजर (Pfizer) और बायो-एनटेक (BioNTech) ने बुधवार को कहा कि उनका कोविड-19 वैक्सीन तीसरे चरण के परीक्षण के अंतिम विश्लेषण में 95 प्रतिशत तक प्रभावी पाया गया है और यह 65 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों पर भी कारगर है। ऐसे में अब ये कंपनियां अमेरिकी नियामक से आपातकालीन मंजूरी लेने के लिए आवेदन कर सकती हैं।

कोरोना के खौफ के साए में देश की राजधानी दिल्ली, 24 घंटे में रिकॉर्ड 131 मौतें

तीसरे चरण का अध्ययन हुआ पूरा
अमेरिकी फार्मा कंपनी और उसकी जर्मन सहयोगी बायो-एनटेक ने कहा कि उन्होंने कोविड-19 के एमआरएनए आधारित संभावित टीके ‘बीएनटी 162बी2’ के तीसरे चरण का अध्ययन पूरा कर लिया है जिसमें उन्हें सभी प्रकार के आरंभिक प्रभाव देखने को मिले हैं। वर्तमान अनुमान के आधार पर कंपनियों को उम्मीद है कि वे वैश्विक स्तर पर 2020 तक टीके की पांच करोड़ खुराक का उत्पादन कर लेंगी और 2021 के अंत तक यह उत्पादन 130 करोड़ खुराक तक पहुंच सकता है।

खुशखबरी! भारत ने 150 करोड़ कोरोना वैक्सीन के डोज का किया अडवांस बुकिंग

मॉडर्ना वैक्सीन  94.5 प्रतिशत तक प्रभावी
इससे दो दिन पहले मॉडर्ना कंपनी ने घोषणा की थी उसके द्वारा बनाया जा रहा टीका 94.5 प्रतिशत तक प्रभावी है। फाइजर और बायो-एनटेक के अनुसार आंकड़ों के विश्लेषण से पता चला है कि संभावित टीका उन प्रतिभागियों में 95 प्रतिशत तक प्रभावी है जिन्हें कोरोना वायरस संक्रमण नहीं हुआ। संभावित टीके का प्रभाव उन लोगों में भी देखा गया जो संक्रमण के शिकार हुए थे। प्रतिभागियों को दूसरी खुराक देने के सात दिन बाद परीक्षण किया गया।

जानिए Covid-19 का पहला टीका किसे लगाया जाएगा ?

170 मामलों पर आधारित था पहला विश्लेषण
कंपनियों ने कहा कि पहला विश्लेषण कोविड-19 के 170 मामलों पर आधारित था जिनमें से संक्रमण के 162 मामले ‘प्लेसिबो’ समूह के थे और आठ ‘बीएनटी 162बी2’ समूह के थे। उन्होंने कहा कि सभी आयु, लिंग और नस्ल के लोगों पर संभावित टीका कारगर सिद्ध हुआ तथा 65 साल से ऊपर के लोगों पर यह 94 प्रतिशत तक प्रभावी पाया गया।

CoronaVirus को पूरा हुआ एक साल! सामने आया चीन के झूठे दावों का सच

डॉ अल्बर्ट बुर्ला ने कही ये अहम बात
फाइजर के अध्यक्ष और मुख्य कार्यकारी अधिकारी डॉ अल्बर्ट बुर्ला ने कहा, 'इस अध्ययन के नतीजों से आठ महीने की यात्रा में एक महत्वपूर्ण पड़ाव आया है। हम इस घातक महामारी का अंत करने के लिए टीके के निर्माण में लगे हैं। हम विज्ञान की गति से चल रहे हैं और अब तक एकत्र किए गए सभी आंकड़ों को विश्व भर के नियामकों से साझा कर रहे हैं।' उन्होंने कहा, 'प्रतिदिन दुनिया में सैकड़ों लोग संक्रमित हो रहे हैं और हमें तत्काल एक प्रभावी टीके की आवश्यकता है।' फाइजर और बायो-एनटेक जल्दी ही अमेरिका के खाद्य एवं औषधि प्रशासन (एफडीए) को टीके की मंजूरी के लिए प्रस्ताव भेजेंगे।

यहां पढ़े कोरोना से जुड़ी बड़ी खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.