Saturday, Jan 28, 2023
-->
pm-modi-chairs-all-party-meeting-on-g20-summit-seeks-everyone-s-cooperation

पीएम मोदी ने जी 20शिखर सम्मेलन पर सर्वदलीय बैठक की अध्यक्षता की, सभी का सहयोग मांगा 

  • Updated on 12/5/2022

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जी20 शिखर सम्मेलन को लेकर केंद्र सरकार द्वारा बुलाई गई सर्वदलीय बैठक की सोमवार को अध्यक्षता की तथा इसे व्यापक रूप से सफल बनाने के लिये सभी दलों का सहयोग मांगा । बैठक में उपस्थित नेताओं को सरकार ने जी20 से जुड़़े साल भर आयोजित किये जाने वाले कार्यक्रमों के बारे में भी जानकारी दी । सूत्रों ने बताया कि मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) महासचिव सीताराम येचुरी, भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (भाकपा) महासचिव डी राजा जैसे कुछ नेताओं ने इसमें कहा कि बारी-बारी से दी जाने वाली व्यवस्था के तहत भारत को जी 20 की अध्यक्षता मिली है, ऐसे में इसे सरकार की उपलब्धियों के रूप में पेश नहीं किया जाना चाहिए ।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने संबोधन में कहा कि यह ऐसा आयोजन है, जिस पर पूरे देश को गर्व होना चाहिए और इसे सफल बनाने के लिये सभी को योगदान करना चाहिए। ऐसी ही बात आज प्रधानमंत्री मोदी ने भाजपा के पदाधिकारियों की बैठक में भी कही थी । इस बीच, राष्ट्रपति भवन में हुई यह बैठक जी20 शिखर सम्मेलन को लेकर सुझाव मांगने एवं रणनीतियों पर चर्चा करने के लिये बुलाई गई थी । तृणमूल कांग्रेस की प्रमुख ममता बनर्जी ने बैठक में कहा कि जी20 की अध्यक्षता किसी एक दल का एजेंडा नहीं है, बल्कि पूरे देश का विषय है।

इस बैठक में कई राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने लिया हिस्सा लिया, जिसमें पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री एवं तृणमूल कांग्रेस अध्यक्ष ममता बनर्जी, ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक, सिक्किम के मुख्यमंत्री प्रेम सिंह तमांग, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे के अलावा दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एम के स्टालिन, आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री जगन मोहन रेड्डी शामिल हैं । बैठक में भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष जे पी नड्डा, कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे, पूर्व प्रधानमंत्री एच डी देवेगौड़ा, माकपा महासचिव सीताराम येचुरी, भाकपा महासचिव डी राजा, तेलुगू देशम पार्टी के प्रमुख चंद्रबाबू नायडू समेत अन्य नेता उपस्थित थे ।

बैठक में तेलंगाना राष्ट्र समिति(टीआरएस) प्रमुख के चंद्रशेखर राव और जनता दल (यूनाइटेड) के अध्यक्ष ललन सिंह ने हिस्सा नहीं लिया । राष्ट्रीय जनता दल (राजद) की ओर से किसी ने भी बैठक में हिस्सा नहीं लिया । इस बैठक में सरकार की ओर से गृह मंत्री अमित शाह, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण, विदेश मंत्री एस जयशंकर, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल आदि मौजूद थे । माकपा नेता येचुरी ने कहा कि जी20 की अध्यक्षता सदस्य देशों को बारी-बारी से मिलती है और इसी आधार पर स्वत: ही भारत को मिली है। कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे ने कहा कि अतीत में भारत ने गुटनिरपेक्ष आंदोलन शिखर बैठक की अध्यक्षता की थी।

भाकपा के डी राजा ने कहा कि भारत को इस अवसर का उपयोग भारत के युवाओं, किसानों की उपलब्धियों को प्रदर्शित करने के लिये करना चाहिए । संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी की ओर से करीब 40 दलों के अध्यक्षों को बैठक में आमंत्रित किया गया था। भारत ने एक दिसंबर को आधिकारिक रूप से जी20 की अध्यक्षता ग्रहण की है। इस साल दिसंबर से देश के विभिन्न स्थानों पर 200 से अधिक तैयारी बैठकों की मेजबानी किए जाने की उम्मीद है। अगले साल नौ और 10 सितंबर को नयी दिल्ली में जी20 नेताओं का शिखर सम्मेलन होना है।

इससे पहले देश के विभिन्न हिस्सों में जी20 की कई बैठकें आयोजित की जाएंगी। जी20 दुनिया की प्रमुख विकसित और विकासशील अर्थव्यवस्थाओं का एक अंतर- सरकारी मंच है। इसमें अर्जेंटीना, ऑस्ट्रेलिया, ब्राजील, कनाडा, चीन, फ्रांस, जर्मनी, भारत, इंडोनेशिया, इटली, जापान, कोरिया गणराज्य, मेक्सिको, रूस, सऊदी अरब, दक्षिण अफ्रीका, तुर्की, ब्रिटेन, अमेरिका और यूरोपीय संघ शामिल हैं। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.