Tuesday, Oct 04, 2022
-->
pharmacists-adamant-on-their-demands-patients-did-not-get-medicine-for-hours

फार्मासिस्ट अपनी मांगों पर अड़े, घंटों तक नहीं मिली मरीजों को दवा 

  • Updated on 12/9/2021

नई दिल्ली/टीम डिजीटल। अपनी 20 सूत्रीय मांगें पूरी नहीं होने पर डिप्लोमा फार्मासिस्ट एसोसिएशन ने वीरवार से दो घंटे का कार्य बहिष्कार शुरू कर दिया है। कार्य बहिष्कार के चलते सरकारी अस्पतालों में इलाज कराने पहुंचे मरीजों को भी परेशानी का सामना करना पड़ा। मरीजों को दवा मिलने में परेशानी का सामना करना पड़ा। करीब 10 बजे के बाद ही दवाईयां वितरण का कार्य शुरू किया गया। अब ऐसी समस्या से मरीजों को 16 दिसम्बर तक जूझना पड़ सकता है। इसके बाद भी मांगें पूरी नहीं होने पर 20 दिसम्बर से अनिश्चितकालीन हड़ताल शुरू होगी। 

लंबित मांगों को लेकर डिप्लोमा फार्मासिस्ट एसोसिएशन ने चरणबद्ध तरीकें से आंदोलन करने की घोषणा पहले ही कर चुका है। जिसकी शुरूआत 4 दिसम्बर को मुख्यमंत्री को संबोधित एक ज्ञापन मुख्य चिकित्साधिकारी को देकर की गई। जिसके बाद 5 से 8 दिसम्बर तक राजकीय चिकित्सालयों में कार्यरत फार्मासिस्ट काली फीता बांधकर अपना रोष व्यक्त किया। मांगें पूरी नहीं होने पर अब 9 से 16 दिसम्बर तक दो घंटे का कार्य बहिष्कार शुरू कर दिया गया है। वीरवार को फार्मासिस्ट ने कार्य बहिष्कार कर धरना प्रदर्शन किया।

हड़ताल के चलते जिला एमएमजी अस्पताल, संयुक्त अस्पताल, जिला महिला अस्पताल सहित जिले के सभी सीएचसी-पीएसची पर मरीजों को परेशानी का सामना करना पड़ा। सुबह 8 से 10 बजे तक फार्मेसिस्टों द्वारा दवाई का वितरण नहीं किया गया। वहीं, मरीजों को इंजेक्शन भी नहीं लग सकें। ओपीडी में डॉक्टर को दिखाने के बाद मरीजों को दवाई के लिए दो घंटे का इंतजार करना पड़ा। इससे अस्पतालों में अफरा-तफरा का भी माहौल रहा। दस बजे के बाद जब दवा वितरण शुरू हुआ तो मरीजों ने भी राहत की सांस ली। कार्य बहिष्कार 16 दिसम्बर तक किया जाएगा।

इसके बाद भी मांगें नहीं मानी गई तब 17 से 19 दिसम्बर तक इमरजेंसी को छोडक़र पूर्ण कार्य बहिष्कार किया जाएगा। 20 से इमरजेंसी कार्य का भी बहिष्कार कर अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चला जाएगा। एसोसिएशन के अध्यक्ष डॉ. एसपी वर्मा ने बताया कि सरकार उनकी मांगों पर ध्यान नहीं दे रही है। ऐसे में आंदोलन करने को मजबूर होना पड़ा। बताया कि फार्मासिस्ट सवंर्ग वेतन विसंगतियों को दूर करने, फार्मासिस्ट का पद नाम समेत 20 मांगों को जल्द पूरे करने की मांग की। वहीं, एसीएमओ डॉ. सुनील त्यागी का कहना है कि दवा वितरण के लिए एलटी व अन्य स्टाफ को लगाया गया है। मरीज को दवा नहीं मिलने की ऐसी कोई शिकायत नहीं मिली है। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.