Sunday, Oct 02, 2022
-->
pm modi congratulated after talking to the hockey team said made history musrnt

हॉकी टीम से बात कर PM मोदी ने दी बधाई, कहा- रच दिया इतिहास

  • Updated on 8/5/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ओलंपिक में 41 साल बाद पदक जीतने वाली भारतीय पुरुष हॉकी टीम की जीत को ‘ऐतिहासिक’ करार दिया और कहा कि आज का दिन हर भारतीय की यादों में रहेगा। प्रधानमंत्री ने  भारतीय टीम के सदस्यों से मोबाइल पर बात कर जीत की बधाई दी और कहा भारत को अपनी हॉकी टीम पर गर्व है। भारत ने एक रोमांचक मुकाबले में जर्मनी को 5-4 से पराजित कर ओलंपिक में 41 साल बाद कांस्य पदक जीता।

Tokyo Olympics: भारत ने 41 साल बाद हॉकी में जीता मेडल, 5-4 से दी जर्मनी को शिकस्त

प्रधानमंत्री ने एक ट्वीट में कहा, ‘ऐतिहासिक! आज का दिन हर भारतीय की यादों में रहेगा। कांस्य पदक भारत लाने पर पुरुष हॉकी टीम को बधाई। इस उपलब्धि से उन्होंने पूरे देश का, खासकर युवाओं का ध्यान अपनी ओर आकृष्ट किया है। भारत को अपनी हॉकी टीम पर गर्व है।’

बाद में, प्रधानमंत्री ने भारतीय हॉकी टीम के कप्तान मनप्रीत सिंह, मुख्य कोच ग्राहम रीड और सहायक कोच पीयूष दूबे से फोन पर बात की और टीम इंडिया को कांस्य पदक जीतने के लिए बधाई दी। अधिकारियों से मिली जानकारी के मुताबिक प्रधानमंत्री ने मनप्रीत सिंह से कहा, ‘आपने इतिहास रचा है।’ प्रधानमंत्री ने मनप्रीत सिंह से कहा कि आज उनकी आवाज बुलंद लग रही है जबकि कल बेल्जियम से हार के बाद वह दमखम नहीं था।

अधिकारियों के मुताबिक मनप्रीत सिंह ने भारतीय टीम की लगातार हौंसला अफजाई करने के लिए प्रधानमंत्री का धन्यवाद दिया। आठ बार की ओलंपिक चैंपियन और दुनिया की तीसरे नंबर की भारतीय टीम एक समय 1-3 से पिछड़ रही थी लेकिन दबाव से उबरकर आठ मिनट में चार गोल दागकर जीत दर्ज करने में सफल रही।

भारत के लिए सिमरनजीत सिंह (17वें मिनट और 34वें मिनट) ने दो जबकि हार्दिक सिंह (27वें मिनट), हरमनप्रीत सिंह (29वें मिनट) और रूपिंदर पाल सिंह ने एक- एक गोल किया। भारतीय टीम ने 1980 मास्को ओलंपिक में अपने आठ स्वर्ण पदक में से आखिरी पदक जीतने के 41 साल बाद ओलंपिक पदक जीता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.