Tuesday, Nov 29, 2022
-->
phone-tapping-case-notice-be-given-against-ips-rashmi-shukla-for-strict-action-court-rkdsnt

फोन टैपिंग मामला : IPS रश्मि शुक्ला के खिलाफ कोई सख्त कदम के लिए नोटिस दिया जाए: कोर्ट

  • Updated on 12/15/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। बंबई उच्च न्यायालय ने कथित फोन टैपिंग और संवेदनशील दस्तावेज लीक करने के मामले में भारतीय पुलिस सेवा की वरिष्ठ अधिकारी रश्मि शुक्ला के खिलाफ कोई कठोर कदम उठाने की स्थिति में महाराष्ट्र सरकार को उन्हें सात दिन का नोटिस देने का बुधवार को निर्देश दिया। 

क्रूज ड्रग्स मामला: कोर्ट ने आर्यन खान को NCB कार्यालय में साप्ताहिक उपस्थिति से दी छूट 

 

जस्टिस नितिन जामदार और जस्टिस सारंग कोतवाल की खंडपीठ ने शुक्ला की वह याचिका भी खारिज कर दी, जिसममें उन्होंने मुंबई पुलिस द्वारा दर्ज प्राथमिकी रद्द करने और मामले को केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) को हस्तांतरित करने का अनुरोध किया था। प्राथमिकी में वह नामजद नहीं हैं। शुक्ला अभी अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक, केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (दक्षिण क्षेत्र) हैं और हैदराबाद में पदस्थ हैं। शुक्ला उस वक्त महाराष्ट्र खुफिया विभाग का नेतृत्व कर रही थी जब पिछले साल कथित फोन टैपिंग हुई थी। 

पश्चिम बंगाल में पेगासस जांच पर राज्यपाल धनखड़ ने अधिसूचना सार्वजनिक करने को कहा

पीठ ने शुक्ला की याचिका पर अपने आदेश में कहा, ‘‘दोनों ही अनुरोध--प्राथमिकी रद्द करने और मामला सीबीआई को हस्तांतरित करने--खारिज किये जाते हैं। यदि राज्य सरकार याचिकाकर्ता (शुक्ला) के खिलाफ कोई कठोर कदम उठाने का इरादा रखती है तो उसे याचिकाकर्ता को सात दिन का नोटिस देना होगा। ’’ इस साल अक्टूबर में महाराष्ट्र सरकार ने उच्च न्यायालय को सूचित किया था कि रश्मि शुक्ला मामले में आरोपी के रूप में नामजद नहीं है लेकिन उनके खिलाफ जांच के लिए समुचित सामग्री है। 

लखीमपुर-खीरी हिंसा मामला : राहुल गांधी बोले- अजय मिश्रा को देना होगा इस्तीफा, जाना पड़ेगा जेल

शुक्ला ने अपनी याचिका में आरोप लगाया था कि पुलिस विभाग में तबादले और तैनाती में व्याप्त कथित भ्रष्टाचार पर रिपोर्ट तैयार करने की वजह से उन्हें बलि का बकरा बनाया जा रहा है और महाराष्ट्र सरकार उन्हें निशाना बना रही है। प्राथमिकी, कथित तौर पर अवैध रूप से फोन टैपिंग करने और कुछ खास गोपनीय दस्तावेज व सूचना लीक करने को लेकर मुंबई के बीकेसी साइबर पुलिस थाने में इस साल मार्च में अज्ञात लोगों के खिलाफ दर्ज की गई थी।  

सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की OBC के SECC 2011 के जातिगत आंकड़ों से जुड़ी याचिका

comments

.
.
.
.
.